बच्चे हमारे कल का सुनहरा भविष्य हैं इन्हें सहेजें: बृजेश चौहान

देश, राज्य

रहीम शेरानी हिन्दुस्तानी, ब्यूरो चीफ, झाबुआ (मप्र), NIT:

मध्यप्रदेश राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग के सदस्य बृजेश चौहान की अध्यक्षता में विकास खण्ड राणापुर की बैठक जनपद पंचायत हाॅल में आयोजित की गई. बैठक में सदस्य का पुष्प माला से अभिनंदन किया गया। आयोग के सदस्य द्वारा सभी का परिचय प्राप्त किया। इस बैठक में अनुविभागीय अधिकारी राजस्व झाबुआ सोहन कनाश, डिप्टी कलेक्टर एवं जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास डाॅ. अभयसिंह खराडी, एसडीओपी इडला मौर्य, सहायक संचालक महिला एवं बाल विकास आर.एस.बघेल, बालुसिंह सस्तिया एवं वर्षा चौहान, तहसीलदार रविन्द्र चैहान, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत जोशुआ पीटर, सीएमओ कमलेश गोले, बीएमओ डाॅ. जी.एस. चौहान एवं बडी संख्या में महिला बाल विकास विभाग की सुपरवाईजर, श्रम विभाग के पदाधिकारी उपस्थित थे।
इस बैठक में सदस्य बृजेश चौहान द्वारा अपने उद्बोधन में कहा कि आयोग का मुख्य उद्देश्य बच्चों का संरक्षण, देख-भाल, उनके अधिकारों का संरक्षण व्यवस्थित तरिके से हो.
इस समय कोरोना की तीसरी लहर संभावित है।
जिसमें बच्चो के लिये विशेष सावधानी का समय है। इस दौरान पढ़ाई के लिये भी हमें विशेष ध्यान देना है। बच्चे हमारा कल का सुनहरा भविष्य है। इन्हें सहजने की जिम्मेदारी हमारी है। इनके अधिकारो का संरक्षण करना हमारा कर्तव्य है। इनकी देख -भाल के लिये विशेष प्रयास होना चाहिये। वर्तमान में विकट परिस्थिति में बच्चों की शिक्षा सही तरिके से नहीं दे पा रहे है। इसके लिये विषेष रूप से कार्य योजना बनाकर बच्चों को शिक्षित करें। हमारा प्रयास हो शिक्षा बच्चों तक कैसे पहुंचे बच्चों का भविष्य खराब नहीं होने देवे। बाल श्रम एक गंभीर अपराध है। इसके लिये हमें सजग रहना होगा एवं यदि बच्चें श्रम करते पाए जाए तो उन्हें पूनर्वास के लिये, शिक्षा के लिये हमें आगे आना होगा। बाल श्रम कानून का व्यापक प्रचार-प्रसार भी होना चाहिये। कोरेाना काल में जिनके माता-पिता का देहांत हुआ है। उनके लिये भी हमें विशेष प्रयास कर समाज के मुख्य धारा से जोडना है। उनका संरक्षण करना हैं उनके अधिकारों को हमे दिलाना है। मध्य प्रदेश सरकार इसके लिये कृतसंकल्पित है। जिला कार्यक्रम अधिकारी डाॅ. अभयसिंह खराडी द्वारा जिले में बच्चों के लिये किये जा रहे प्रयासों के बारे में जानकारी प्रस्तुत की एवं श्रम विभाग द्वारा भी जिले में यदि बाल श्रम पाया जाता है तो सजकता से कार्य करने के लिये तत्पर है। बीआरसी द्वारा खण्ड में बच्चों के लिये जो पढ़ाई करने के लिये जो कार्य योजना बनाई गई है। उसके संबंध में माननीय सदस्य महोदय को अवगत कराया। आयोग के सदस्य बृजेश चौहान द्वारा जनपद परिसर में वृक्षा रोपण जिसमें अशोक एवं आम का पौधा रोपित किया। इसके पश्चात कोरोना से स्व. विक्रम परमार की मृत्यु होने पर उसके निवास पर पहुंचे यहां पर इनकी पत्नी दिव्या परमार से चर्चा की एवं यहां पर बच्चों को बिस्कीट एवं पुस्तक भेंट की। इसके पश्चात आयोग के सदस्य द्वारा पोषण पुनर्वास केन्द्र राणापुर पहुंचे यहां पर केन्द्र का सूक्ष्मता से निरीक्षण किया एवं यहां की व्यवस्था के लिये बधाई दी। यहां पर स्टाफ के बच्चों को बिस्कीट एवं पुस्तक प्रदान की। इस दौरान प्रिन्ट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया के प्रतिनिधि एवं प्रभारी पीआरओ सुधीर कुशवाह उपस्थित थे।

Leave a Reply