बुनकर संघ अध्यक्ष ने 15 दिनों की हड़ताल को अफ़वाह क़रार दिया, सोशल मीडिया के माध्यम से तोड़ी बाज़ी के लगाए जा रहे हैं आरोप | New India Times

मेहलक़ा इक़बाल अंसारी, ब्यूरो चीफ, बुरहानपुर (मप्र), NIT:

बुनकर संघ अध्यक्ष ने 15 दिनों की हड़ताल को अफ़वाह क़रार दिया, सोशल मीडिया के माध्यम से तोड़ी बाज़ी के लगाए जा रहे हैं आरोप | New India Times

दिनांक 28/09/2023 से 13.10.2023 तक बुरहानपुर के पावर लूम बंद रहने की बात पर पावरलूम बुनकर संघ बुरहानपुर के अध्यक्ष एडवोकेट रियाज़ अहमद अंसारी का बयान सोशल मीडिया के माध्यम से सामने आया है। जिसमें उन्होंने कहा है कि पावरलूम बंद करने की बात, जो लोग कर रहे हैं। वह एक तरह की अफवाह है। जो लोग इस तरह का भरम फैला कर शहर का माहौल खराब करने की कोशिश कर रहे हैं तो उसके लिए वह खुद जिम्मेदार होंगे। ऐसा किसी प्रकार से बुनकर संघ ने तय नहीं किया है। यदि जो लोग कारखाना बंद करवाने का शौक रखते हैं तो वह पावर लूम मजदूर और कारखानेदारों को खोटी देने के लिए तैयार रहें।

बुनकर संघ अध्यक्ष ने 15 दिनों की हड़ताल को अफ़वाह क़रार दिया, सोशल मीडिया के माध्यम से तोड़ी बाज़ी के लगाए जा रहे हैं आरोप | New India Times

दूसरी ओर सोशल मीडिया के माध्यम से पावर लूम का यह बंद,जो की 28/09/2023 से लेकर 13/10/2023 की शाम तक रहेगा। पावर लूम और पावर लूम के कपड़े से प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े तमाम व्यापारियों, साइजर्स, प्रोसेसर्स, ब्रोकर, बलीचर्स, स्पिनर्स, जीनर्स, मैन्युफैक्चरर्स, ट्रेडर्स और जाब वर्कर्स एवं मजदूर सभी के हित में तथा बुरहानपुर की अर्थव्यवस्था के हित में भी बहुत अच्छा है। हम सब इस बंद के साथ हैं। हमारा भी समर्थन है। तिल तिल बंद से एक बार बंद होना अच्छा है। मेहरबानी करके तोड़ी बाज़ों के बहकावे में ना आए। पावर लूम बंद को लेकर सोशल मीडिया पर तीखी प्रतिक्रिया आ रही है। बंद को लेकर दो समूह आमने-सामने हैं। अब इसका परिणाम क्या होता है ? यह तो आने वाला समय ही बताएगा।

By nit

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies. By continuing to use this site, you accept our use of cookies. 

Discover more from New India Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading