हज और उमरा पर जाने वाले यात्रियों के लिए एक रोज़ा हज तरबियती कैंप का इनएक़ाद 4 मार्च 2024 को | New India Times

मेहलक़ा इक़बाल अंसारी, ब्यूरो चीफ, बुरहानपुर (मप्र), NIT:

हज और उमरा पर जाने वाले यात्रियों के लिए एक रोज़ा हज तरबियती कैंप का इनएक़ाद 4 मार्च 2024 को | New India Times

ऑल इंडिया हज वेलफेयर सोसाइटी की मध्य प्रदेश इकाई के उपाध्यक्ष मोहम्मद मोईन उर्फ़ हाजी मतीन अजमल ने बताया कि हर साल की तरह इस साल भी रमज़ान उल मुबारक के पहले ज़िले से पवित्र मक्का और मदीना जाने वाले केन्द्रीय हज कमेटी व प्राइवेट टूर्स के आज़मीन-ए-हज और रमज़ान उल मुबारक में पवित्र उमरा यात्रा पर जाने वाले हाजी हज़रात और हज्जीन साहिबा के लिए (पर्दे के मखसूस एहतेमाम के साथ) एक रोज़ा हज तरबियती कैम्प का इनएक़ाद दिनांक 4 मार्च 2024 सुबह 9:00 बजे से असर तक स्थान मस्जिद मुल्ला हयाती, दाउदपुरा, बुधवारा रोड बुरहानपुर में किया जा रहा है। जिसमें धुलिया महाराष्ट्र से प्रतिवर्ष आने वालों की टीम में मौलाना मुख्तार अहमद मदनी शेख उल हदीस सिराजुल उलूम धूलिया हाजी मोहम्मद अखलाक साहब हाजी अकबर अली मोहम्मद शाहिद हाजी मोहित सर और असलम भाई सहित टीम के हज ट्रेनर्स हज की ट्रेनिंग देंगे।

हज वेलफेयर सोसाइटी की बुरहानपुर यूनिट के अध्यक्ष हाजी मोहम्मद अली अंसारी दादा और सचिव अब्दुल रज़्ज़ाक़ सिद्दीकी ने बताया कि हज में शिरकत करने वाले सभी हजरात के लिए कैम्प में दोपहर के खाने का नज़्म भी रहेगा। आयोजकोनी हज पर और उम्र पर जाने वाले सभी जागरण से अपील की है कि इस एक रोज़ा कैम्प में ज़रूर शिरकत करें। अपने ग्रुप के सभी साथियों को इस कैम्प की ख़बर करने व साथ लाने की मेहरबानी करें। बताते हैं कि बता दें कि यह कैंप विगत 20 वर्षों से खान का मस्जिद बुरहानपुर में आयोजित होता रहा है लेकिन किन्हीं अपरिहार्य कारणों से इस मर्तबा कैंप का स्थान परिवर्तित करके मस्जिद मुल्ला हयाती, दाउदपुरा, बुधवारा रोड बुरहानपुर में किया गया है। इस हज प्रशिक्षण में धूलिया से आने वाले एक साथी नईम इब्ने अलीम सर की कमी इस बार शिद्दत से महसूस होगी। उनका 18 फरवरी 2024 को इंतेक़ाल हो गया है।


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts to your email.

By nit

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading