स्वामी घूरेलाल जी महाराज ‘‘दादा गुरु जी’’ का 75वाँ वार्षिक भण्डारा मेला हुआ शुरू | New India Times

अली अब्बास, ब्यूरो चीफ, मथुरा (यूपी), NIT:

पूज्यपाद स्वामी घूरेलाल जी महाराज ‘‘दादा गुरु जी’’ का 75वाँ वार्षिक भण्डारा मेला प्रारम्भ हो गया है। पूर्व संध्या पर प्रेमियों को सम्बोधित करते हुये संस्था के राष्ट्रीय उपदेशक सतीश चन्द्र जी ने कहा कि महापुरुषों की पुुण्य तिथि पर भण्डारे का मतलब केवल भोजन प्रसाद ही लेना नहीं होता है। भण्डारे का मतलब कर्मों का भण्डा फोड़ करना क्योंकि जब तक कर्मों की सफाई नहीं होगी तब तक कोई भी जीव अपने निजघर नहीं जा सकता, न ही उसका जन्म-मरण का चक्र छूट सकता है।

उन्होंने बताया हमारे दादा गुरु जी महाराज सन् 1948 के अगहन सुदी दशमी तिथि को आधी रात को नश्वर शरीर को त्याग कर सतलोकवासी हो गये। उनके मिशन को बढ़ाते हुये बाबा जयगुरुदेव जी ने करोड़ों लोगों को शाकाहारी-सदाचारी व भजनान्दी बनाया। अब उनके मिशन को पंकज जी महाराज आगे बढ़ा रहे हैं। उनकी मेहनत का दृश्य आगे आने वाले दिनों में देखने को मिलेगा। देश की बात छोड़ दें विदेशों से भी लोग यहाँ आयेंगे। गुनाहों की माफी मन्दिर के देवता से मांगेंगे दया, दुआ, बरक्कत प्राप्त करेंगे। यह दादा गुरु महाराज का स्मृति चिन्ह् (नाम योग साधना मन्दिर) यहाँ आकर जो लोग सिर्फ शाकाहारी रहने का संकल्प ले लेंगे तो उसकी मनोकामना पूर्ण होगी।

कार्यक्रम के प्रथम दिन प्रातः सत्संग में राष्ट्रीय उपदेशक बाबूराम जी सन्देश देते हुये बताया कि जिस स्थान पर महापुरुष निवास करते हैं उस स्थान को तीर्थ कहते हैं। उस स्थान की मिट्टी में पाप धोने के गुण पैदा हो जाते हैं। महात्माओं के द्वारा पवित्र की गई भूमि कभी अपवित्र नहीं होती है। महापुरुष लोगों में मानवता के गुण भरने के लिये आते हैं। अगर आपको विश्व गुरु बनना है धरती पर रामराज लाना है तोे उसके लिये तैयार होना पड़ेगा।

लोगों के अन्दर सच्चाई की रोशनी भरनी पड़ेगी, प्रेम और प्यार पैदा करना पड़ेगा, नफरत की खाईं पाटनी होगी और एक जुट होकर भारत के नवनिर्माण में लगना पड़ेगा। परोपकार की प्रबल भावना रखनी पड़ेगी। अपने को छोटा समझना व निन्दा आलोचना से दूर रहना पड़ेगा। बच्चों मे अच्छे संस्कार डालना वक्त की सबसे बड़ी आवश्यकता है।
मेले में पहले ही दिन कुम्भ जैसा दृश्य देखने को मिल रहा है। भारी संख्या में प्रेमियों के आने का सिलसिला जारी है।


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

By nit

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading