आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों ने जनरल प्रमोशन एवं ऑनलाइन परीक्षा की मांग को लेकर राज्यपाल को भेजा ई-मेल

देश, राज्य, शिक्षा

अबरार अहमद खान/मुकीज़ खान, भोपाल (मप्र), NIT:

मध्य प्रदेश में कोरोना की स्तिथि भयावह होती दिखाई दे रही है जिससे छात्र-छात्राओं में दहशत का माहौल है। एनएसयूआई मेडिकल विंग के प्रदेश समन्वयक रवि परमार ने बताया कि कोरोना के कारण छात्र-छात्राएं अपने स्वास्थ्य और भविष्य को लेकर अत्यधिक चिंतित हैं इसी वजह से मध्य प्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय के आयुर्वेदिक और होम्योपैथिक नर्सिंग एवं पैरामेडिकल के विद्यार्थियों ने सोमवार को विश्वविद्यालय के कुलपति और सभी जिम्मेदार अधिकारियों को जनरल प्रमोशन और ऑनलाइन परीक्षा या ओपन बुक परीक्षा की मांग को लेकर ईमेल भेजे थे। लेकिन जब सुनवाई नहीं हुई तो बुधवार को मध्य प्रदेश की राज्यपाल को हजारों की संख्या में ईमेल भेजकर जनरल प्रमोशन और ऑनलाइन ओपन/बुक एग्जाम की मांग की है।
परमार ने बताया कि नर्सिंग आयुर्वेदिक होम्योपैथिक और पैरामेडिकल कोर्स की सत्र 2019- 20 की परीक्षा काफी समय पहले हो जानी थी लेकिन अभी तक नहीं हुई जिससे छात्र छात्राओं का समय बर्बाद हो रहा है। और अब ऐसे हालातों में परीक्षा कराना उचित नहीं है इसलिए छात्र छात्राओं को या तो जनरल प्रमोशन दिया जाए या फिर जल्द से जल्द उनकी ओपन बुक या ऑनलाइन परीक्षा करवाई जाएं |
परमार ने कहा क्या प्रदेश के हालात बहुत गंभीर है ऐसे में छात्र छात्राओं कि ऑफलाइन परीक्षा कराना यानी कोरोना को ओर ज्यादा फैलाना है।अगर छात्र-छात्राएं संक्रमित हुए तो उसकी जिम्मेदारी किसकी होगी ना विश्वविद्यालय जिम्मेदारी लेने को तैयार है ना ही सरकार जिम्मेदारी लेने को तैयार है

रवि परमार ने कहा कि नर्सिंग के छात्र-छात्राएं लगातार जनरल प्रमोशन की मांग कर रहे हैं लेकिन सरकार उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दे रही है अब नर्सिंग के छात्र-छात्राएं जनरल प्रमोशन की मांग को लेकर एनएसयूआई मेडिकल विंग के साथ हाईकोर्ट जाएंगे

परमार ने बताया कि मौजूदा हालातों को देखते हुए एनएसयूआई कुलपति से लेकर राज्यपाल तक को अवगत करवा चुकी है।लेकिन कोई भी छात्र-छात्राओं के भविष्य पर ध्यान नहीं दे रहा है। अगर जल्दी छात्राओं के स्वास्थ्य और भविष्य को लेकर उचित निर्णय नहीं लिया गया तो एनएसयूआई उग्र प्रदर्शन करेगी.

Leave a Reply