नर्सिंग कालेजों के महाघोटाले में CBI अफसरों की मिलीभगत उजागर, NSUI की शिकायत पर जांच के बाद 13 आरोपी हुए गिरफ्तार | New India Times

अबरार अहमद खान/मुकीज खान, भोपाल (मप्र), NIT:

New India Times

मध्य प्रदेश की बहुचर्चित नर्सिंग महाघोटाले में एक नया मोड़ आ गया है। मामले की जांच कर रहे सीबीआई के अधिकारी भी इस भ्रष्टाचार में लिप्त पाए गए हैं। NSUI की शिकायत के बाद बड़े स्तर पर मिलीभगत का भंडाफोड़ हुआ है। दरअसल, घोटाले की जांच का जिम्मा जिन सीबीआई अफसरों को दी गई थी वे रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़े गए हैं। नर्सिंग घोटाले के व्हिसलब्लोअर रवि परमार की शिकायत पर सीबीआई दिल्ली की टीम ने ये बड़ी कार्रवाई की है।

दरअसल, ग्वालियर हाईकोर्ट ने 364 नर्सिंग कॉलेजों की सीबीआई जांच के आदेश दिए थे। सीबीआई ने इनमें से 308 नर्सिंग कॉलेज की जांच कर रिपोर्ट सौंपी। जांच रिपोर्ट में 169 नर्सिंग कॉलेजों को सूटेबल, 73 नर्सिंग कालेजों को डिफिसेंट और 66 नर्सिंग कॉलेज को अनसूटेबल बताया गया।

सीबीआई ने जांच में कई ऐसे नर्सिंग कॉलेजों को भी क्लीन चिट दे दी गई थी जो मान्यताओं पर खरा नहीं उतरे थे। इस पर एनएसयूआई मेडिकल विंग के प्रदेश समन्वयक रवि परमार ने आपत्ति ली थी। उन्होंने 15 अप्रैल को सीबीआई कार्यालय पहुंचकर शिकायत भी कि थी। एनएसयूआई की शिकायत के बाद CBI ने कुछ विभागीय लोगों को भी जांच के रडार पर लिया और दिल्ली CBI ने इंदौर, भोपाल, रतलाम समेत अलग-अलग जगह पर छापेमारी की।

इस दौरान CBI के इंस्पेक्टर राहुल राज को 10 लाख रुपए की रिश्वत लेते पकड़े गए। उन्होंने नर्सिंग कॉलेज घोटाले मामले में कॉलेज की सही रिपोर्ट पेश करने की एवज में रिश्वर मांगी थी। राहुल राज के घर तलाशी में 7 लाख 88 हजार कैश और 2 गोल्ड के बिस्किट भी बरामद किए गए। राहुल राज को रिश्वत देने वाले भोपाल के मलय कॉलेज ऑफ नर्सिंग के चेयरमैन अनिल भास्करन, प्रिंसिपल सूना अनिल भास्करन और एक मीडिएटर सचिन जैन को भी सीबीआई ने गिरफ्तार किया है।

अभी तक दिल्ली CBI ने कुल दो CBI निरीक्षक समेत 13 आरोपियों को किया गिरफ्तार कर रिमांड पर भेज दिया है। इनमें इंस्पेक्टर सुशील मजोकर भी शामिल हैं।

उन्हें सीबीआई दिल्ली की विजिलेंस टीम ने दो लाख रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है। मजोकर ACB भोपाल CBI में अटैच था। इसके अलावा रतलाम नर्सिंग कॉलेज वाइस प्रिंसिपल जुगल किशोर शर्मा और भाभा कॉलेज भोपाल के प्रिंसिपल जलपना अधिकारी को भी गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गए एक अन्य आरोपी रविराज भदोरिया के यहां से सीबीआई ने 84.65 लाख रुपए की जब्ती की है। वहीं प्रीति तिलकवार के यहां से करीब 1 लाख रुपए और डायरी जप्त की है।

एनएसयूआई नेता रवि परमार ने कहा कि उनकी शिकायत के बाद दिल्ली सीबीआई की टीम हरकत में आई और छापेमारी कर भोपाल के अफसरों को गिरफ्तार किया। उन्होंने कहा कि वे दिल्ली सीबीआई को जल्द ही अन्य भ्रष्टाचारी निरीक्षकों और नर्सिंग फर्जीवाड़े में शामिल नर्सिंग कालेज संचालकों और दलालों की जानकारी सौंपेंगे। बता दें कि नर्सिंग घोटाले के विरुद्ध आंदोलनों के दौरान रवि परमार को कई बार जेल भेजा गया और पुलिस द्वारा यातनाएं तक दी गई। परमार कहते हैं कि अब जेल जाने की बारी भ्रष्ट अफसरों और दलालों की है।

इन्हें किया गया गिरफ्तार

1. राहुल राज – सीबीआई अधिकारी
2. सचिन जैन – दलाल
3. सुमा रत्नाम भास्करन – प्रिंसिपल, मलय नर्सिंग कॉलेज
4. अनिल भास्करन – मलय नर्सिंग कॉलेज
5. रवि भदौरिया – आरडी मेमोरियल नर्सिंग कॉलेज इंदौर
6. प्रिति तिलकवार – 
7. वेद प्रकाश शर्मा –
8. तनवीर खान –
9. ओम गिरी गोस्वामी –
10. जुगल किशोर शर्मा – नर्सिंग कॉलेज संचालक
11. राधारमण शर्मा – जुगल किशोर का भाई
12. जलपना अधिकारी – प्राचार्य, भाभा नर्सिंग कॉलेज भोपाल
13. सुशील मजोकर, सीबीआई निरीक्षक


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts to your email.

By nit

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading