डॉ. बाबा साहेब अम्बेडकर की प्रतिमा तोड़े जाने के मामले में रविवार को होने वाली महापंचायत रद्द, भीमसेना ने बनवाई ग्रामीणों की कमेटी, नई प्रतिमा लगाने का काम हुआ शुरू

देश, राज्य, समाज

साबिर खान, गुरूग्राम (हरियाणा), NIT:

गुरुग्राम जिला के गांव हयातपुर में पिछले दिनों संविधान निर्माता बाबा साहेब डॉ० भीमराव अम्बेडकर की प्रतिमा तोड़े जाने के मामले ने तूल पकड़ लिया था। हालांकि मौके पर पहुंचे पुलिस और सिविल प्रशासन के बड़े अधिकारियों ने आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी का आश्वासन दिया था और नई प्रतिमा स्थापित करने पर सहमति जताई थी लेकिन ग्रामीणों और आसपास के गांवों के इक्कठा हुए दलित समाज के लोगों में प्रशासन के प्रति गहरा रोष व्याप्त था। मौके पर भीमसेना के राष्ट्रीय प्रभारी अनिल तंवर सहित सैंकड़ों की संख्या में भीम सैनिक भी पहुंचे थे और भीम सेना ने जमकर बवाल काटा और प्रदर्शन किया था। देर शाम भीमसेना चीफ नवाब सतपाल तंवर ने भी हयातपुर गांव का दौरा कर पंचायत से बात की साथ ही प्रदर्शनकारी भीम सैनिकों को शांत कराया। नवाब सतपाल तंवर के पहुंचने पर हयातपुर सेक्टर 93 पुलिस चौकी इंचार्ज सविता, एसीपी राजेंद्र और सेक्टर 10ए थाने के एसएचओ सुनील कुमार पूरे पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे थे। पुलिस अधिकारियों ने भीमसेना चीफ नवाब सतपाल तंवर को आश्वासन दिया था कि मामले पर गहनता से जांच और आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी को जाएगी साथ ही नई प्रतिमा भी स्थापित कराई जाएगी। इससे पहले सैंकड़ों ग्रामीणों और सैंकड़ों भीम सैनिकों ने पुलिस और प्रशासन को एक सप्ताह के समय का अल्टीमेटम देकर रविवार को महापंचायत की घोषणा की थी जिससे पुलिस और प्रशासन के हाथ-पांव फूले हुए थे। मौके पर पहुंचकर भीमसेना प्रमुख नवाब सतपाल तंवर ने मामले को शांत कराया था।

प्राप्त ताजा जानकारी के अनुसार शुक्रवार को ग्रामीणों और भीम सेना की संयुक्त पंचायत का आयोजन किया गया। जिसमें रविवार को होने वाली महापंचायत को रद्द कर दिया गया है और ग्रामीण पुलिस की कार्रवाई से संतुष्ट बताए जा रहे हैं। मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए सीआईए की टीमें लगाई गई हैं और पूछताछ के लिए कई लोगों को हिरासत में भी लिया गया है। भीमसेना चीफ नवाब सतपाल तंवर खुद मामले पर नजर बनाए हुए हैं और लगातार प्रशासन के संपर्क में हैं। इससे पहले प्रशासन ने नई प्रतिमा भी मंगवा ली थी लेकिन कुछ लोगों की आपसी राजनीति के वजह से प्रतिमा स्थापित नहीं की गई थी। जिसपर आपसी सहमति बनाने और कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए भीम सेना का विशेष योगदान रहा है। भीम सेना के हस्तक्षेप के बाद यह विवाद शांत हो गया है। प्रशासन ने सभी मांगों को मान लिया है। हयातपुर के अम्बेडकर भवन में सीसीटीवी कैमरे भी लगाए जा रहे हैं। प्रतिमा को लगाने के लिए पूरा स्ट्रक्चर नए सिरे से तैयार किया जा रहा है। प्रशासन ने इस काम को लेने के लिए नगर निगम को जिम्मेदारी सौंपी है। शुक्रवार को हुई पंचायत में भीम सेना के राष्ट्रीय प्रभारी अनिल तंवर, भीम सेना के गुरुग्राम जिला प्रभारी सुबेदार मेजर धर्म सिंह, भीम सेना के भिवानी जिला अध्यक्ष प्रदीप कुमार, पूर्व सरपंच भरत लाल, जगदेव पहलवान, राजबीर दहिया, ख्याली राम आदि लोग मौजूद थे। इस दौरान सर्वसम्मति से गांव के पांच लोगों की कमेटी भी बनाई गई है जो प्रतिमा लगाने के पूरे कार्य की देखरेख करेगी। पांच सदस्यीय कमेटी में राकेश चेयरमैन, मुकेश कुमार, विनोद कुमार, रामौतार और परसराम पंच को रखा गया है। परसराम मामले में शिकायतकर्ता भी हैं। सेक्टर 10ए थाने के एसएचओ सुनील कुमार ने बताया कि ग्रामीणों और भीम सेना के साथ मिलकर संविधान निर्माता बाबा साहेब डॉ० भीमराव अम्बेडकर जी की नई प्रतिमा लगाने का काम शुरू कर दिया गया है। एसीपी राजेंद्र में नेतृत्व में मामले की पुलिस गहनता से जांच कर रही है, जल्द आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया जाएगा। एसएचओ सुनील कुमार ने बताया कि गांव का माहौल पूरी तरह शांत है, कानून व्यवस्था बनाने में भीम सेना की काफी मदद मिली है।

Leave a Reply