नौरादेही अभ्यारण से विस्थापित हुए परिवारों को शासन से मिली लाखों रुपए की राशि सहारा इंडिया के एजेंटों ने हड़पी

अपराध, देश, राज्य

राकेश यादव, देवरी/सागर (मप्र), NIT:

नौरादेही अभ्यारण से विस्थापित हुए परिवारों को शासन से मिली लाखों रुपए की राशि सहारा इंडिया के एजेंटों ने हड़प कर ली है. ग्रामीणों की यह राशि लाखों करोड़ों रुपया में बताई जा रही है। अब राशि पाने के लिए गरीब परिवार दर-दर भटक रहे हैं। सोमवार को 2 दर्जन से अधिक लोगों ने एसडीओपी पूजा शर्मा को ज्ञापन देकर लाखों रुपए की राशि हड़प करने वाले चार लोगों पर मामला दर्ज करने और उनकी राशि वापस दिलाने की मांग की है।

ज्ञापन में उल्लेख किया गया है कि सहारा इंडिया की शाखा देवरी में पदस्थ मैनेजर डीएन राठौर सहायक प्रबंधक, गोटीराम पटेल एवं एजेंट राकेश यादव,रानू तिवारी ने एफडी के नाम पर युवराज यादव एवं कपूरे यादव से 10 लाख रुपए श्रीमती सुनीता से 3 लाख 50 हजार राजाराम से 9 लाख और 5 लाख 50 हजार खिलान से 5 लाख 19 हजार पंचम यादव 9 लाख हुकम यादव के 14 लाख रुपए पवन यादव के 2 लाख 25 हजार कमलेश बाई के 12 लाख रुपए उक्त व्यक्ति के करीब 85 रुपए की एफडी गोटी राम पटेल द्वारा सहारा इंडिया में बनवाई गई थी एफडी की समय सीमा पूर्ण होने के बाद जब आवेदकों ने जमा राशि की मांग की तो उसका भुगतान नहीं किया गया और वह चक्कर लगाते लगाते परेशान हो गए हैं इसके बाद उन्होंने सोमवार को पुलिस अधीक्षक सागर एवं एसडीओपी देवरी के नाम ज्ञापन देकर उनके साथ धोखाधड़ी कर लाखों रुपए की राशि हड़पने पर एफ आई आर दर्ज करने एवं उनकी खून पसीने की कमाई वापस दिलाने की मांग की है। ग्राम बीना निवासी कमलेश रानी यादव ने बताया कि 12 लाख रुपए सहारा इंडिया बैंक में गोटी राम पटेल और राकेश यादव ने ज्यादा ब्याज का लालच देकर एफडी कराई थी अब पैसा नहीं दे रहे हैं उनका परिवार परेशान है विस्थापन के बाद उनके जीवन की पूरी पूंजी सहारा इंडिया के एजेंटों ने धोखाधड़ी कर हड़प ली है ,मुझे राशि दिलाई जाए और इन लोगों पर कड़ी कार्यवाही की जाए वही बीना निवासी अशोक यादव ने बताया कि उनके पिताजी को गोटी राम और राकेश यादव ने धोखाधड़ी करके लाखों रुपए की राशि सहारा बैंक में जमा करवा दी अब पैसे वापस नहीं कर रहे है हमारे परिवार की स्थिति दयनीय हो गई है एक एक रुपए के लिए परेशान है उन्होंने बताया कि सहारा इंडिया के एजेंट राकेश यादव एवं गोटी राम पटेल द्वारा जमा कराई गई राशि के एवज में जो रसीदें दी गई है वह फर्जी है उनमें जमा राशि का उल्लेख नहीं है। वहीं इस मामले में एसडीओपी पूजा शर्मा ने का कहना है कि उक्त प्रकरण में थाना देवरी में पूर्व से ही 300 लोगों के आवेदन पहले से आ चुके हैं और अपराध भी पूर्व से दर्द है और इसके बाद जो आवेदन आएंगे उनको एक जाई करके इसकी विवेचना की जाएगी।

Leave a Reply