विंध्य की बेटी: मुहावरों से झलकती ममता" किताब का विमोचन करेंगे कमलनाथ | New India Times

जमशेद आलम, ब्यूरो चीफ, भोपाल (मप्र), NIT:

विंध्य की बेटी: मुहावरों से झलकती ममता" किताब का विमोचन करेंगे कमलनाथ | New India Times

मध्य प्रदेश और खासकर विंध्य क्षेत्र के मुहावरों और कहावतों को समेट कर स्वर्गीय श्रीमती सरोज कुमारी ने एक अनूठा और अनोखा मुहावरा और कहावत संग्रह तैयार किया। इसे तैयार करने में उन्होंने अपने जीवन के कई महत्वपूर्ण वर्ष खर्च किए और इस तरह से बघेलखंड की संस्कृति और परंपरा का एक रुचिकर और लोक स्वीकृत दस्तावेज़ तैयार किया। इस दस्तावेज़ को अर्जुन सिंह सद्भावना फाउंडेशन ने एक पुस्तक के स्वरूप में समाज के सामने प्रस्तुत किया है। पूर्व मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ 12 अगस्त को रविंद्र भवन में इस पुस्तक का विमोचन करेंगे।

पूर्व मुख्यमंत्री श्री अर्जुन सिंह जी की सुपुत्री श्रीमती वीणा सिंह ने बताया कि उनकी माताजी श्रीमती सरोज कुमारी ने लंबे परिश्रम के बाद यह पुस्तक तैयार की। पत्रकार वार्ता में विधानसभा के पूर्व उपसभापति श्री राजेंद्र सिंह, मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष श्री राजीव सिंह और श्री सैम वर्मा उपस्थित थे।
श्रीमती वीणा सिंह ने कहा कि सबकी इच्छा थी कि माता जी के जीवन में ही यह पुस्तक प्रकाशित हो जाए लेकिन कुछ कारण बस इसके प्रकाशन में समय लगा।
इस पुस्तक का विमोचन 12 अगस्त को भोपाल के रविंद्र भवन के अंजनी हाल में पूर्व मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ करेंगे।

पुस्तक के लिए कांग्रेस पार्टी की सर्वोच्च नेता श्रीमती सोनिया गांधी, श्री कमलनाथ, पूर्व मुख्यमंत्री श्री दिग्विजय सिंह, साहित्यकार श्री अशोक बाजपेई, श्री विवेक तंखा सहित प्रतिष्ठित और प्रबुद्ध लोगों ने अपने संस्मरण और शुभकामना संदेश भेजें हैं, जो पुस्तक में शामिल किए गए हैं।
पुस्तक में बघेली भाषा की 151 कहावतों को शामिल किया गया है। इन मुहावरों और कहावतों का स्वरूप इस प्रकार का है कि इन्हें हिंदी साहित्य में उचित स्थान दिया जा सकता है।
यह किताब हिंदी भाषा को समृद्ध करने और बघेली भाषा के सौंदर्य को जन-जन तक पहुंचाने में महत्वपूर्ण साबित होगी।

अपनी मां की स्मृति को प्रणाम करते हुए श्रीमती वीणा सिंह ने कहा कि वह पुस्तक के लिए संदेश भेजने और संस्मरण लिखने वाले सभी प्रतिष्ठित व्यक्तियों का आभार व्यक्त करती हैं। उन्होंने कहा कि उनकी माताजी श्रीमती सरोज कुमारी का विवाह 13 वर्ष की अल्पायु में श्री अर्जुन सिंह जी से हुआ था। मेरी माता जी स्वाभिमानी महिला थी जिन्होंने कभी भी सम्मान से समझौता नहीं किया। इस किताब में एक प्रसंग का जिक्र है, जिसमें जनता पार्टी के नेता ने श्रीमती सरोज कुमारी से कहा कि वह श्री अर्जुन सिंह के समक्ष कांग्रेस छोड़कर जनता पार्टी में शामिल होने का प्रस्ताव रखें। इस पर श्रीमती सरोज सिंह ने कहा था कि अर्जुन सिंह जी के कांग्रेस छोड़ने का सवाल ही नहीं उठता यदि कभी अर्जुन सिंह जी कांग्रेस छोड़ेंगे तो उससे पहले मैं उन्हें छोड़ दूंगी। तब उस व्यक्ति ने कहा कि मैं तो मजाक कर रहा था।

श्रीमती वीणा सिंह ने बताया कि मेरी मां मुहावरे के माध्यम से हमेशा बात करती थी तो एक दिन मैंने उन्हें सुझाव दिया कि आप रोज लिखा कीजिए। मेरी बात को सहज रूप से उन्होंने स्वीकार किया। उन्होंने डायरी के साथ-साथ रोज कई मुहावरों को लिखने का अभ्यास शुरू किया। मैंने उनसे वादा किया था कि मैं उनके मुहावरे प्रकाशित करूंगी। उनके जीवन काल में उसको प्रकाशित नहीं कर सकी। इसका मुझे आज तक दुख है। मुहावरों को एकत्रित करने का मैंने प्रयास किया है। आशा है उनके द्वारा लिखित इन संगठनों से आने वाली पीढ़ी काफी लाभान्वित होगी। अर्जुन सिंह सद्भावना फाउंडेशन के मुख्य ट्रस्टी श्रीमती मोहसिना किदवई श्री दिग्विजय सिंह श्री कमलनाथ श्री विवेक तंखा श्री श्याम वर्मा डॉ राजेंद्र कुमार सिंह और श्रीमती वीणा सिंह है। फाउंडेशन पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय अर्जुन सिंह से जुड़े साहित्य और दस्तावेजों के प्रकाशन का कार्य करती है।
धन्यवाद

By nit

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading