बाल संरक्षण एवं बच्‍चों की सुरक्षा से संबंधित अधिनियमों पर पुलिस अधिकारियों हेतु हुआ कार्यशाला का आयोजन | New India Times

जमशेद आलम, ब्यूरो चीफ, भोपाल (मप्र), NIT:

बाल संरक्षण एवं बच्‍चों की सुरक्षा से संबंधित अधिनियमों पर पुलिस अधिकारियों हेतु हुआ कार्यशाला का आयोजन | New India Times

आज दिनांक 15 जनवरी 24 को भोपाल पुलिस कमिश्नरेट एवं आरम्भ संस्था के समन्वय तथा यूनिसेफ के तकनीकी सहयोग से भोपाल कमिश्‍नरेट के अंतर्गत वरिष्‍ठ पुलिस अधिकारियों के लिए बाल संरक्षण के सभी विषयों एवं बच्‍चों की सुरक्षा से संबंधित अधिनियमों पर कार्यशाला का आयोजन किया गया।

बाल संरक्षण एवं बच्‍चों की सुरक्षा से संबंधित अधिनियमों पर पुलिस अधिकारियों हेतु हुआ कार्यशाला का आयोजन | New India Times

कार्यशाला में मुख्य रूप से Addl. CP श्री अवधेश गोस्‍वामी, DCP मुख्‍यालय/साइबर श्री श्रुतर्कीति सोमवंशी, DCP जोन 2 श्रीमती श्रद्धा तिवारी, Addl DCP श्री महावीर सिंह मुजाल्‍दे, Addl DCP श्री शैलेन्‍द्र सिंह चौहान सहित सहायक पुलिस आयुक्त, थाना प्रभारी एवं यूनिसेफ मध्‍यप्रदेश से बाल संरक्षण विशेषज्ञ लॉलीचेन पी जे, बाल संरक्षण अधिकारी अद्वैता मराठे, सलाहकार अमरजीत कुमार सिंह, आरम्‍भ से अर्चना सहाय एवं बचपन, उदय संस्‍था के टीम सदस्‍य शामिल रहे।कार्यक्रम निम्‍न चरणों में संचालित हुआ:-

1- Addl CP श्री अवधेश गोस्‍वामी द्वारा कार्यशाला की औपचारिक रूप से शुरूआत की गई और अधिकारियों को कार्यशाला के उद्देश्‍य एवं गंभीरता के विषय में बताया गया।

2- बाल संरक्षण अधिकारी यूनिसेफ मध्‍यप्रदेश श्रीमती अद्वैता मराठे द्वारा अंतर्राष्ट्रीय ‍ट्रीय बाल अधिकार समझौता, बच्‍चों के अधिकारी एवं मध्‍यप्रदेश में बच्‍चों की स्थिति से अवगत करवाया गया।

3- श्री अमरजीत कुमार सिंह द्वारा किशोर न्‍याय अधिनियम के अंतर्गत बालक के बेहतर हित को ध्‍यान में रखते हुए न्‍यायिक प्रक्रिया के पालन पर अपनी बात रखी एवं जेजे एक्ट के प्रारूपों एवं व्यवस्थाओं से जुड़े प्रावधानों से अवगत कराया गया।

4- श्रीमती अर्चना सहाय द्वारा पॉक्‍सो एक्ट के मुख्य प्रावधानों को बताया गया एवं केस स्टोरी के मध्य पॉक्‍सो एक्ट के मुख्य प्रावधानों को अवगत कराया गया, पॉक्‍सो पीड़ित बालकों के चिकित्‍सीय परीक्षण एव बेहतर पुर्नवास प्रक्रिया संबंधी विषयों पर चर्चा की गई।

5- डीआईजी/पीएसओ टू डीजीपी डॉ0 विनीत कपूर द्वारा मध्यप्रदेश राज्य एवं भोपाल पुलिस कमिश्नरेट के अंतर्गत संचालित योजनाओं एवं अभिनव प्रयासों की जानकारी दी गई एवं अधिकारियों को अपने अपने में क्षेत्र में पुलिसिंग करने हेतु स्वयं सेवी संगठनों से समन्वय स्थापित करने के लिए प्रोत्‍साहित किया गया। साथ ही भोपाल पुलिस द्वारा महिला एवं बाल अपराधों की रोकथाम हेतु किए गए नवाचारों एवं अभियानों से अवगत कराया गया एवं भोपाल पुलिस कमिश्नरेट के कार्यों एवं उपलब्धियों की सराहना की।

6- लॉलिचेन पी जे (बाल संरक्षण विशेषज्ञ, यूनिसेफ) द्वारा भोपाल शहर में सामुदायिक पुलिसिंग को बढ़ावा देने हेतु निशातपुरा थाना प्रभारी रूपेश दुबे को सम्‍मानित किया गया, साथ ही आगामी समय में कमिश्‍नर सर के मार्गदर्शन में ऐसे अन्‍य प्रयासों के लिए भी प्रोत्‍साहित किया गया।

7- कार्यशाला के अंत में DCP श्री श्रुतर्कीर्ति सोमवंशी द्वारा आगामी माह में भोपाल नगरीय पुलिस के अंतर्गत आने वाले समस्‍त जोन में जोन स्‍तरीय कार्यशाला हेतु कार्ययोजना तैयार कि गई एवं यूनिसेफ, आरम्‍भ टीम के धन्‍यवाद के साथ कार्यशाला का समापन किया गया।

बाल संरक्षण एवं बच्‍चों की सुरक्षा से संबंधित अधिनियमों पर पुलिस अधिकारियों हेतु हुआ कार्यशाला का आयोजन | New India Times

कार्यक्रम निम्‍न चरणों में संचालित हुआ:-

1- Addl CP श्री अवधेश गोस्‍वामी द्वारा कार्यशाला की औपचारिक रूप से शुरूआत की गई और अधिकारियों को कार्यशाला के उद्देश्‍य एवं गंभीरता के विषय में बताया गया।

2- बाल संरक्षण अधिकारी यूनिसेफ मध्‍यप्रदेश श्रीमती अद्वैता मराठे द्वारा अंतर्राष्ट्रीय ‍ट्रीय बाल अधिकार समझौता, बच्‍चों के अधिकारी एवं मध्‍यप्रदेश में बच्‍चों की स्थिति से अवगत करवाया गया।

3- श्री अमरजीत कुमार सिंह द्वारा किशोर न्‍याय अधिनियम के अंतर्गत बालक के बेहतर हित को ध्‍यान में रखते हुए न्‍यायिक प्रक्रिया के पालन पर अपनी बात रखी एवं जेजे एक्ट के प्रारूपों एवं व्यवस्थाओं से जुड़े प्रावधानों से अवगत कराया गया।

4- श्रीमती अर्चना सहाय द्वारा पॉक्‍सो एक्ट के मुख्य प्रावधानों को बताया गया एवं केस स्टोरी के मध्य पॉक्‍सो एक्ट के मुख्य प्रावधानों को अवगत कराया गया, पॉक्‍सो पीड़ित बालकों के चिकित्‍सीय परीक्षण एव बेहतर पुर्नवास प्रक्रिया संबंधी विषयों पर चर्चा की गई।

5- डीआईजी/पीएसओ टू डीजीपी डॉ0 विनीत कपूर द्वारा मध्यप्रदेश राज्य एवं भोपाल पुलिस कमिश्नरेट के अंतर्गत संचालित योजनाओं एवं अभिनव प्रयासों की जानकारी दी गई एवं अधिकारियों को अपने अपने में क्षेत्र में पुलिसिंग करने हेतु स्वयं सेवी संगठनों से समन्वय स्थापित करने के लिए प्रोत्‍साहित किया गया। साथ ही भोपाल पुलिस द्वारा महिला एवं बाल अपराधों की रोकथाम हेतु किए गए नवाचारों एवं अभियानों से अवगत कराया गया एवं भोपाल पुलिस कमिश्नरेट के कार्यों एवं उपलब्धियों की सराहना की।

6- लॉलिचेन पी जे (बाल संरक्षण विशेषज्ञ, यूनिसेफ) द्वारा भोपाल शहर में सामुदायिक पुलिसिंग को बढ़ावा देने हेतु निशातपुरा थाना प्रभारी रूपेश दुबे को सम्‍मानित किया गया, साथ ही आगामी समय में कमिश्‍नर सर के मार्गदर्शन में ऐसे अन्‍य प्रयासों के लिए भी प्रोत्‍साहित किया गया।

7- कार्यशाला के अंत में DCP श्री श्रुतर्कीर्ति सोमवंशी द्वारा आगामी माह में भोपाल नगरीय पुलिस के अंतर्गत आने वाले समस्‍त जोन में जोन स्‍तरीय कार्यशाला हेतु कार्ययोजना तैयार कि गई एवं यूनिसेफ, आरम्‍भ टीम के धन्‍यवाद के साथ कार्यशाला का समापन किया गया।

By nit

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading