प्रकृति धर्म के पुजारियों का दो दिवसीय राष्ट्रीय शिविर का हुआ आयोजन | New India Times

अंकित तिवारी, ब्यूरो चीफ, प्रयागराज (यूपी), NIT:

प्रकृति धर्म के पुजारियों का दो दिवसीय राष्ट्रीय शिविर का हुआ आयोजन | New India Times

प्रकृति धर्म के पुजारियों का संगम 3 एवं 4 फरवरी, 2024 को तीर्थ राज प्रयागराज के संगम तट पर श्री आद्य शंकराचार्य धर्म स्थान संसद माघमेला, प्रयागराज एवं पीपल नीम तुलसी अभियान, पटना(बिहार) के संयुक्त तत्वावधान में दो दिवसीय राष्ट्रीय शिविर का आयोजन अभियान के संस्थापक डॉ धर्मेन्द्र कुमार के नेतृत्व में किया गया, जिसमें कई प्रदेशों के पर्यावरण प्रेमी प्रतिभाग कर रहे हैं। कार्यक्रम के आयोजक डॉ. धर्मेन्द्र कुमार ने बताया कि सभी पर्यावरण प्रेमी अपने साथ देव वृक्ष पीपल या बरगद के साथ आ रहे हैं, इनके साथ मेला क्षेत्र में पर्यावरण संरक्षण के लिए जागरूकता हेतु प्रभात फेरी निकाली गयी। सेक्टर 5 ओल्ड जी.टी. रोड तुलसी चौक, अन्नपुर्णा चौराहा होते हए गंगा घाट, लोयर रोड में काली चौक नांगबासुकी, त्रिवेणी चौराहा होते हुए वापस ओल्ड जी टी रोड सेक्टर पांच में समाप्त हुआ।

प्रकृति धर्म के पुजारियों का दो दिवसीय राष्ट्रीय शिविर का हुआ आयोजन | New India Times

इस अभियान में उत्तर प्रदेश सहित हरियाणा, बिहार राज्य, मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, झारखंड के पर्यावरण मित्रों ने भाग लिया। नेपाल सिंह पाल, अमित कुमार मंकर ट्री ब्याए, नवल डागा, मनोज डागा, विक्रम पटेल, राजेन्द्र पटेल, हर्ष प्रभा अग्रवाल, माया देवी आदि रहे तथा उपयुक्त स्थान पर इनका रोपण किया जाएगा।
पर्यावरण मित्रों ने अपने कार्यों व अनुभवों को साझा किया।डॉ धर्मेन्द्र कुमार ने इस आयोजन पर विस्तार से प्रकाश डाला और कहा कि हमारा धर्म प्रकृति है उसका संरक्षण व संवर्धन हम सभी का समूहिक दायित्व है। सभी जीव- जंतु, पशु- पक्षी, वनस्पतियों, पेड़- पौधों तथा जल स्रोतों का संरक्षण करना हमारा कर्तव्य ही नहीं अपितु धर्म भी है।
इस अवसर पर अनेक पर्यावरण प्रेमियों को सम्मानित भी किया गया।


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts to your email.

By nit

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading