बुरहानपुर विधानसभा क्षेत्र के मतदाता आज 17 नवंबर 2023 को उम्मीदवारों की क़िस्मत को ईवीएम मशीन में करेंगे लॉक | New India Times

मेहलक़ा इक़बाल अंसारी, ब्यूरो चीफ, बुरहानपुर (मप्र), NIT:

बुरहानपुर विधानसभा क्षेत्र के मतदाता आज 17 नवंबर 2023 को उम्मीदवारों की क़िस्मत को ईवीएम मशीन में करेंगे लॉक | New India Times

चुनाव आयोग द्वारा घोषित कार्यक्रम के अनुसार आज 17 नवंबर 2023 शुक्रवार को सुबह 7:00 से शाम 6:00 बजे तक मध्य प्रदेश सहित प्रदेश की हाई प्रोफाइल सीट में शुमार विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 180 में प्रचार का शोर थमने के बाद मतदान होना है, जिसमें मतदाता उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला ईवीएम मशीन में फाइनली लॉक करेंगे। बुरहानपुर कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री भव्या मित्तल के मार्गदर्शन और निर्देशन में निर्वाचन की सभी तैयारियां पूर्ण हो चुकी है और मतदान दलों को कलेक्टर बुरहानपुर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी सुश्री भव्या मित्तल के मार्गदर्शन में कुशलतापूर्वक रवाना किया जा चुका है।

बुरहानपुर विधानसभा क्षेत्र के मतदाता आज 17 नवंबर 2023 को उम्मीदवारों की क़िस्मत को ईवीएम मशीन में करेंगे लॉक | New India Times

यहां 15 तारीख की शाम 6:00 बजे यहां प्रचार थम गया था। वैसे तो बुरहानपुर विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 180 में लगभग एक दर्जन उम्मीदवार अपनी किस्मत आज़मा रहे हैं लेकिन चतुष्कोणीय मुक़ाबला भाजपा, कांग्रेस,एमआईएम और निर्दलीय के मध्य है। प्रचार थमने के बाद जहां उम्मीदवारों ने राहत की सांस ली है, वहीं सभी उम्मीदवार अपने-अपने अंदाज़ में क्षेत्र के विधानसभा क्षेत्र के भगवान तुल्य मतदाताओं को अपनी तरफ आकर्षित करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। भाजपा की उम्मीदवार श्रीमती अर्चना चिटनिस दीदी जहां अपनी पूरी ताक़त लगाकर क्षेत्र में अपना प्रचार में व्यस्त रहीं,उनके प्रचार के लिए दिग्गजों में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय (इन्दौर) महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस सहित अन्य नेताओं ने रोड शो किया। वहीं प्रचार थमने के बाद अर्चना चिटनिस दीदी के पक्ष में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा ने भी वीडियो संदेश के माध्यम से क्षेत्र के विकास, उन्नति और तरक्की के लिए उन्हें जिताने की अपील कर रहे हैं।

कांग्रेस उम्मीदवार ठाकुर सुरेंद्र सिंह उर्फ़ शेरा भैया के पक्ष में जहां मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह एवं राज्यसभा सांसद एवं अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त शायर इमरान प्रतापगढ़ी ने प्रचार करके शेरा भैया के पक्ष में माहौल तैयार किया, वहीं एमआईएम पार्टी उम्मीदवार नफीस मंशा खान ने एमआईएम पार्टी के ज़िला अध्यक्ष अधिवक्ता जहीरूद्दीन शेख और एमआईएम पार्टी की कोर कमेटी के सदस्य एडवोकेट सोहेल हाशमी के नेतृत्व में लोकल टीम और कांग्रेस के निष्ठावान सिपाहियों की टीम के साथ मिल्लत के युवाओं की टीम ने भी पूरी ताक़त के साथ पूरा ज़ोर लगाया है। एआईएमआईएम उम्मीदवार के प्रचार के लिए एमआईएम नेता सैयद मोईन, एआईएमआईएम सांसद सैयद इम्तियाज़ जलील और भायखला मुंबई क्षेत्र के पूर्व विधायक एडवोकेट वारिस पठान ने अपनी ताकत झोंक दी है।

एमआईएम उम्मीदवार से जुड़े युवाओं और कार्यकर्ताओं को पूरा विश्वास है कि वह यह सीट निकल रहे हैं और परिणाम आने के बाद 4 तारीख के जश्न में हैदराबाद से पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं सांसद बैरिस्टर असदुद्दीन ओवैसी के आगमन के भी संकेत सोशल मीडिया के माध्यम से बता रहे हैं। भाजपा से बागी उम्मीदवार के रूप में दिवंगत सांसद एवं पूर्व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वर्गीय नंदकुमार सिंह चौहान के पुत्र हर्षवर्धन सिंह चौहान ने भाजपा के बागियों की टीम के साथ इस क्षेत्र में धुआंधार प्रचार करके भाजपा उम्मीदवार की नींद खराब करके रख दी है और यही वजह है कि भाजपा उम्मीदवार और निर्दलीयों उम्मीदवार के मध्य शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में कई बार टकराव की स्थिति बनी।

निर्दलीय उम्मीदवार के निकट क़रीबी रिश्तेदार द्वारा दिवंगत सांसद के वायरल वीडियो को लेकर देर रात थाने में अपने अधिवक्ता श्री सत्यनारायण वाघ के माध्यम से आपत्ति भी दर्ज करवाई गई। लेकिन क्षेत्र में शांति व्यवस्था बनाए रखने में पुलिस अधीक्षक पुलिस बुरहानपुर की महत्वपूर्ण भूमिका के कारण एवं पुलिस प्रशासन की जागरूकता से यहां कोई बड़ा हादसा नहीं हो पाया। लालबाग की एक आमसभा में भाजपा उम्मीदवार ने अपना दर्द बयां किया। शाहपुर में संपन्न हुई आखिरी सभा में स्वर्गीय संसद के धर्मपत्नी ने मंच पर आकर जनता के समक्ष जो हाल ए दिल बयां करके हर्षवर्धन को जनता के हवाले किया है। उससे यह अंदाज़ा और कयास लगाया जा रहा है कि ग्रामीण क्षेत्रों में स्थिति मज़बूत है।

भाजपा के बागी की हैसियत से हर्षवर्धन ने अच्छा प्रदर्शन किया है। इस चुनाव में कांग्रेस और भाजपा के बागी दोनों पार्टियों के लिए मुसीबत का पहाड़ साबित हो रहे हैं। बुरहानपुर के सियासी मंज़र नामे में जो हालात बने हैं, उसको देखते हुए सियासी पंडित कोई भी निर्णायक भविष्यवाणी करने में असमर्थ नज़र आ रहे हैं। क्योंकि चारों प्रमुख उम्मीदवारों के प्रदर्शन में उनके मुताबिक यहां खड़ा सिक्का माना जा रहा है। वैसे मतदान की पूर्व संध्या पर, जिसे कत्ल की रात की संज्ञा दी गई है उसमें जो उम्मीदवार अपने पिटारे खोलेगा वह ही इस दंगल में कामयाबी से हमकिनार होगा। 17 के शाम को 6:00 बजे के बाद जनता के रुझान का पता चल पाएगा।


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts to your email.

By nit

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading