लोकसभा चुनाव का संग्राम, मध्य प्रदेश में कांग्रेस का संकट, बड़े नेताओं का लड़ने से किया इनकार, अब विधायकों पर दांव चलने की तैयारी | New India Times

रहीम शेरानी हिन्दुस्तानी/पंकज बडोला, झाबुआ (मप्र), NIT:

लोकसभा चुनाव का संग्राम, मध्य प्रदेश में कांग्रेस का संकट, बड़े नेताओं का लड़ने से किया इनकार, अब विधायकों पर दांव चलने की तैयारी | New India Times

चुनाव आयोग ने पूरे देश में चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है। मध्य प्रदेश में 4 चरणों में मतदान होगा और पहले फेज की वोटिंग 19 अप्रैल को होगी यानी अब से ठीक एक महीने बाद लेकिन कांग्रेस ने सूबे की सभी 29 सीटों पर प्रत्याशियों का ऐलान नहीं किया है। उसने अभी तक केवल 10 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं जबकी बाकी 18 सीटों पर मंथन जारी है एक सीट कांग्रेस ने गठबंधन के तहत खजुराहो लोकसभा क्षेत्र समाजवादी पार्टी को दी है। राजनेतिक पंडितों का  कहना है की पार्टी को ढूंढने से भी हैवी वेट उम्मीदवार नहीं मिल रहे हैं। हालत ये है की मध्य प्रदेश कांग्रेस के कई बड़े दिग्गज नेता ने साफ-साफ या फिर इशारों में सांसदी का चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया है। जिसकी वजह से मजबूरी में पार्टी अब अपने कई मौजूदा विधायकों को लोकसभा चुनाव के लिए मैदान में उतारने का मन बना रही है। हालांकि पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ऐसी किसी बात से इनकार कर रहे हैं।

दूसरी तरफ बीजेपी ने प्रदेश की सभी 29 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतार दिए हैं। दरअसल प्रदेश कांग्रेस के कई बड़े नेता चुनाव लड़ने से इनकार कर चुके हैं और कुछ के नाम पर सस्पेंस कायम है। जिसमें कमलनाथ, दिग्विजय सिंह और जीतू पटवारी जैसे नेता शामिल हैं जो सार्वजनिक मंच से चुनाव लड़ने से इनकार कर चुके हैं। इस मसले पर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने अलग ही तर्क दिया है, उनका कहना है की मेरे लोकसभा चुनाव लड़ने का सवाल ही पैदा नहीं होता क्योंकि मेरा राज्य सभा का कार्यकाल अभी बचा हुआ है। पार्टी आलाकमान जिस भी प्रत्याशी को राजगढ़ से उतारेगी उसका मैं पूरी ताकत से समर्थन करूंगा। कांग्रेस को भोपाल, इंदौर, रतलाम जबलपुर और ग्वालियर जैसी सीटों पर मज़बूत प्रत्याशी तलाश है लेकिन बड़े नेताओं के इस रूख से पार्टी आलाकमान परेशान है। इसी बीच अब ये खबर आ रही है की कांग्रेस ने कई सीटों पर दो से तीन नामों का पैनल तैयार कर लिया है। जिसमें कई मौजूदा विधायकों के नाम शामिल हैं। कांग्रेस के साथ दूसरी दिक्कत ये है की भाजपा के महिला आरक्षण बिल और 6 महिला उम्मीदवारों के सामने कांग्रेस को बराबरी से महिलाओं को उतारने में मशक्कत करनी पड़ रही है, कांग्रेस के सामने जिताऊ महिलाओं का चयन करना एक चुनौती बन रहा है।


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts to your email.

By nit

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading