कब्रिस्तान व मस्जिद की बाउंड्री वॉल बनाने को लेकर संप्रदायिक तनाव, 5 लोग पुलिस हिरासत में | New India Times

गुलज़ार अहमद, मैनपुरी ( यूपी ), NIT; ​कब्रिस्तान व मस्जिद की बाउंड्री वॉल बनाने को लेकर संप्रदायिक तनाव, 5 लोग पुलिस हिरासत में | New India Timesमैनपुरी जिला के ग्राम परतापुर में मस्जिद व कब्रिस्तान की बाउंड्री वॉल बनाये जाने को लेकर दो समुदायों के बीच विवाद को देखते हुये पुलिस ने पांच लोगों को हिरासत में ले लिया है। एसडीएम ने तनाव को देखते हुये दोनों पक्षों को एक सप्ताह तक निर्माण कर्य नहीं किये जाने का आदेश दिया है।​

कब्रिस्तान व मस्जिद की बाउंड्री वॉल बनाने को लेकर संप्रदायिक तनाव, 5 लोग पुलिस हिरासत में | New India Timesमिली जानकारी के अनुसार रविवार को ग्राम परतापुर में मस्जिद एंव कब्रिस्तान की जैसे ही राकेश उर्फ रियाजुद्दीन, अफरोज, तौफीक, मो अख्तर, सुहेल अंसारी, डॉ शाकिर हुसैन आदि ने समझौते के अनुसार जैसे ही चाहर दिवारी का निर्माण कार्य शुरू किया कि उसी गांव के अहिवरन सिंह पुत्र रामदीन शाक्य, दिनेश पुत्र राम औतार शाक्य, सुनील सिंह पुत्र अहिवरन सिहं, सतेन्द्र पुत्र कृपाल सिंह एवं विनोद पुत्र कृपाल सिंह ने विवादित स्थल को अपना खेत बताते हुये निर्माण कार्य बंद करा दिया। निर्माण कार्य बंद होते ही गांव में तनाव पैदा हो गया। सूचना मिलते ही बडी संख्या पुलिस बल ने गावं में पहुंचकर निर्माण कार्य का विरोध करने वाले पांच लोगों को हिरासत में ले लिया। गांव वालों के दोनों पक्षों केा थाने बुलाकर एसडीएम संदीप कुमार व क्षेत्राधिकारी राजपाल सिंह ने दोनों पक्षों को एक सप्ताह तक निर्माण कार्य नहीं किये जाने का आदेश दिया। उपजिलाधिकारी ने दोनों पक्षों को नक्शे के अनुसार पहले तालाब को चिन्हित किये जाने बाद ही निर्माण कार्य किये जाने की चेतावनी दी है। क्षेत्राधिकारी ने पुलिस को अराजक तत्वों पर कड़ी नजर रखे जाने के निर्देश दिये हैं। हिरासत में लिये गये पांचों लोगों को एसडीएम ने एक-एक लाख के निजी मुचललके व इतनी ही धनराशि की दो-दो जमानतों पर रिहा कर दिया है। इस सबंध में एसडीएम का कहना है कि रिहा किये गये लोगों को किसी भी प्रकार का विवाद नहीं करने की चेतावनी दी गई है। 

By nit

8 thoughts on “कब्रिस्तान व मस्जिद की बाउंड्री वॉल बनाने को लेकर संप्रदायिक तनाव, 5 लोग पुलिस हिरासत में”
  1. Due to the worth elasticity of Netflix went 60%, clients have been very livid
    to learn of a new company called Qwikster in the current chain of occasions.
    They did not want to must pay for two hiked up
    costs for a product that they have been used to using, that now could be mixed.

    A whole lot of occasions firms will increased there prices to cover
    the bills that could be at hand when they select to increase
    a service or product. https://www.diigo.com/profile/olundelunde8

  2. I have to express my thanks to you just for rescuing me from this dilemma. Just after browsing throughout the the web and seeing ideas which were not helpful, I thought my entire life was gone. Living devoid of the approaches to the issues you have fixed all through your blog post is a serious case, as well as the ones that would have badly damaged my entire career if I hadn’t noticed the blog. Your actual training and kindness in touching all the stuff was tremendous. I’m not sure what I would’ve done if I hadn’t come upon such a subject like this. I can also at this time look forward to my future. Thanks for your time so much for this impressive and sensible help. I won’t hesitate to suggest your web sites to any individual who should receive support on this subject matter.

  3. There are certainly lots of details like that to take into consideration. That may be a great point to carry up. I offer the ideas above as common inspiration but clearly there are questions like the one you bring up the place crucial factor can be working in sincere good faith. I don?t know if finest practices have emerged around things like that, however I am sure that your job is clearly identified as a good game. Both boys and girls really feel the impression of only a second抯 pleasure, for the remainder of their lives.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading