प्रदेश में विद्युत कटौती एवं यूरिया संकट को लेकर कांग्रेस विधायक हर्ष यादव का धरना प्रदर्शन, महामहिम के नाम ज्ञापन सौंपा | New India Times

राकेश यादव, देवरी/सागर (मप्र), NIT:

प्रदेश में चारों ओर बिजली कटौती से हाहाकार मचा है, यूरिया का संकट है और शिवराज सिंह मामा चेन की बंसी बजा रहे हैं। यह बात क्षेत्रीय विधायक एवं पूर्व मंत्री हर्ष यादव ने देवी विद्युत वितरण कंपनी के सब स्टेशन पर एक दिवसीय धरना प्रदर्शन के दौरान कही।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में किसान परेशान हैं क़र्ज़ के बोझ से दबा हुआ है ऐसा कोई किसान नहीं जिसके ऊपर देनदारियां ना हो, इस बार प्रकृति ने मौका दिया था। धान, मक्का और उड़द की बहुत अच्छी फसलें थी, बड़ी उम्मीद थी कि किसानों ने सपने सजाए हुए थे। लेकिन बारिश न होने से किसानों के चेहरे मुरझाए हुए हैं। हंसी गायब है, कहीं ना कहीं परेशानी का भाव दिखाई दे रहा है। हमें उम्मीद थी कि मुख्यमंत्री घोषणा करेंगे, किसानों को खराब हो चुकी फसलों का ₹40 हजार हेक्टेयर के हिसाब से मुआवजा की मांग पूरी करेंगे। लेकिन आज दिनांक तक ऐसा आदेश जारी नहीं हो सका, जिससे शिवराज मामा का किसान विरोधी चेहरा दिखाई देता है।

गांव गांव में एक हफ्ते से बिजली कटौती हो रही है जिनके पास कुएं में नदी नाली और बोरवेल में पानी है वह है सिंचाई कर फसलें बचाने का प्रयास कर रहे हैं लेकिन हालात है कि गांव में जमकर कटौती हो रही है। 150 से अधिक ट्रांसफार्मर देवरी क्षेत्र में जले पड़े हैं विद्युत विभाग के अधिकारियों का जवाब रहता है कि ट्रांसफार्मर उपलब्ध नहीं है, क्योंकि तीनों मंत्रियों के पेट भरने की फुर्सत अधिकारियों को नहीं है। ऐसी हालत में किसान आत्महत्या के कगार पर पहुंच गए हैं। गांव में एक हफ्ते से बिजली की कटौती इस भीषण गर्मी में हो रही है और शहरों में बिजली दी जा रही है यह भेदभाव भाजपा सरकार लोगों के साथ कर रही है जिससे हर वर्ग परेशान हैं।

विधायक हर्ष यादव ने कहा कि हालत है कि चारों ओर हाहाकार मचा है यूरिया खाद का संकट है और शिवराज सिंह चैन की बंसी बजा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि जब तक देवरी विधानसभा समेत सागर जिले को सूखाग्रस्त घोषित नहीं किया जाता है। तब तक यह लड़ाई लड़ी जाएगी। यदि एक सप्ताह के अंदर जले हुए ट्रांसफार्मर नहीं बदले गए, तो उग्र आंदोलन किया जाएगा और किसान सड़कों पर उतरेंगे। विधायक हर्ष यादव ने कहा कि आज कांग्रेस की सरकार होती तो कोई भी किसान ऐसा नहीं बचता जिस पर कर्ज होता, लेकिन दुर्भाग्य की बात है कि कांग्रेस की 15 महीना सरकार चली। भाजपा कहती है कि कांग्रेस सरकार ने कर्ज माफ नहीं किया है तो 11000 करोड़ रुपए मध्य प्रदेश सरकार ने किसानों के खाते में डाले हैं तो वह कहां गया? उन्होंने कहा कि आगामी चुनाव में कांग्रेस की फिर से सरकार बनेगी और सभी किसानों का कर्ज माफ होगा। पांच हार्स तक बिजली का बिल नहीं देना पड़ेगा। इसके बाद विभिन्न 9 सूत्रीय मांगों को लेकर एक ज्ञापन राज्यपाल के नाम नायब तहसीलदार आरके चौधरी को सौंपा गया।

ज्ञापन लेने एसडीएम नहीं आए तो विधायक ने लगाई फटकार:- धरना स्थल पर ज्ञापन लेने के लिए एसडीएम नहीं पहुंचे तो विधायक ने नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए कहा कि यह प्रोटोकॉल का उल्लंघन है। उन्होंने कहा शिष्टाचार अधिनियम के तहत विधायक जब ज्ञापन देता है तो कलेक्टर या एसडीएम ज्ञापन लेते हैं लेकिन लंबे समय से यह परिपाटी बनी गई है कि ज्ञापन लेने के लिए एसडीएम नहीं आते हैं।

इस दौरान विद्युत मंडल के अधिकारियों से जब पूछा गया कि ग्रामीण अंचलों में कितने ट्रांसफार्मर जले हैं तो अधिकारी बताने में असमर्थ रह गए। एक अधिकारी ने 8 ट्रांसफार्मर जले होने की बात कही।
जिस पर विधायक ने कहा कि पूरे क्षेत्र में डेढ़ सौ से अधिक ट्रांसफार्मर जले हैं विद्युत मंडल के अधिकारी अपने लाईनमैनों से जानकारी एकत्रित कारण और शीघ्र ट्रांसफार्मर बदलने का काम करें। विद्युत मंडल के अधिकारियों ने आश्वासन दिया कि एक सप्ताह के अंदर खराब पड़े ट्रांसफार्मर बदल दिए जाएंगे।


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

By nit

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading