भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय तथा कृषि मंत्रालय के सहयोग से झाबुआ जिले में सामुदायिक रेडियो स्टेशन का हुआ शुभारंभ | New India Times

रहीम शेरानी हिन्दुस्तानी, ब्यूरो चीफ, झाबुआ (मप्र), NIT:

भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय तथा कृषि मंत्रालय के सहयोग से झाबुआ जिले में सामुदायिक रेडियो स्टेशन का हुआ शुभारंभ | New India Times

भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय तथा कृषि मंत्रालय के सहयोग से झाबुआ जिले में सामुदायिक रेडियो स्टेशन का ग्राम गडवाडा विकासखण्ड झाबुआ में शुभारंभ हुआ।

शुभारंभ कार्यक्रम के मुख्य अतिथि झाबुआ रतलाम संसदीय क्षेत्र के सांसद श्री गुमानसिंह डामोर, विशिष्ट अतिथि जिले की कलेक्टर रजनी सिंह, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी अमन वैष्णव रहे।

मुख्य अतिथि के रूप में अपने उद्बोधन में सासद श्री गुमानसिंह डामोर ने अपने प्रेरक उद्बोधन में कहाँ की कांतिकारी शहीद टूटिया मामा के नाम से स्थापित हमारे आदिवासी अंचल का पहला रेडियो स्टेशन ग्राम गडवाडा में किया गया जो कि जिले के किसान भाईयों एवं आम जनता के लिये वरदान के रूप में साबित होगा जो कि स्थानीय भीली भाषा में खेती किसानी और शासन की महत्वकांक्षी कल्याणकारी योजनाओं के साथ-साथ हमारे समाज की रीति रिवाज एवं संस्कृतिक कार्यक्रम तथा देवी देवताओं आदि की जानकारी मोबाईल के माध्यम से भी सुन सकेंगें।

जिले की कलेक्टर रजनी सिंह ने अपने प्रभावकारी उद्बोधन में कहाँ की टंटिया मामा रेडियो स्टेशन की स्थापना हमारे जिले के जिले के लिये गौरव का विषय है जो कि बहुत ही कम स्थानो पर स्थापित है रेडियो के माध्यम जिले के किसान भाईयो को खेती किसानी की वैज्ञानिक तकनीकी से खेती करने की जानकारी के साथ साथ मौसम के पूर्वानुमान की जानकारी भी स्थानीय भीली भाषा में उपलब्ध कराई जावेगी तथा शासन की जन कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी भी दी जावेगी।

मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत अमन वैष्णव ने अपने उद्बोदन में कहा कि रेडियो के माध्यम से जिले के विभिन्न विभागों के अधिकारियों द्वारा अपने अपने विभाग की कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी जावेगी, जिससे जिले के किसानो एवं आम जनता अपने घर पर रहकर योजनाओं का लाभ प्राप्त कर सकेगें।

महान क्रांतिकारी व्यक्तित्व जो सदैव समाज के पीडीत व्यक्ति के उत्थान के लिए सजग और संघर्षशील रहे ऐसे हमारे पूर्वज टंट्या मामा को समर्पित यह रेडियो स्टेशन झाबुआ जिले के जन समुदाय की जागरूकता और सशक्तिकरण में मुख्य भूमिका निभाएगा।

जन जाति बाहुल्य झाबुआ जिले में टंट्या मामा रेडियो स्टेशन के माध्यम से खेती किसानी के साथ-साथ शिक्षा, स्वास्थ्य रोजगार जैसे विभिन्न विषयों पर कार्यक्रम का प्रसारण होगा।

जनोन्मुखी कार्यक्रमो से झाबुआ जिले के दूरस्थ गाँवों तक आम जन लाभान्वित होंगे, जन-जन तक शासन की योजनाओं की जानकारी पहुँचेगी किसान भाई अपनी खेती किसानी का कामकाज करते हुए भी रेडियो पर खेती किसानी की नई-नई तकनीक और खबरों को सुन सकेंगे, समझ सकेंगे।

यहाँ एक बात और महत्वपूर्ण है कि इस रेडियो स्टेशन से प्रसारित होने वाले कार्यक्रम स्थानिय भाषा में भी रहेंगे जिससे हमारे ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले भोले भाले ग्रामीण जन भी सुनकर इसका फायदा उठा सकेंगे।

रेडियो स्टेशन के कार्यक्रम हम मोबाइल में भी सुन सकेंगे।

मोबाइल में रेडियो कार्यक्रम सुनने के लिए एक छोटा सा एप्लीकेशन स्थापित करना होगा जो की बहुत आसान है।

झाबुआ जिले के विकास के लिए संचालित बहुसंख्य योजनाओं और कार्यक्रमों को आमजन तक पहुँचाने में टट्या मामा रेडियो स्टेशन अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए मील का पत्थर साबित होगा।

वैश्विक सूचना क्रांति के इस युग में झाबुआ जिले के समस्त भाई-बहनों से और बच्चों से आग्रह भी करता हूँ कि वे टट्या मामा रेडियो स्टेशन से जुड़ कर अधिक से अधिक लाभ उठावे ।

अतिथियों के आगमन उपरांत सर्वप्रथम फिता काटकर रेडियों स्टेशन का शुभारम्भ किया गया।

शुभारम्भ के तत्काल पश्चात मुख्य अतिथि सांसद श्री गुमानसिंह डामोर तथा जिले की कलेक्टर रजनी सिंह ने जिले के पहले रेडियो स्टेशन पर जिले वासियों को अपना लाईव शुभकामना संदेश देते हुए हर्ष व्यक्त किया तथा आसन्न दिपोत्सव पर्व की बधाई दी।

कार्यक्रम में सहभागी ग्रामीण महिलाओं द्वारा स्थानीय लोक संस्कृति के गीत गाये।

सामुदायिक रेडियो स्टेशन के शुभारंभ के अवसर पर सभी अतिथियों ने हार्दिक बधाई प्रेषित करते हुये इसकी सफलता के लिए अपनी शुभकामनाऐं अर्पित की गई।

उप संचालक कृषि नगीन सिंह रावत ने स्वागत भाषण में कहाँ कि सामूदायिक रेडियो स्टेशन जिले के किसान भाईयों, आम जनता के लिये खेती किसानी, स्वास्थ्य एवं व्यवहारिक जीवन में मिल का पत्थर साबित होगा।

सामुदायिक रेडियो स्टेशन के संचालक बेनेडिक्ट डामोर ने रेडियो स्टेशन की रूप रेखा के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई। परियोजना संचालक आत्मा गौरी शंकर त्रिवेदी ने कार्यक्रम समस्त अतिथियों एवं उपस्थित महिला कृषको, अधिकारियो/ कर्मचारियो का अभार व्यक्त किया।


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts to your email.

By nit

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading