सड़कों पर 'यमदूत' बनकर दौड़ रहा है गन्ना से ओवरलोड ट्रक | New India Times

वी.के. त्रिवेदी, ब्यूरो चीफ, लखीमपुर खीरी (यूपी), NIT:

ओवरलोडिंग रोकने में प्रशासन खीरी नाकाम साबित हो रहा है। यहां बेखौफ होकर ट्रक व ट्रैक्टर-ट्रॉली में ओवरलोड गन्ना भरकर ढोया जा रहा है, जो राहगीरों के लिए जान का खतरा बना हुआ है वहीं स्थानीय पुलिस और परिवहन विभाग का इस ओर कोई ध्यान नहीं है जिससे आए दिन बड़े हादसे हो रहे हैं।

राहगीरों की अटक जाती हैं सांसे

वर्तमान में गन्ना पेराई सत्र चल रहा है खमरिया पंडित कस्बे में होकर ट्रक चीनी मिल होकर गुजरता है वहीं किराये पर चलने वाले ट्रैक्टर-ट्रॉलियो में भी ओवरलोड गन्ना भरा जा रहा है उक्त वाहनों के मालिक ज्यादा मुनाफा के चलते ओवरलोड गन्ना भरवाते हैं। जब ओवरलोड ट्रक व ट्रैक्टर-ट्रॉली कस्बों व सड़क पर गुजरती हैं तो राहगीरों की सांसें अटक जाती हैं। क्षमता से ज्यादा गन्ना भरा होने के कारण ट्रैक्टर आगे से सलामी करते चलते हैं। जिससे आए दिन हादसे हो रहे हैं। इस वीडियो को देखकर आप अंदाजा लगा सकते हैं कि कितना खतरनाक हैं चीनी मिल खमरिया पंडित के ओवरलोड गन्ना ढोने वाले ट्रक।

क्रय केंद्रों से गन्ना लादकर चीनी मिलों को जा रहे ओवरलोड गन्ना लदे ट्रक एवं ट्राले हादसे को निमंत्रण देने लगे हैं। वाहनों में वजूद से अधिक गन्ना लादकर चीनी मिल ले जाया जा रहा है। संपर्क मार्गों से लेकर हाइवे पर गन्ने से लदे ट्रकों का बेरोकटोक संचालन हो रहा है। जबकि, हर वर्ष इस तरह के ओवरलोड ट्रक लोगों पर आफत का कारण बनते हैं।

जब ओवरलोड गन्ना भरकर ट्रक सड़क पर चलते हैं तो पास से गुजरने वाले राहगीरों की सांसें थम जाती हैं।
खमरिया पंडित शुगर मिल क्या शुरू हुईं, समझो सड़कों पर आफत दौड़ने लगी है। दरअसल, गन्ना ट्रकों में भरकर शुगर मिल में पहुंचता है, लेकिन हर बार ट्रकों के लिए गाइड लाइन जारी होती है। सब कागजों में ही नज़र आती है पेराई सत्र चल रहा है ऐसे में सड़कों पर गन्ने से लदे ओवरलोड ट्रक नज़र आने लगे हैं। जिस समय सड़क से चीनी मिल खमरिया पंडित के लिए जी टी सी, टी टी सी, आशीर्वाद, के जी एन आदि ग्रुपों के ट्रक ओवरलोड होकर गुजरते हैं, उस समय राहगीर सहम जाते हैं। दिन हो या रात सड़कों पर गन्ने से लदे ओवरलोड वाहन लोगों के लिए मुसीबत पैदा करते नज़र आ रहे फिलहाल शिकायतों के बाद भी बेरोकटोक ट्रक सड़कों व कस्बों पर दौड़ रहे हैं।


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts sent to your email.

By nit

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading