शासन-प्रशासन की मौन सहमति से करीब एक माह से जेसीबी मशीन द्वारा जारी है अवैध खनन

अपराध, देश, भ्रष्टाचार, राज्य

वी.के.त्रिवेदी, ब्यूरो चीफ, लखीमपुर खीरी (यूपी), NIT:

सत्ता पक्ष के सफेदपोश व खनन माफिया तथा खनन अधिकारी सहित राजस्व अधिकारियों की अप्रत्यक्ष सहमति से मिट्टी खनन क्षेत्र में खुलेआम बेखौफ होकर धरती मां के सीने को छलनी कर रहे हैं। सत्ता पक्ष की एक माननीय के वरदहस्त व चंद कागज़ के टुकड़ों के खातिर इन काले कारोबारियों के विरुद्ध कार्यवाही करने के बजाय इनका साथ निभाते देखे जा सकते हैं। जैसा कि पिछले दिनों 19 मार्च 2019 को गुलरिया क्षेत्र में गुलरिया चीनी मिल में बन रहे नये अल्कोहल प्लांट में मिट्टी पटाव के लिए गुलरिया क्षेत्र में जेसीबी द्वारा हो रहे जगह जगह अवैध खनन के बारे में उपजिलाधिकारी गोला से वार्ता की तो बताया कि यह मामला हमारे संज्ञान में नही था जैसे ही कोई खनन का मामला हमारे संज्ञान में आएगा उसकी जांच कर खनन माफियाओं के खिलाफ उचित कार्यवाही की जाएगी।
आज लगभग दो सप्ताह से गुलरिया चीनी मिल में मिट्टी पटाव जारी है, लेकिन आज तक प्रशासन द्वारा इस खनन पर कोई भी अंकुश नहीं लगा पा रहा है। प्रशासन खनन पर रोक लगाने में नकारा साबित हो रहा है। परिणाम स्वरूप सरकार की रोक के बावजूद उन्हीं की पार्टी को कुछ सफेदपोश धारी माननीय द्वारा मिट्टी खनन की साझेदारी लेकर अपने ही मुख्यमंत्री के आदेशों की थू–थू कराने में लगे हैं जिससे माननीय खनन माफिया और खनन अधिकारी सहित कई थानेदार व चौकी प्रभारी मालामाल हो रहे हैं पर किसानों की जमीन की उर्वरा शक्ति क्षीण जरूर हो रही है। प्रशासन की मुंह सहमति से जनपद के कई स्थानों पर खुलेआम अवैध तरीके से मिट्टी का खनन किया जा रहा है।
ताजा मामला कोतवाली भीरा के अंतर्गत रुदपुर गुलरिया का है जहां अनूप यादव पुत्र राजाराम यादव का एक प्लाट रुदपुर के पूर्व पहड़ापुर गांव के समीप है जिसमें आज जेसीबी मशीन द्वारा रात में बेखौफ होकर अवैध खनन किया जा रहा है, बराबर चल रही ट्रालियों की वजह से ग्राम वासियो की नींद हराम हो गई हैं। रात भर चल रही धड़ धड़ करती निकल रही ट्रालियों से लोग परेशान हैं। वही बिना परमिशन के रात रात भर अवैध खनन किया जा रहा है। परमिशन न बनवाने से राजस्व विभाग व सरकार के सरकारी खजाने की खुलेआम चोरी की जा रही है।
खनन माफिया गांव के बीच से ट्राली निकालते हैं जिससे रोड़ पर फैली मिट्टी से हवा चलने पर धूल उड़ती है, जिससे हर तरफ वायु प्रदूषण भी बढ़ रहा है, वही रास्ते की सभी रोड़ें भी खराब हो गई हैं।
जानकारी के अनुसार ये जेसीबी मशीन व ट्रालियां लल्लन निवासी दाउदपुर की बताई जा रही है जिसे गुलरिया गांव के (मौजूदा कोटेदार) जिलेदार के द्वारा चलवाई जा रही है। जब इसकी जानकारी देने के लिए एसडीएम गोला को फोन लगाया गया तो एसडीएम का फोन नहीं उठा, उसके बाद तहसीलदार गोला से वार्ता की गई तब उन्होनें अश्वासन दिया कि अभी कोतवाली भीरा फोन करके कार्य को रुकवा रहा हूँ लेकिन अभी तक बराबर मशीन चल रही है। जब इसकी जानकारी के लिए जिला खनन अधिकारी से वार्ता करने के लिए फोन किया तो उनका फोन नहीं उठा, उसके बाद उत्तरप्रदेश खनन मंत्री का जब नंबर लगाया गया तब फोन मंत्री साहब के लड़के ने रिसीव किया और मंत्री जी का दूसरा नंबर दिया लेकिन उस नंबर पर भी किसी कारण वश बात नहीं हो सकी। मिली जानकारी के अनुसार आज चार दिन से बिना परमिशन के जिलेदार द्वारा अवैध खनन करवाया जा रहा है वही पुलिस देखकर भी अनदेखा कर रही है। जिससे प्रतीत होता है कि सभी रिसवत रूपी बूटी के आगे नतमस्तक है। अब देखना ये है कि राजस्व विभाग की तरफ से अवैध खनन माफियाओं की जेसीबी मशीन व ट्रालियों का चालान किया जाएगा या यूं ही सब सुविधा शुल्क लेकर छोड़ दिया जाएगा।समाचार लिखे जाने तक जेसीबी मशीन व ट्रालियां बराबर चल रही थी।

Leave a Reply