महामहिम राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल, राष्ट्रीय सिकल सेल एनीमिया उन्मूलन मिशन कार्यक्रम में हुए सम्मिलित | New India Times

रहीम शेरानी हिन्दुस्तानी, ब्यूरो चीफ, झाबुआ (मप्र), NIT:

महामहिम राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल, राष्ट्रीय सिकल सेल एनीमिया उन्मूलन मिशन कार्यक्रम में हुए सम्मिलित | New India Times

प्रवास पर आए महामहिम राज्यपाल श्री मंगू भाई पटेल का गोपालपुर हवाई पट्टी पर पहुंचने पर कैबिनेट मंत्री सुश्री निर्मला भूरिया सांसद श्री गुमान सिंह डामोर, कलेक्टर सुश्री तन्वी हुड्डा, पुलिस अधीक्षक श्री अगम जैन एवं उपस्थित जनप्रतिनिधियों ने पुष्पगुच्छ देकर स्वागत किया।

महामहिम राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल, राष्ट्रीय सिकल सेल एनीमिया उन्मूलन मिशन कार्यक्रम में हुए सम्मिलित | New India Times

हवाई पट्टी से महामहिम राज्यपाल स्वास्थ्य विभाग द्वारा सिकल सेल उन्मूलन मिशन के तहत ग्राम खेड़ी में आयोजित कार्यक्रम में पहुंचे।

जहां पी एम श्री स्कूल की छात्राओं द्वारा बैंड पर राष्ट्रगान की प्रस्तुति दी गई। इसके पश्चात राज्यपाल को कैबिनेट मंत्री सुश्री भूरिया द्वारा तुलसी का पौधा देकर स्वागत किया गया। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर बघेल ने स्वागत उद्बोधन दिया तथा सिकल सेल बीमारी के संबंध में उपस्थित ग्राम जनों को अवगत कराया तथा बताया कि किस प्रकार से बीमारी फैलती है तथा क्या लक्षण है उन्होंने बताया कि जिले में अब तक 653454 सिकल सेल की स्क्रीनिंग की जा चुकी है साथ ही 11480 सिकल सेल वाहक पहचान की जा चुकी है वहीं 839 सिकल सेल के व अन्य बीमारियों के 276 रोगियों का उपचार चल रहा है।

महामहिम राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल, राष्ट्रीय सिकल सेल एनीमिया उन्मूलन मिशन कार्यक्रम में हुए सम्मिलित | New India Times

सिकल सेल एक गंभीर जानलेवा बीमारी इसे खत्म करना हम सबका कर्तव्य: महामहिम

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए महामहिम राज्यपाल द्वारा सिकल सेल बीमारी की गंभीरता पर चर्चा की गई उन्होंने कहा कि सिकल सेल एक गंभीर बीमारी है। अतः हमें सिकल सेल रोगी को पहचान कर परिवार की जांच भी करना है। उन्होंने कहा कि मैं विभिन्न जगह विकसित भारत यात्रा में सम्मिलित हुआ हूं, जहां पर आयोजित स्वास्थ्य शिविर में इस प्रकार के व्यक्ति भी दिखाई दिए जिनके शारीरिक लक्षण पहचान कर भी सिकल सेल की जांच हेतु मैंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को कहा और जब उनकी जांच हुई तो उनमें सिकल सेल के लक्षण भी पाए गए अतः सिकल सेल का प्रभाव शरीर के अंदरूनी अंगों के साथ-साथ बाहरी लक्षणों में भी दिखाई देता है। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहा कि आप बच्चों के जन्म के साथ ही आंगनवाड़ी, स्कूल, कॉलेज में जांच करें ताकि 2047 तक भारत से इस बीमारी को जड़ से नष्ट किया जा सके। शादी के पहले जिस प्रकार से जन्म कुंडली मिलन की जाती है।

उसी प्रकार से सिकल सेल उन्मूलन अभियान के तहत स्क्रीनिंग कर कार्ड बनाया जा रहे हैं, ताकि लड़का एवं लड़की की शादी सही जगह पर हो सके। झाबुआ एवं अलीराजपुर जिले में यह अभियान एक पायलट प्रोजेक्ट के रूप में चल रहा है। अतः उन्होंने अपील की सभी अधिकारी, जनप्रतिनिधि, आम जन इस अभियान को जमीनी स्तर तक ले जाएं ताकि इस बीमारी को जड़ से खत्म किया जा सके। उन्होंने कहा की हमारा मानव जीवन तभी सफल होगा जब समाज के प्रति हमारा योगदान होगा।

कार्यक्रम में उपस्थित कैबिनेट मंत्री सुश्री निर्मला भूरिया ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि राज्यपाल हमारे बीच में समय-समय पर आते रहते हैं क्योंकि उन्हें जिले की समस्याओं का बारे में पता है वह हमारा दुख दर्द जानते हैं साथी सिकल सेल सेल एनीमिया की बीमारी है जो सदियों से आदिवासी क्षेत्र में चलते आ रही है इस समस्या महामहिम राज्यपाल द्वारा इस बीमारी के उन्मूलन हेतु प्रधानमंत्री का ध्यान आकर्षित किया था। महामहिम राज्यपाल लगातार क्षेत्र का भ्रमण करके इस बीमारी के प्रति जागरूकता लाने का कार्य स्वयं भ्रमण कर रहे हैं।

केंद्र एवं राज्य सरकार इसके साथ ही विभिन्न बीमारियों को रोकने के लिए नई-नई योजनाएं ला रही है उन्होंने कहा कि इस बीमारी को जड़ से खत्म करने के लिए महामहिम का मार्गदर्शन हमेशा बना रहेगा इसके साथ ही महिला बाल विकास विभाग की मंत्री होने के नाते मेरा भी प्रयास रहेगा कि इस बीमारी के प्रति जागरूकता फैले और हम इसे खत्म कर सके। सांसद रतलाम झाबुआ श्री गुमान सिंह डामोर द्वारा कहा गया कि देश में यह पहला अवसर है जब सबसे घातक बीमारी के उन्मूलन के प्रयास किए गए हैं तथा पायलट प्रोजेक्ट के रूप में झाबुआ, अलीराजपुर का चयन किया गया है।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के 2047 तक विकसित भारत में सिकल सेल उन्मूलन के उन्मूलन का सपना है।
आज पीएम ने निःशुल्क राशन, पक्के घर, उज्ज्वला योजना तथा आयुष्मान कार्ड किसान सम्मान निधि,लाडली बहन योजना अंतर्गत लगातार विकास का कार्य कर रहे हैं जो हमारे आदिवासी क्षेत्रों में गरीबी के साथ-साथ उनके आर्थिक रूप से मजबूत करने का कार्य भी किया जा रहा है।हम सभी किसान,युवा,महिलाओं की समस्याओं को दूर करने के लिए संकल्पित है आप सभी ग्रामीण आज आयोजित शिविर का लाभ उठाएं तथा सिकल सेल का उन्मूलन करने में अपना योगदान दे। कार्यक्रम के अंत में स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टर संदीप चोपड़ा नोडल अधिकारी सिकल सेल उन्मूलन अभियान ने उपस्थित सभी अधिकारियों, जनप्रतिनिधियों एवं ग्रामीणों का आभार व्यक्त किया।

विभिन्न योजनाओं के हितग्राहियों को राज्यपाल ने लाभ वितरण किया।

राज्यपाल द्वारा ग्राम खेड़ी की श्रीमती बद्दू मालजी मेड़ा को आयुष्मान कार्ड लाभ का वितरण किया गया। श्रीमती बद्दु ने जायडस अस्पताल दाहोद में इलाज करवाया था जहां आयुष्मान कार्ड के द्वारा उनके इलाज में खर्च का पूरा भुगतान किया गया। इसी प्रकार ग्राम खेड़ी की ही काली गणावा के हाथ में फ्रैक्चर होने पर उनके द्वारा भी आयुष्मान कार्ड योजना के तहत ही इलाज में हुए खर्च का भुगतान किया गया जिसका वितरण राज्यपाल द्वारा उन्हें किया गया।

इसके साथ ही गांव की बालिका सुश्री शिवानी बारिया एवं अंजलि गुण्डीया को सिकल सेल कार्ड का वितरण किया गया। लाड़ली लक्ष्मी योजना अंतर्गत छोटी बालिका रेणुका बारिया को आश्वासन पत्र दिया गया। उज्ज्वला योजना अंतर्गत अंजली राज गुंडिया को गैस कनेक्शन का वितरण किया गया। राज्यपाल द्वारा राणापुर निवासी गीता प्रजापत को मोटरेज ट्राइसिकल वितरित की गई। इसके साथ ही उन्होंने स्वास्थ्य विभाग एवं आयुष विभाग के द्वारा किए जा रहे हेल्थ चेकअप कैंप का निरीक्षण भी किया।


Discover more from New India Times

Subscribe to get the latest posts to your email.

By nit

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading