जिस सरकार की प्राथमिकता नौजवान ना हो, ऐसी सरकार को बेदखल कर सत्ता से बाहर कर देना चाहिए: कमलनाथ | New India Times

जमशेद आलम, ब्यूरो चीफ, भोपाल (मप्र), NIT:

जिस सरकार की प्राथमिकता नौजवान ना हो, ऐसी सरकार को बेदखल कर सत्ता से बाहर कर देना चाहिए: कमलनाथ | New India Times

इंदौर में लोग पूछते थे कि छिंदवाड़ा कहां है, यह तब की बात है जब कोई छिंदवाड़ा को अच्छे से जानता नहीं था। मैं पहली बार चुनाव लड़ा था और सांसद बना था तब हमने धीमे-धीमे छिंदवाड़ा की पहचान प्रदेश में बनाई। यह मेरा लक्ष्य था, जिसे एक सोच के साथ हमने पूरा किया। आज सबको पता है कि छिंदवाड़ा कहां है। इंदौर में यह जानकर बहुत आश्चर्य हुआ और साथ ही इस बात का दुख भी हुआ कि आप जो युवा हमारे सामने बैठे हैं उनका ही भविष्य अंधेरे में रहेगा, तो वह मध्य प्रदेश के भविष्य का निर्माण कैसे करेंगे? आज में आपको ईमानदारी से नौकरियों में भर्ती का वचन देता हूं। मैं तो कहता हूं जिस सरकार की प्राथमिकता में नौजवान ना हो उसे बेदखल कर सत्ता से बाहर कर देना चाहिए। उक्त बातें प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ ने आज इंदौर में आयोजित बेरोजगार महापंचायत को संबोधित करते हुए कही।

अपने संबोधन में आगे बोलते हुए श्री कमलनाथ ने कहा कि आज के नौजवान और 20 साल पहले के नौजवान में बहुत अंतर है। आज के नौजवान की अपनी सोच है, अपना दृष्टिकोण है। आज का नौजवान पूरी तरीके से सोशल मीडिया से जुड़ा है। उन्होंने कहा कि 40 साल से चुनाव लड़ रहा हूं और जीत रहा हूं। आज कितना अंतर आ गया है लोगों की सोच में उनके दृष्टिकोण में उनके नजरिए में, विशेषकर राजनीति में। उन्होंने कहा कि आप यहाँ आए हैं, आपको कोई कमीशन अथवा ठेका नहीं मिल रहा। आपको अपने भविष्य की चिंता है।

जिस सरकार की प्राथमिकता नौजवान ना हो, ऐसी सरकार को बेदखल कर सत्ता से बाहर कर देना चाहिए: कमलनाथ | New India Times

श्री कमलनाथ ने कहा कि रोजगार दो तरीके के होते हैं, एक सरकारी और एक प्राइवेट। प्रायवेट रोजगार निवेश से आता है और निवेश विश्वास से आता है। उद्योगपतियों को मध्यप्रदेश पर विश्वास नहीं है, इसलिए आज प्रदेश में कोई निवेश नहीं आता है। शिवराज जी यहां इंदौर में आकर नाटक करते हैं, इन्वेस्टर समिट की बात करते हैं, कहते हैं कि 33 लाख करोड़ की राशि आयेगी, मैं कहता हूं अगर आप नौजवानों के हित की बात करते हैं, तो नौजवानों के लिए रिक्त पद जो है केवल उनको ही भर दीजिए।
श्री कमलनाथ ने कहा कि मैंने उद्योगपतियों से मध्यप्रदेश में निवेश करने को कहा तो उन्होंने मुझसे कहा कि मध्यप्रदेश में तो केवल भ्रष्टाचार है। पहले दलाली से ही भ्रष्टाचार शुरू हो जाता है हम तीन साल से जमीन मांग रहे हैं, हमको सरकार ज़मीन ही उपलब्ध नहीं कराती है तो हम कैसे उद्योग लगाए?

उन्होंने कहा कि 15 महीने की हमारी सरकार में मेरा प्रयास था कि मध्य प्रदेश की एक नई पहचान बनाएं, मैंने कोई इंवेस्टर समिट नहीं किया, देश के बड़े से बड़े उद्योगपतियों के साथ बस एक सम्मेलन किया।
श्री कमलनाथ ने कहा कि उद्योग लगता है तो लोगों को रोजगार मिलता ही है लेकिन आर्थिक गतिविधि भी बढ़ती है। छोटे दुकानदारों, रेहड़ी, पटरी वालों की गिनती जीडीपी में नहीं होती, लेकिन उनसे हमारी आर्थिक गतिविधि जरूर बढ़ती है। हमें इन बुनियादी बातों को समझना होगा। जब तक हमारी सोच में बदलाव नहीं होगा, एक विजन नहीं होगा तब तक कुछ नहीं हो सकता। मध्यप्रदेश का भविष्य टेलीविजन नहीं, विजन से बनेगा। शिवराज जी से कहना चाहता हूं टेलीविजन में जाकर मुंह बहुत चला लीजिए, लेकिन मुंह चलाने में और प्रदेश चलाने में बहुत अंतर होता है। प्रदेश में भ्रष्टाचार की स्थिति यह है कि जिसके पास 50 एकड़ जमीन है, पैसा देकर गरीबी रेखा में अपना नाम जुड़वा लेता है। आज भाजपा राज में सुनियोजित सिस्टम से पंचायत से लेकर मंत्रालय तक भ्रष्टाचार की एक व्यवस्था बन चुकी है। प्रदेश में हो रही भर्ती परीक्षाओं में किस तरह से धांधली हो रही है, भ्रष्टाचार हो रहा है। प्रश्न यह है कि क्या भ्रष्टाचार के सिस्टम से प्रदेश चल सकता है? यह जो भी घोटाले हुए हैं पटवारी घोटाला या कोई और घोटाले हम सभी की जांच करेंगे और शासकीय कर्मचारी से जांच नहीं करवाएंगे, आप युवाओं से जांच करवाएंगे।
श्री कमलनाथ जी ने कहा कि बाबा साहब अंबेडकर के सामने कितनी बड़ी चुनौती थी, फिर भी उन्होंने ऐसा संविधान बनाया जिसमें सभी का हित और सभी की रक्षा के प्रावधान है। कई देशों ने संविधान की नकल की। मगर यह संविधान गलत हाथों में चला जाए तो क्या होगा? इसलिए मैं कहता हूं कि आप युवा साथी संविधान के भी रक्षक हैं और आने वाली पीढ़ियों को सुरक्षित रखने के लिए आपको इसकी रक्षा भी करना है।

श्री कमलनाथ ने कहा कि यही कहना चाहता हूं कि आप कमलनाथ का साथ मत देना, कांग्रेस का साथ मत देना लेकिन सच्चाई का साथ जरूर देना। मध्य प्रदेश का नाम घोटाला प्रदेश है। ढ़ाई सौ घोटाले सरकार में हुए हैं और 3.40 लाख करोड़ का कर्ज ले लिया है। शिवराज जी से पूछिए इन्होंने इस कर्ज का किया क्या? हमारे युवाओं को फायदा हुआ? हमारे आशा-ऊषा बहनों को फायदा हुआ? पटवारीयों को फायदा हुआ? संविदा कर्मचारियों को क्या मिला? केवल इन्होंने इस कर्ज से बड़े-बड़े ठेके दिए और उसमें कमीशन लिया।

श्री कमलनाथ जी ने कहा कि शिवराज जी को चुनाव के 5 महीने पहले बहनें याद आ रही है। हमारी सरकार थी तो हमने 1000 गौशालाएं बनाने का काम किया, 27 लाख किसानों का कर्ज माफ किया, 100 रू. में 100 यूनिट बिजली दी, माफिया राज को खत्म करने की पहल की। रोजगार के अवसर सृजित किये। आप छोटी मांगों को लेकर परेशान न हो, ये तो पूरी होंगी, बाकी बड़ी-बड़ी मांगों को मेरा कुर्ता खींचकर अपनी मांगो को पूरा करवाना।
इंदौर की बेरोजगार महापंचायत की जनसभा में वरिष्ठ कांग्रेस नेता और बड़ी संख्या में बेरोजगार युवा उपस्थित थे।

By nit

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading