नशा करना शारीरिक नहीं बल्कि मानसिक बीमारी है: डॉ मनोज अग्रवाल | New India Times

रहीम शेरानी हिन्दुस्तानी, ब्यूरो चीफ, झाबुआ (मप्र), NIT:

नशा करना शारीरिक नहीं बल्कि मानसिक बीमारी है: डॉ मनोज अग्रवाल | New India Times

स्थानीय सुभाष हायर सेकंडरी स्कूल में सर्व सेवा संकल्प समिति द्वारा संचालित साईं नशा मुक्ति केंद्र द्वारा नशा मुक्ति जागरूकता का कार्यक्रम किया गया।

जागरूकता कार्यक्रम में नशे पर आधारित पोस्टर प्रदर्शनी लगाई गई, जिसका अवलोकन सभी छात्र-छात्राओं, अध्यापकों व उपस्थित जनमानस ने किया एवं सभी ने उसकी सराहना की। नशा मुक्ति केंद्र के संचालक डॉ मनोज अग्रवाल ने बताया कि पाश्चात्य संस्कृति की नकल में हमारा युवा नशे के मोहजाल में फंसता जा रहा है जिससे भावी पीढ़ी का पतन हो रहा है, देशभर में प्रतिदिन 4000 लोगों की धूम्रपान से मौत हो रही है इनमें 400 लोग वे होते हैं जो उनके निकट रहते हैं। नशे से छुटकारा दृढ़ इच्छाशक्ति से ही मुमकिन है।

नशा करना शारीरिक नहीं बल्कि मानसिक बीमारी है: डॉ मनोज अग्रवाल | New India Times

इस अवसर पर लोनी पंचायत के पूर्व उपसरपंच व समाजसेवी मनोज महाजन ने बताया कि समाज में नशीले पदार्थों के लुभावने विज्ञापन टीवी, फिल्म के माध्यम से जनमानस को परोसे जा रहे हैं जिसकी वजह से युवा उनकी तरफ आकर्षित होता है और गुमराह होता है इन चीजों से हमें बचना चाहिए।
स्कूल प्राचार्य सचिन पिंपलीकर ने नशे के दुष्प्रभाव, छात्र जीवन में अच्छी संगत, अनुशासन और लक्ष्य के प्रति समर्पण के महत्व को बताया।
कार्यक्रम में सभी उपस्थित बच्चों को नशा न करने की शपथ दिलाई गई व संकल्प पत्र भरवाए गए।
इस अवसर पर आदित्य अग्रवाल, धन्नलाल दलाल, समस्त अध्यापक व छात्र छात्राएं आदि भी उपस्थित थे।


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts to your email.

By nit

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading