बरेली से अयोध्या तक पशुपालकों की उन्नति के द्वार खोलेगा खीरी का अतिहिमीकृत वीर्य उत्पादन केंद्र: धर्मपाल | New India Times

वी.के. त्रिवेदी, ब्यूरो चीफ, लखीमपुर खीरी (यूपी), NIT:

बरेली से अयोध्या तक पशुपालकों की उन्नति के द्वार खोलेगा खीरी का अतिहिमीकृत वीर्य उत्पादन केंद्र: धर्मपाल | New India Times

बुधवार को खीरी को अतिहिमीकृत वीर्य उत्पादन केंद्र के तहत वीर्य विधायन प्रयोगशाला की सौगात मिली। यूपी के पशुधन एवं दुग्ध विकास, राजनैतिक पेंशन, अल्पसंख्यक कल्याण, मुस्लिम वक्फ एवं हज तथा नागरिक सुरक्षा विभाग के मंत्री धर्मपाल सिंह ने एसीएस डॉ रजनीश दुबे, डीएम महेंद्र बहादुर सिंह, विशेष सचिव देवेंद्र पांडेय, शिवसहाय अवस्थी, निदेशक पशुपालन डॉ इंद्रमणि संग शिलापट का अनावरण, फीता काटकर “वीर्य विधायन प्रयोगशाला” का शुभारंभ किया।

इसके बाद कबीना मंत्री में अपर मुख्य सचिव, डीएम एवं विशेष सचिव संग “वीर्य विधायन प्रयोगशाला” का अवलोकन किया। उन्होंने यूपीएलडीबी के सीईओ डॉ नीरज गुप्ता, संयुक्त निदेशक डीएफएस मझरा डॉ जगदीश प्रसाद से प्रयोगशाला में लगी अत्याधुनिक मशीनों की क्रियाशीलता, उपयोगिता जानते हुए पूरी वर्किंग समझी। उन्होंने प्रयोगशाला में कार्यरत स्टाफ से भी संवाद करते हुए पूर्ण मनोयोग से काम करने की बात कही। इसके बाद कबीना मंत्री ने अतिहिमीकृत वीर्य उत्पादन केंद्र परिसर में आयोजित कार्यक्रम का दीप जलाकर शुभारंभ किया। पशुपालन विभाग की कार्मिक रोशनी ने सरस्वती वंदना एवं स्वागत गीत प्रस्तुत किया। इस दौरान मंत्री ने दो प्रगतिशील पशुपालकों एवं पांच कृत्रिम गर्भाधान कार्यकर्ताओं को पुरस्कार एवं प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। कार्यक्रम का सफल संचालन डिप्टी सीईओ डॉ हनी सक्सेना ने किया।

पशुपालन मंत्री धर्मपाल सिंह ने कहा कि खीरी भगवान भोले की धरा है। इस तपस्वी भूमि को नमन करता हूं। यह ऋषि और कृषि की भूमि है। पीएम के सपनों का उप्र बनाने के लिए मुख्यमंत्री के नेतृत्व में हम-सब काम कर रहे। इस केंद्र के शुरू होने से बरेली से अयोध्या तक के पशुपालकों को लाभ मिलेगा। किसानों का आवाहन किया कि वह गाय-भैंस का कृत्रिम गर्भाधान कराए, ताकि उत्पादन बढ़े। सरकार ने सेक्स सीमेन की कीमत को कम करते हुए ₹100 किया। पशुपालक सरकारी योजनाओं से जुड़कर विभिन्न स्तर पर आय दोगुनी कर सकते हैं। सरकार किसान, पशुपालकों को मुर्रा भैंस का मुफ्त सीमन दे रही। लंपी बीमारी को जिस कुशलता, प्रबंधन से नियंत्रित किया। उसकी पूरे राष्ट्र में प्रशंसा हो रही। गांव समृद्धि से ओतप्रोत हो, इसके लिए व्यापक स्तर पर प्रयास जारी है। प्रशासन अभियान चलाकर समूह की महिलाओं को डेयरी डेवलपमेंट से जोड़े। उन्नतशील गाय पालने पर किसानों को सरकार मदद कर रही। समूचे उप्र में कानून का राज स्थापित है। सरकार जीरो टॉलरेंस पर काम कर रही है।

रेलवे, एयरवेज, रोडवेज के क्षेत्र में कनेक्टिविटी के नए आयाम स्थापित कर रही। अपर मुख्य सचिव डॉ रजनीश दुबे ने कहा कि आज का दिन मझरा व लखीमपुर के लिए ऐतिहासिक है, जो मील का पत्थर साबित होगा। इस केंद्र में मुर्रा प्रजाति के वीर्य का विनिर्माण किया जाएगा। बरेली से अयोध्या तक भैंसों में नस्ल सुधार के लिए खीरी का यह केंद्र हब बनकर उभरेगा। खीरी ने जो प्रकाश दिखाया, वह 17 ज़िलों तक जाएगा। यहां अत्याधुनिक मशीनें लगी हैं, जो विशेषज्ञों की देख-रेख में ऑपरेट होगी। दिसंबर तक यह पूरी क्षमता से काम करेगा, इससे दुग्ध उत्पादन में उत्तरोत्तर प्रगति होगी। आज मोबाइल वेटरनरी यूनिट गांव में ही तमाम समस्याओं का समाधान कर रही। उन्होंने किसानों से टोल फ्री नंबर पूछा। जिसपर किसानों ने 1962 नंबर बताया। प्रदेश में स्किन रोग को बेहतर प्रबंधन से नियंत्रित किया, जिसके चलते प्रदेश को इस्कोच अवार्ड मिला। गाय का सेवक यह विभाग तेजी से आगे बढ़ चुका है।

उन्होंने नंदिनी कृषक समृद्धि योजना सहित पशुपालन विभाग की विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं का जिक्र किया। गौ सेवा मोक्ष, पौष्टिक आहार एवं आमदनी बढ़ाने का साधन है। जिन प्रगतिशील पशुपालकों, गर्भाधान कार्यकर्ताओं को सम्मानित किया गया। वह बधाई के पात्र हैं, इसी तरीके से आप आगे बढ़े। यह सिलसिला लगातार बढ़ता रहे।कार्यक्रम में यूपीएलडीबी के सीईओ डॉ नीरज गुप्ता ने कार्यक्रम की आवश्यकता एवं प्रासंगिकता बताइ। दुग्ध उत्पादकता बढ़ाने के लिए प्रजनन बढ़ाना होगा। किसानों को कृत्रिम गर्भाधान एवं वर्गीकृत वीर्य के इस्तेमाल करने के लिए प्रेरित एवं प्रोत्साहित किया। यह केंद्र पशुपालकों की उन्नति के द्वार खोलेगा। कार्यक्रम के अंत में डीएम महेंद्र बहादुर सिंह ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

कबीना मंत्री ने किया प्रगतिशील पशुपालन को सम्मानित, खिले चेहरे उत्कृष्ट कार्य के लिए 05 कृत्रिम गर्भाधान कार्यकर्ता सम्मानित सूबे के पशुधन मंत्री धर्मपाल सिंह ने अपर मुख्य सचिव (पशुपालन) डॉ रजनीश दुबे के साथ ज़िले के प्रगतिशील पशुपालन परमजीत सिंह एवं सीमा देवी को अधिक दुग्ध उत्पादन के लिए प्रशस्ति पत्र एवं पुरस्कार देकर सम्मानित किया। कबीना मंत्री ने खीरी कृतिम गर्भाधान कार्यकर्ता मैत्री पद पर कार्यरत जदुनाथ, श्रवण कुमार, विवेक सिंह व पशुधन प्रसार अधिकारी राधेश्याम वर्मा व रामगोपाल को उत्कृष्ट कृत्रिम गर्भाधान के लिए प्रशस्ति पत्र एवं टैबलेट देकर सम्मानित किया।

इनकी रही मौजूदगी: निदेशक पशुपालन डॉ इंद्रमणि, उप्र पशुधन विकास परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ नीरज गुप्ता, डीएम महेंद्र बहादुर सिंह, सीडीओ अनिल कुमार सिंह, संयुक्त निदेशक डीएफएस मझरा डॉ जगदीश प्रसाद, सीवीओ डॉ सोमदेव सिंह, डिप्टी सीवीओ डॉ हनी सक्सेना सहित बड़ी संख्या में पशुपालन विभाग के अधिकारी कर्मचारी, एवं पशुपालक।


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts to your email.

By nit

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading