बन्द होती खदानें, उजड़ते व्यापार, बेरोजगारी के चलते व्यापारी मंडल दमुआ का बन्द रहा सफल | New India Times

रफीक़ आलम, दमुआ/छिंदवाड़ा (मप्र), NIT:

बन्द होती खदानें, उजड़ते व्यापार, बेरोजगारी के चलते व्यापारी मंडल दमुआ का बन्द रहा सफल | New India Times

व्यापारी मंडल के आह्वान पर दमुआ की समस्त छोटी बड़ी दुकान बन्द रही। सभी व्यापारियों ने समझ लिया है कि बगैर सड़क पर उतरे अपना विरोध प्रदर्शन दर्ज नहीं कराया तो दमुआ क्षेत्र की दयनीय स्थिति को ठीक नहीं किया जा सकता। इसलिए व्यापारी मंडल ने चरणबद्ध तरीके से इस स्थिति को ठीक करने के लंबी लड़ाई के लिए तैयार है। लंबे समय से मुक दर्शक बना व्यापारी लगातार बेवजह बंद होती खदानों का नजारा देख रहा है। श्रमिक संगठन के वक्ताओं ने बताया कि इस क्षेत्र में लाखों टन कोयला होने के बावजूद भी किसी सोची समझी रणनीति के तहत खदानों को बंद किया जा रहा है।

व्यापारी सभी संगठन और आम जनता मिलकर आवाज बुलंद किया तो न निश्चित ही इस क्षेत्र के अच्छे दिन आ सकते हैं। उजड़ते क्षेत्र से हर आदमी प्रभावित होगा। हर घर में बेरोजगार नौजवान बैठा है। इसलिए यह मुद्दा हर आम आदमी का है। दमुआ बंद के दौरान सभी व्यापारी ने दुकान बंद कर बैरियर चौक पर उद्बोधन के माध्यम से विरोध दर्ज कराया। और जुलूस की शक्ल पर थाना दमुआ में महामहिम राज्यपाल के नाम नायब तहसीलदार राजीव नेमा को ज्ञापन प्रेषित किया। जिसमें बंद होती खदानों को खुलवाने, दमुआ को तहसील व जनपद बनाने की मांग रखी है। मांग पूरी ना होने की स्थिति में मतदान का बहिष्कार करने का भी ऐलान किया गया है। इस बन के समर्थन मे श्रमिक संगठन, सामाजिक संगठन धार्मिक संगठन, आम आदमी पार्टी, एवं पत्रकारों ने भी समर्थन किया।

By nit

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d