इसरो (ISRO) के एजुकेशनल टूर से सकुशल लौटे अर्वाचीन इंडिया स्कूल बुरहानपुर के 70 स्टूडेंट्स | New India Times

मेहलक़ा इक़बाल अंसारी, ब्यूरो चीफ, बुरहानपुर (मप्र), NIT:

अर्वाचीन इंडिया स्कूल फॉर हॉलिस्टिक लर्निंग के विद्यार्थियों का एक दल का इसरो श्रीहरिकोटा चेन्नई शैक्षणिक भ्रमण से सकुशल आने पर अर्वाचीन परिवार द्वारा स्वागत किया गया। इस यात्रा में विद्यार्थियों ने वैज्ञानिकों से विभिन्न जानकारियां हासिल की तथा अंतरिक्ष योजनाओं की जानकारियां भी ली।

अर्वाचीन इंडिया स्कूल से कक्षा नवी से 12वीं के करीब 70 विद्यार्थियों का दल इसरो श्रीहरिकोटा चेन्नई शैक्षणिक भ्रमण हेतु दिनांक 29 अक्टूबर को बुरहानपुर रेल्वे स्टेशन से रवाना हुआ। यहां विद्यार्थी एवं शिक्षकगण अपनी अनेकों जिज्ञासाओं के साथ इसरो रिसर्च सेंटर श्री हरिकोटा(चेन्नई) पहुंचे। इस यात्रा में विद्यार्थियों ने वैज्ञानिकों से विभिन्न जानकारियां हासिल की तथा अंतरिक्ष योजनाओं की जानकारियां भी ली।

विद्यार्थियों ने विशेषज्ञों से चंद्रयान एवं अंतरिक्ष में हो रहे घटनाक्रम के बारे में भी जाना। दल के सभी सदस्यों के लिए इसरो का यह भ्रमण इसलिए भी यादगार रहा क्योंकि आज से पहले बुरहानपुर की टीम कभी इसरो रिसर्च सेंटर नहीं पहुंची थी। उन्होंने वहां पर इसरो के अतिरिक्त पांडुचेरी और महाबलीपुरम मंदिर के इतिहास और महत्व को भी जाना। शैक्षिक भ्रमण दल को संस्था डायरेक्टर अमित मिश्रा एवं राखी मिश्रा व प्रशासनिक अधिकारी विशाल गोजरे ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। दल का सुचारू रूप से नेतृत्व कर रही ऐकडमिक हेड दिप्ती पोढियन ने जानकारी देते हुए बताया कि इस शैक्षणिक भ्रमण का उद्देश्य शैक्षिक ज्ञान के साथ-साथ विज्ञान व गणित के उन्मुखी प्रतिष्ठानों की कार्यप्रणाली और उनसे जुड़ी जानकारियां प्राप्त कराना है।

इसके साथ ही समूह में रहने की प्रवृत्ति, नेतृत्व क्षमता और भाईचारे की भावना को प्रबल करना था। इसरो रिसर्च सेंटर में विद्यार्थियों ने कंप्यूटर, अंतरिक्ष विज्ञान की प्रयोगशाला और लाइब्रेरी पहुंचकर जानकारी हासिल की। उन्होंने बताया कि छोटे बच्चों के लिए इस तरह के शैक्षिक भ्रमण बहुपयोगी साबित होते हैं। कई विद्यार्थी पहली पीढ़ी के स्कूल जाने वाले हैं और कई स्तरों पर वंचित हैं। इसरो जैसे संस्थान का दौरा न केवल उनके जीवन का सबसे बड़ा रोमांच रहा, बल्कि उनकी कल्पना को पंख भी देगा। इससे हमें जिले में वैज्ञानिक शिक्षा को बढ़ावा देने में भी मदद मिलेगी।

इस मौके पर विद्यार्थियों को बुनियादी सुविधाओं से सुसज्जित किया गया और उन्हें चिकित्सा जांच से गुजरना पड़ा। चेन्नई रेल्वे स्टेशन पहुंचने पर विद्यार्थियों के नाश्ते व खाने की व्यवस्था की गई। साथ ही विद्यार्थियों को एक अनुकुल वातावरण में रोकने की व्यवस्था करवाई गई। जहां विद्यार्थियों ने अपने सफर के अनुभव का एक दूजे से सांझा किया। विद्यार्थियों ने इस शेक्षणिक भ्रमण में इसरो परिसर के अलावा चेन्नई स्नेक पार्क, फॉनिक्स मॉल, मरीना बीच, इग्मोर म्यूज़ियम सहित अन्य पर्यटन स्थलों का भी दौरा किया। विद्यार्थियों के इस सफल शैक्षणिक भ्रमण पर अर्वाचीन इंडिया स्कूल परिसर में सभी का स्वागत किया गया। साथ ही सहपाठियों ने एक दूजे से अपने अनुभव पर चर्चा करते हुए उन्होंने अपने जुनियर विद्यार्थियों को भी इसरो शेक्षणिक भ्रमण हेतु प्रोत्साहित किया।


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

By nit

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading