ऊनी कपड़े पाकर ख़ुशी से झूम उठे बच्चे, चेतना संस्था का किया शुक्रिया अदा | New India Times

रहीम शेरानी हिन्दुस्तानी, ब्यूरो चीफ, झाबुआ (मप्र), NIT:

ऊनी कपड़े पाकर ख़ुशी से झूम उठे बच्चे, चेतना संस्था का किया शुक्रिया अदा | New India Times

उत्तर भारत में चलने वाली सर्द हवाओं ने आम जन का हाल बेहाल कर रखा है इसके साथ ही साथ प्रति दिन पारा तेजी से गिर रहा है। इससे लोगों की हालत ख़राब हो रही है किन्तु सबसे ज्यादा इस समस्या से सड़क एवं कामकाजी बच्चे जूझ रहे हैं। चेतना संस्था (चाइल्डहुड एनहांसमेंट थ्रू ट्रेनिंग एंड एक्शन) हर समय तैयार रहती है अर्थात सर्दी ने जैसे ही अपना जोर पकड़ा वैसे ही गर्म और ऊनी कपड़ों की आवश्यकता होने लगी और इस चुभने वाली ठंड में बहुत से बच्चों को बिना गर्म कपड़े पहने देखा गया।

ऊनी कपड़े पाकर ख़ुशी से झूम उठे बच्चे, चेतना संस्था का किया शुक्रिया अदा | New India Times

इस लिए ऐसे जरूरतमंद बच्चों के लिए चेतना संस्था ने “गर्मी की झप्पी” कार्यक्रम की शुरुआत की। इस कार्यक्रम का उद्देश्य दिल्ली नॉएडा, गुरुग्राम और जयपुर में ऐसे लगभग 3000 बच्चों को गर्म कपड़े प्रदान करना है। चेतना संस्था द्वारा गुरुग्राम में झुग्गी बस्तियों में संचालित 11 वैकल्पिक शिक्षा केंद्रों में पढ़ने वाले सड़क एवं कामकाजी बच्चों के साथ साथ सड़क किनारे, बस स्टॉप, रेन वसरो में रहने वाले बच्चों को जैकेट और गर्म कपड़े वितरित किये गए। इस कार्यक्रम में केंद्र के अंतर्गत आने वाले विद्यालय के प्राद्याचार्य एवं पुलिस अधिकारी को मुख्य अतिथि के रूप में बुलाया गया और उनके कर कमलों से बच्चों को जैकेट वितरित करवाए गए तथा जैकेट पाकर बच्चों के चेहरे ख़ुशी से खिल उठे। थानाधिकारी ने बच्चों को अपराध और गलत कार्यों से दूर रहने और अच्छा व्यक्ति बनने की शिक्षा दी। वहीं प्रधानाचार्यों ने बच्चों को नियमित स्कूल जाने के लिए प्रेरित किया और सरकारी योजनाओं के बारे में बताया।

ऊनी कपड़े पाकर ख़ुशी से झूम उठे बच्चे, चेतना संस्था का किया शुक्रिया अदा | New India Times

संस्था के प्रोजेक्ट को ऑर्डिनेटर राजेंद्र कुमार ने बताया कि संस्था की ओर से कामकाजी बच्चों के लिए गुरुग्राम में 11 अलग अलग इलाकों में वैकल्पिक शिक्षा केंद्र खोले गए हैं।
यहाँ पर उन बच्चों को पढ़ाया जाता है जो पहले कहीं न कहीं काम करते थे। इन्हें समाज की मुख्य धरा से जोड़ने के लिए पढ़ाया जा रहा है। हर एक सेंटर पर एक एडुकेटर लगाया गया है जो इन बच्चों को पढ़ता है और स्कूल के लिए तैयार करता है जब ये बच्चे स्कूल जाने के लिए तैयार हो जाते हैं तब इनका सरकारी स्कूल में दाखिला करवाया जाता है। इन सेंटरों में लगभग 800 बच्चे शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं साथ ही साथ लगभग 380 बच्चों का सरकारी स्कूल में दाखिला करवाया गया है।

गर्मी के झप्पी कार्यक्रम में संस्था से आवेग वर्मा, सुवरोजित दस, रजनी, कोमल, ममता जयवीर, मनीष और अन्य समस्त सदस्य मौजूद रहे।


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts to your email.

By nit

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading