राणापुर बीईओ को हटाने के लिए कलेक्टर के नाम एनएसयूआई ने सौंपा ज्ञापन | New India Times

रहीम शेरानी हिन्दुस्तानी/पंकज बडोला, झाबुआ (मप्र), NIT:

New India Times

एनएसयूआई के पदाधिकारी ने जिला कलेक्टर से राणापुर बीईओ को हटाने के लिए अपर कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में बताया गया कि कुछ दिन पहले कांजावनी हॉस्टल में लड़कियों के साथ वहां के चपरासी के द्वारा छोड़ खानी और बेड टच की शिकायत लड़कियों के द्वारा कि गई थी जिस पर भोपाल से जांच टीम कंजावानी हॉस्टल पहुंच कर लड़कियों के बयान दर्ज किये थे जबकि लड़कियों द्वारा हॉस्टल अधीक्षिका को कई बार लड़कियों द्वारा शिकायत की गई फिर भी लड़कियों की कोई सुनवाई नहीं की गई।

राणापुर बीईओ को हटाने के लिए कलेक्टर के नाम एनएसयूआई ने सौंपा ज्ञापन | New India Times

रानापुर ब्लॉक अधिकारी बिईओ भी ब्लाक में रहता है जो सभी स्कूल हॉस्टल का निरीक्षण करता है वहां की समस्याओं को देखता है तो फिर कांजावानी हॉस्टल की समस्या से बिईओ केसे अनजान थे। रानापुर ब्लॉक में ऐसे कई हॉस्टल हैं जहां पर आदिवासी समाज की बेटियां हॉस्टल में रह कर पढ़ाई करती हैं और बेटियों के माँ बाप बिना चिंता के काम करते हैं माँ बाप सोचते हैं कि हमारी बेटी हॉस्टल में रह कर अच्छे से पड़ लिख कर नौकरी करेगी पर उन माँ बाप को क्या पता उनकी बेटियों को होस्टल में रोटी नहीं मिल रही है उनके साथ गलत व्यवहार हो रहा है।

झाबुआ जिला आदिवासी जिला है यहां के अधिकतर लोग गुजरात दाड़की पर जाते हैं और अपने बच्चों को पड़ने के लिए हॉस्टल में रखते हैं जिससे उनका बच्चा अच्छे से पड़ सके पर अधिकारियों की लापरवाही के कारण लड़कियां अब हॉस्टल में भी सुरक्षित नहीं हैं। रानापुर बिईओ जो की झाबुआ ब्लॉक के गांव ढेकल हाई सेकंडरी स्कूल के प्राचार्य पद पर नियुक्त हैं फिर रानापुर ब्लॉक के मोरदुंडिया पंचायत में स्थित एक एक लव्य स्कूल के प्राचार्य का भी पद लेे रखा है।

मोरर्डूंडिया स्कूल आवासीय विद्यालय है बिईओ के पास दो दो ब्लॉक के प्राचार्य का चार्ज है। रानापुर ब्लॉक के बिईओ के पद पर भी नियुक्त हैं। कैसे दो दो स्कूल संभालेंगे कैसे रानापुर ब्लॉक के सभी स्कूल का निरीक्षण करेंगे। आखिर एक टीचर को इतने पद क्यों दिए जा रहे हैं। रानापुर ब्लॉक के सभी हॉस्टलों में हॉस्टल अधीक्षक रहते नहीं हैं फिर भी बिईओ द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की जाती है क्योंकि बिईओ फिल्ड में जाते ही नहीं हैं जिससे हॉस्टलों में कोई भी आ जा सकता है और घटना को अंजाम दे जाता है।

एनएसयूआई ने कलेक्टर से निवेदन किया है कि रानापुर बिईओ को तत्काल हटाया जाना चाहिए उनके मूल पद पर नियुक्त किया जाए। जिससे रानापुर हॉस्टल में पढ़ने वाले छात्र छात्राओं को अच्छी सुविधा मिल सके। विनय भाबर पूर्व एनएसयूआई जिलाअध्यक्ष।


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts to your email.

By nit

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading