डॉयल 100 के प्रभावी संचालन हेतु ग्वालियर-चम्बल जोन के पुलिस अधिकारियों के लिये एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का किया गया आयोजन | New India Times

पवन परूथी, ग्वालियर (मप्र), NIT:

डॉयल 100 के प्रभावी संचालन हेतु ग्वालियर-चम्बल जोन के पुलिस अधिकारियों के लिये एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का किया गया आयोजन | New India Times

पुलिस कंट्रोल रूम ग्वालियर सभागार में ग्वालियर एवं चम्बल जोन के थाना प्रभारियों एवं जिलों के रेडियो प्रभारियों का डायल-100 का एक दिवसीय प्रशिक्षण सेमीनार आयोजित किया गया। उक्त सेमीनार का शुभारंभ पुलिस महानिरीक्षक ग्वालियर जोन श्री अरविन्द सक्सेना, भापुसे द्वारा किया गया। सेमीनार के प्रारम्भ में पुलिस अधीक्षक (रेडियो) श्री विनायक शर्मा द्वारा पुलिस महानिरीक्षक ग्वालियर जोन एवं पुलिस अधीक्षक ग्वालियर का पुष्पगुच्छ देकर स्वागत किया गया। तद्उपरान्त एसपी रेडियो द्वारा सेमीनार की रूपरेखा से मुख्य अतिथि सहित उपस्थित पुलिस अधिकारियों को अवगत कराया गया। पुलिस महानिरीक्षक ग्वालियर जोन द्वारा अपने उद्बोधन में कहा कि समस्त पुलिस अधिकारीगण डायल 100 सेवा को और बेहतर करने की दिशा में पूरे मनोयोग से प्रशिक्षण प्राप्त करें एवं कार्यक्षेत्र में जाकर अपनी व्यवसायिक दक्षता को बढ़ायें। एसपी रेडियो द्वारा उपस्थित मुख्य अतिथि आईजी ग्वालियर एवं एसपी ग्वालियर को स्मृति चिन्ह भेंट किया।

डॉयल 100 के प्रभावी संचालन हेतु ग्वालियर-चम्बल जोन के पुलिस अधिकारियों के लिये एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का किया गया आयोजन | New India Times

सेमीनार में पुलिस अधीक्षक ग्वालियर श्री राजेश सिंह चंदेल,भापुसे द्वारा उपस्थित प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए कहा कि डायल 100 के रिस्पोंस टाइम को कम करने एवं जनसामान्य में पुलिस की छवि को सुदृढ़ करने हेतु पुलिस स्टॉफ द्वारा पूरी ईमानदारी व गंभीरता से कार्यवाही किया जाना चाहिए। साथ ही उन्होंने  रियल टाइम में ग्वालियर में तैनात एफआरव्ही द्वारा की जा रही कार्यवाही का भी लाइव डेमो देखा और पुलिस अधिकारियों को प्रशिक्षण का व्यवहारिक ज्ञान प्राप्त करने के लिये प्रोत्साहित किया।

डॉयल 100 के प्रभावी संचालन हेतु ग्वालियर-चम्बल जोन के पुलिस अधिकारियों के लिये एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का किया गया आयोजन | New India Times

इस प्रशिक्षण के लिये मुख्यालय भोपाल से आये प्रशिक्षकगण निरीक्षक गजेन्द्र सिंह रघुवंशी एवं प्र0आर0 शैलेन्द्र सिंह एवं ग्वालियर जोनल स्तर के प्रशिक्षकों द्वारा म०प्र० शासन की डायल 100 योजना के बारे में मूलभूत जानकारी से लेकर डायल-100 का विवेचना में उपयोग, आपत्तिजनक कॉलर पर कार्यवाही, सी.एम. हेल्प लाइन शिकायतों के निराकरण में डायल-100 की भूमिका, डायल-100 वाहनों के दुरुपयोग को रोकना आदि महत्वपूर्ण विषयों पर विशेषज्ञों ने प्रशिक्षण प्रदान किया। डायल-100 वाहनों का सही व उचित तरीके से जनसामान्य के जनउपयोगी होने एवं जनसामान्य द्वारा डायल-100 के माध्यम से दर्ज शिकायत/समस्याओं पर पुलिस द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुये समस्या के समाधान में गुणोत्तर वृद्धि किया जाना इस सेमिनार का मुख्य उद्देश्य रहा।

डॉयल 100 के प्रभावी संचालन हेतु ग्वालियर-चम्बल जोन के पुलिस अधिकारियों के लिये एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का किया गया आयोजन | New India Times

सेमीनार के दौरान प्रशिक्षणार्थियों से फीड बैक लिया गया और प्रशिक्षण के दौरान रूचि पूर्वक प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले तीन पुलिस अधिकारियों उप निरीक्षक रमाकांत उपाध्याय, उप निरीक्षक रवि प्रताप सिंह, सउनि ज्ञान सिंह वर्मा को स्मृति चिन्ह प्रदाय किया गया। सेमीनार का समापन अति0 पुलिस अधीक्षक ग्रामीण श्री निरंजन शर्मा द्वारा किया गया। इस प्रशिक्षण में ग्वालियर एवं चम्बल जोन के कुल 115 थाना प्रभारी व टूआईसी ने प्रशिक्षणार्थी के रूप में भाग लिया।

डॉयल 100 के प्रभावी संचालन हेतु ग्वालियर-चम्बल जोन के पुलिस अधिकारियों के लिये एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का किया गया आयोजन | New India Times

उक्त सेमीनार में पुलिस अधीक्षक (रेडियो) श्री विनायक शर्मा के साथ डीएसपी (रेडियो) श्री एम0एस0 श्रीवास्तव, डीएसपी (रेडियो) श्री आर0के0एस0 कुशवाह, निरीक्षक(रेडियो) श्री प्रभाकर पाराशर, निरीक्षक अजय श्रीवास्तव, निरीक्षक श्री भारत सिंह एवं अन्य पुलिस अधिकारियों की गरिमामय उपस्थिति एवं मार्गदर्शन में सफलतापूर्वक आयोजित किया गया।

By nit

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading