सफाई कर्मियों की हड़ताल के तीसरे दिन निगम के विभिन्न विभाग के आउटसोर्स कर्मी भी समर्थन में उतरे, निगम में दिया धरना | New India Times

मेहलक़ा इक़बाल अंसारी, ब्यूरो चीफ, बुरहानपुर (मप्र), NIT:

सफाई कर्मियों की हड़ताल के तीसरे दिन निगम के विभिन्न विभाग के आउटसोर्स कर्मी भी समर्थन में उतरे, निगम में दिया धरना | New India Times

अखिल भारतीय सफाई मजदूर कांग्रेस ट्रेड यूनियन के अंतर्गत आज तीसरे दिन हड़ताली सफाई कर्मचारियों ने निगम कार्यालय का घेराव कर धरना दिया और निगम प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। बता दे कि अभी तक हड़ताली कर्मचारियों की मांगों का निराकरण नहीं हुआ। वहीं सफाई कर्मचारियों के बाद ठेका पद्धति (आउटसोर्स) में कार्य करने वाले निगम कार्यालय के सभी विभागों के कर्मचारीयों ने भी सफाई कर्मचारियों की हड़ताल को अपना समर्थन देते हुए आज बुधवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल कर दी है।

उनका भी कहना है कि आउटसोर्स बंद कर सभी कर्मियों को नौकरियों पर रखा जाए। 200 से अधिक सफाई कर्मचारियों के साथ अन्य विभागों के कर्मियों ने भी निगम कार्यालय में जमकर नारेबाजी की। आउटसोर्स कर्मचारी अध्यक्ष सुशील पाटिल ने बताया कि डोर टू डोर कचरा उठाने वाले वाहन, कंप्यूटर ऑपरेटर, जलकर विभाग, विद्युत विभाग व आउटसोर्स के अन्य कर्मी भी मांगें पूरी होने तक हड़ताल जारी रखेंगे। प्रदेश महामंत्री कालु जंगाले ने बताया कि हमारी जाइज़ मांगें वर्षों से लंबित चली आ रही है, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

जिसको देखते हुए प्रदेश के 2 लाख और जिले के 500 सफाई कर्मचारियों के साथ अब निगम के अन्य विभागों के कर्मियों ने भी हड़ताल कर दी है, जोकि मांगें पूरी होने तक जारी रहेगी। सरकार 18 सूत्री मांगों का जल्द निराकरण करे अन्यथा की स्थिति में आगामी चुनाव का प्रदेश स्तर पर बहिष्कार करेंगे। उन्होंने बताया कि प्रदेश में लगभग 2 लाख सफाई कर्मचारी कार्यरत है यह सभी कर्मचारी प्रदेश स्तर पर उग्र आंदोलन भी करेंगे, उन्होंने बताया कि ठेका पद्धति बंद कर अनुकंपा नियुक्ति दी जाए और सभी कर्मचारियों को नौकरियां पर रखा जाए क्योंकि ठेके में बहुत भ्रष्टाचार हो रहा है। लगभग 300 लोग मौजूद रहें।


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts to your email.

By nit

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading