प्रेस्टीज प्रबंधन एवं शोध संस्थान, ग्वालियर में आयोजित चार दिवसीय वार्षिक महोत्सव ‘‘स्पंदन-2023’’ का हुआ सफल समापन, ‘‘सांस्कृतिक संध्या में झलका भारतीय एवं पाष्चात्य संस्कृति का अनूठा संगम’’ | New India Times

गुलशन परूथी, ग्वालियर (मप्र), NIT:

प्रेस्टीज प्रबंधन एवं शोध संस्थान, ग्वालियर में आयोजित चार दिवसीय वार्षिक महोत्सव ‘‘स्पंदन-2023’’ का हुआ सफल समापन, ‘‘सांस्कृतिक संध्या में झलका भारतीय एवं पाष्चात्य संस्कृति का अनूठा संगम’’ | New India Times

जहां एक और भारतीय संस्कृति की भावना एवं परंपरा से ओत-प्रोत भारत के विभिन्न प्रांतों के लोकनृत्य भारतीय संस्कृति की प्राचीनता एवं विभिन्नता का परिचय दे रहे थे। वहीं दूसरी ओर वर्तमान परिदृश्य में भारत की आधुनिकता को विश्व पटल में दर्शाते हुए आधुनिक नृत्य शैली एक विशेष ही प्रकार की छटा बिखेरती हुयी सांस्कृतिक संध्या में दिखायी दे रही थी। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे प्रेस्टीज प्रबंधन एवं शोध संस्थान, ग्वालियर के निदेषक डाॅ. निषांत जोषी ने कहा कि संस्थान सदैव ही छात्रों के सर्वांगीण विकास के लिये प्रयासरत रहा है और इसी उद्देष्य को पूर्ण करने में संस्थान का वार्षिक महोत्सव ‘‘स्पंदन’’ प्रतिवर्ष प्रेस्टीज प्रबंधन एवं शोध संस्थान, ग्वालियर के द्वारा आयोजित किया जाता है। ‘‘स्पंदन’’ का आयोजन इसके अर्थ (हृदय की धड़कन) के अनुरूप ही विद्यार्थियों के उत्साहवर्धन एवं उनमें छिपी हुई प्रतिभाओं को निखारने के उद्देष्य से प्रेस्टीज प्रबंधन एवं शोध संस्थान, ग्वालियर द्वारा आमंत्रित किया जाता है।

प्रेस्टीज प्रबंधन एवं शोध संस्थान, ग्वालियर में आयोजित चार दिवसीय वार्षिक महोत्सव ‘‘स्पंदन-2023’’ का हुआ सफल समापन, ‘‘सांस्कृतिक संध्या में झलका भारतीय एवं पाष्चात्य संस्कृति का अनूठा संगम’’ | New India Times

इस उत्सव के दौरान समूचा माहौल आनंदमय एवं स्फूर्तिदायक बनता हुआ दिखाई देता है तथा डाॅ. जोशी ने बताया कि भारत एक युवा देश है और हमारे देश का विकास इन युवाओं के कंधों पर टिका हुआ है युवाओं को आगे आकर समाज को सरकार के द्वारा बनाये गये नियमों को मनाने के लिये जागरूक करना चाहिए साथ ही आज का समय टेक्नोलोजी का है तो सभी छात्र एवं छात्राओं को नई-नई टेक्नोलाॅजी सीखकर देश के विकास में योगदान देना चाहिए और इसके माध्यम से छात्र एवं छात्राएं अपने जीवन को संवार सकते है।

संस्थान की सह निर्देशिका डाॅ तारिका सिंह सिकरवार ने अपने स्वागत वक्तव्य में कहा कि इस सांस्कृतिक संध्या के सभी कार्यक्रमों एवं गत तीन दिनों से चल रही विभिन्न स्पर्धाओं के आयोजन में महाविद्यालय के छात्र/छात्राओं ने जिस प्रकार टीम भावना का परिचय देकर आपसी समन्वय के साथ आज स्पंदन-2023 के समापन को एक सफल एवं अविस्मरणीय पल के रूप में प्रेस्टीज प्रबंधन एवं शोध संस्थान, ग्वालियर की स्मारिका में शामिल कर दिया है, जो सदैव ही सराहा जाता रहेगा और उन्होंने सभी छात्र एवं छात्राओं को उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं दी।
प्रेस्टीज प्रबंधन एवं शोध संस्थान, ग्वालियर में चल रहे स्पंदन 2023 के अन्तिम दिन अलग-अलग 2 सफल प्रतिस्पर्धाओं का आयोजन भी किया गया जिसमें आई.टी. क्यीज तथा अलफाजे रूह प्रमुख थे तथा इसमें सम्मानित निर्णायक मण्डल के द्वारा बिना पक्षपात के दोनों कार्यक्रमों के विजेताओं का चयन किया गया जिसमें आई.टी. क्यीज में प्रथम रवि किशन, शिवानी यादव, पीआईएमआरजी, द्वितीय अमन यादव, साक्षी मांझी पीआईएमआरजी एवं तृतीय प्रखर राजावत, निशा राठौर पीआईएमआरजी रहे तथा अलफाजे रूह में प्रथम जयप्रताप चैहान, महाराजा मान सिंह काॅलेज, द्वितीय पंकज उपाध्याय, मोतीलाल नेहरू काॅलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय तथा तृतीय कु. प्रतिभा दुबे, एम.एल.बी., काॅलेज, ग्वालियर विजेता रहे।

स्पंदन-2023 के समन्वयक डाॅ. गौरव जायसवाल ने जानकारी दी कि आज की सांस्कृतिक संध्या में इस बार थीम को थोड़ा अलग से रखते हुए सरस्वती वंदना के स्थान पर रामायण नृत्य से स्पंदन 2023 की सांस्कृतिक संध्या का आरंभ किया गया। सांस्कृतिक संध्या में एक ट्रिव्यूट डांस जो कि हमारे भारतीय सोल्जर के लिए आयोजित किया गया जिसमें हमारे भारतीय सोल्जर के बलिदान को दिखाया गया, इसके बाद स्पंदन 2023 की सांस्कृतिक संध्या भांगड़ा डांस जो पंजाब का प्रसिद्ध डांस है का आयोजन किया गया जिसमें संस्थान के ही छात्र एवं छात्राओं ने हिस्सा लिया तथा मध्यप्रदेश के लांगुरिया डांस तथा महाभारत पर आधारित बालाज डांस का भी आयोजन संस्थान के छात्र एवं छात्राओं के द्वारा ही आयोजित किया गया तथा 6 से अधिक रंगारग प्रस्तुतियां दी गई जिसमें 6 नृत्य प्रस्तुतियां प्रमुख रही। इसी कड़ी में 3 ब्रांड एम्बेसडर राउंड भी आयोजित किये गये जिनमें ट्रेडिसनल, स्पोर्टस् तथा वेस्टर्न ऐथेनिक परिधानों को पहनकर महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं ने रैम्प वाॅक किया तथा ब्रांड एम्बेसडर को 8 निर्णायक मंडल ने बिना किसी पक्षपात के अपना निर्णय सुनाते हुये विजेताओं का चयन किया।

इसी दौरान संस्थान के ही छात्र-छात्राओं के द्वारा बैण्ड परर्फोमेंस भी दिया गया। इस सांस्कृतिक संध्या में महाविद्यालय के लगभग 350 से अधिक छात्र-छात्राओं ने प्रस्तुतियां दी। सांस्कृतिक संध्या में ब्रांड एम्बेसडर तथा डांस में फ्री स्टाईल को विजेता घोषत किया गया तथा ब्रांड एम्बेसडर विजेताओं का चयन निर्णायक मंडल के द्वारा किया गया जिसमें संस्थान के ही छात्र-छात्राओं को विजेता घोषित किया। विजेताओं के नाम निम्नलिखित है- आदित्य सिंह राजावत, कुनाल गुर्जर,, गौरी जादौन, आभा गुर्जर। ।
स्पंदन 2023 की सांस्कृतिक कार्यक्रमों की रूपरेखा डाॅ. रिचा बनर्जी के मार्गदर्शन में तैयार की गई। कार्यक्रम की अंतिम कड़ी में ‘‘स्पंदन-2023’’ की सांस्कृतिक संध्या के अवसर पर समन्वयक डाॅ. गौरव जायसवाल ने आभार व्यक्त करते हुए सभी सम्माननीय अतिथियों, पालकगणों, प्राध्यापकगणों, स्टाॅफ सदस्यों, छात्र/छात्राओं एवं मीडिया साथियों को धन्यवाद प्रेषित किया।

प्रेस्टीज प्रबंधन एवं शोध संस्थान, ग्वालियर के प्रांगण में आयोजित चार दिवसीय वार्षिक उत्सव स्पंदन-2023 का समापन एक सांस्कृतिक संध्या के साथ किया गया जिसमें करीब 2500 से ज्यादा छात्र-छात्राओं एवं अभिभावकगण एवं सम्माननीय अतिथियों के रूप में कार्यक्रम के दौरान मौजूद रहे। जिसमें मुख्य रूप से ग्वालियर शहर के सम्माननीय सांस्कृतिक अतिथियों के रूप में उपस्थित थे।
इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से डाॅ. नितिन सिंह (कमांडिंग आफिसर 4012 फील्ड हाॅस्पिटल जोधपुर) एवं श्री रितु अग्रवाल (फ्रीलाॅस आर्टिस्ट) उपस्थित रहे।
इस अवसर पर संस्थान के समस्त प्राध्यापकगण, स्टाॅफ सदस्य आदि उपस्थित रहे।


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts to your email.

By nit

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading