बाल अधिकार अभियान कार्यक्रम का हुआ समापन | New India Times

रहीम शेरानी हिन्दुस्तानी/पंकज बडोला, झाबुआ (मप्र), NIT:

संत जोसेफ हाई सेक्रेटरी स्कूल बड़ी धमनी झाबुआ बाल अधिकार कार्यक्रम में नन्हे मुन्ने बच्चों ने रंगारंग प्रस्तुतियां दी। प्रतिभागियों की संख्या 593 रही। यह रहे मुख्य अतिथि कार्यक्रम में सम्मिलित अतिथियों के नाम मुख्य अतिथि जीतेन्द्र चौहान सब इंस्पेक्टर, साइबर सेल झाबुआ विशिष्ट अतिथि अशोक आरोड़ा अध्यक्ष,बाल कल्याण समिति, झाबुआ विशेष अतिथि वीरेंद्र चौहान पुलिस अधिकारी, थाना थांदला पुलिस कांस्टेबल संदीप चौहान, संदीप। अतिथि पल्ली पुरोहित फादर अलफ्रेंड, प्रिंसिपल सिस्टर सुकांति, सुपिरियर सिस्टर जांसी आदी सम्मिलित हुए।

सभी मंचासीन अतिथियों का पौधे भेंट कर स्वागत किया गया।

यूनिट डायरेक्टर सिस्टर निर्मला के द्वारा कार्यक्रम का उद्बोधन दिया गया जिसमें संस्था के कार्यों का परिचय एवं बड़ी धामनी यूनिट में किये जा रहे कार्यों के बारे मे संक्षिप्त में बताया गया।

इसके बाद उदय संस्था के प्रोग्राम मैनेजर सोनू सोलंकी के द्वारा बाल अधिकार अभियान जो कि 20 नवम्बर अंतर्राष्ट्रीय बाल अधिकार दिवस से 11 दिसंबर UNCRC भारत द्वारा अंगीकार दिवस तक चलाया जा रहा है उसमें मध्य प्रदेश स्तर पर क्या क्या गतिविधियों को आयोजित किया गया है।

उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश के 3 जिले में उदय संस्था के माध्यम से 5000 बच्चों के साथ यह अभियान चलाया गया है। संस्था 14 पुलिस थानों और अन्य सरकारी विभागों के साथ मिलकर बाल संरक्षण और महिला सुरक्षा को लेकर कार्य कर रही है।

सफलता की कहानी की प्रस्तुतियां:-

1) किशोरी बालिका समूह से खुशबू वसुनिया
के द्वारा अपनी सहेली की कहानी ऊनकी जुबानी सबके सामने प्रस्तुत कर उसके साथ हुए भेदभाव और उससे लड़कर पढ़ाई से जुड़ाव होने की कहानी बयां की गई।
2) बाल शिक्षा सहयोग केंद्र से जुड़े बालक राधेश भूरिया के द्वारा सफलता की कहानी सभी के सामने प्रस्तुत की गई जिसमें शिक्षा केन्द्र के संचालन के माध्यम से जो बदलाव उसके जीवन में आया है उसको विस्तार से साझा किया।

3) बालिका जोना कटारिया ने बताया कि उसने पढ़ाई छोड़ दी थी, शिक्षा सहयोग केंद्र से जुड़कर फिर से पढ़ाई शुरू की है उदय संस्था के बालिका समूह की बैठक में आने के बाद बदलाव आया है और उदय संस्था के कार्यकर्ताओं ने मम्मी पापा को समझाइश देने के बाद में स्कूल में आकर पढ़ाई करने लगी हुं और कक्षा में सबसे आगे हुं।

बाल समूह एवं हॉस्टल कि बालिकाओं के समूह के द्वारा
भेदभाव के मुद्दे पर आधारित नृत्य प्रस्तुति दी जिसमें उन्होंने बिना ख़ौफ़ के आज़ाद होकर जीने के बारे में बताया स्कूल के बालक- बालिकाओं के द्वारा बाल विवाह पर नुक्कड़ नाटक प्रस्तुत किया गया जिसमें बाल विवाह रोकथाम का सन्देश दिया गया साथ ही बाल विवाह कानूनी अपराध है और इसकी रोकथाम होने हेतु नारों के माध्यम से जागरूक किया गया।

बाल कल्याण समिति अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने अपने संबोधन में उदय संस्था के कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि, संस्था महिलाओं, बालिकाओं, बच्चों के सशक्तिकरण को लेकर बहुत ही अच्छा कार्य कर रही है और बच्चों ने नुक्कड़ नाटक के माध्यम से बाल विवाह के बारे में बहुत ही अच्छा सन्देश दिया है।

साईबर सेल सब इंस्पेकटर जितेंन्द्र चौहान ने कार्यक्रम की सरहना करते हुए कहा कि सामाजिक मुद्दों पर संस्था और समुदाय के संगठन जिसमें बाल समूह, न्याय चौपाल अच्छा कार्य कर रहे हैं इसमें पुलिस भी आपके सहयोग हेतु तत्पर रहेगी। प्रिंसिपल सिस्टर सुकांति ने अपने संबोधन में कहा कि उदय संस्था के साथ पहली बार एक साथ कार्यक्रम करने का अवसर मिला और इसमें सभी बच्चों ने भाग लिया इसको लेकर में बहुत गर्व महसूस कर रह हुं। इस प्रकार के मुद्दे आधारित कार्यक्रम के आधार पर सभी बच्चों में जागरूक हुए हैं और बहुत सिख मिली है। कार्यक्रम के अंत में उदय संस्था बड़ी धामनी यूनिट के द्वारा उपस्थित अतिथियों को स्मृति चिन्ह भेंट करके आभार व्यक्त करते हुए कार्यक्रम का समापन किया गया। कार्यक्रम का सफल संचालन राजू ओसवाल एवं विधिया भूरिया के द्वारा किया गया। कार्यक्रम में उपस्थित अन्य सदस्य खालिदा सैय्यद, विद्या भूरिया, गब्बू वसुनिया, न्याय चौपाल सदस्य, स्कूल शिक्षक सम्मिलित थे।
‌ ‌‌‌


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

By nit

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading