पत्रकारिता दिवस पर विशेष: पत्रकार के कार्यों और त्याग को बयां करती देश और समाज की दिशा और दशा

Edited by Arshad Aabdi, Jhansi, NIT: लेखक: सैय्यद शहंशाह हैदर आब्दी पत्रकारिता को लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ कहा जाता है। देश को चलाने में पत्रकारों का भी महत्वपूर्ण योगदान रहा […]

ईद विशेष: ईद-उल-फितर भाई चारे को बढ़ावा देने का त्योहारी

Edited by Arshad Aabdi, NIT: लेखक: सैय्यद शहंशाह हैदर आब्दी ‘ईद उल फितर’ पर बात करने से पहले ‘रमज़ान’ के पाक महीने और ‘रोज़े’ (उपवास) का तज़किरा ज़रुरी है। तब […]

हसरत मोहानी: गंगा जमुनी तहज़ीब का इंक़लाबी शायर, रसखान की परंपरा का आखिरी शायर और स्वतंत्रता सेनानी

Edited by Ankit Tiwari, NIT: लेखक: शाहीन अंसारी बहुत सारे हिंदुस्तानी शायर ऐसे हुए हैं, जिनकी क़लम ने अपनी ताकत पर भारतीयों को अंग्रेज़ों के खिलाफ लड़ने के लिये उत्साहित […]

कोरोना और लॉकडाउन के बाद आयेगी डिजिटल क्रांति: अहमद सुहेल

Edited by Sabir Khan, NIT: लेखक: अहमद सुहेल। इन दिनों कोविड-19 यानि कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में कोहराम मचा रखा है। साल 1918 और 1920 के बीच इन्फ्लूएंजा नामक […]

कोरोना और साम्प्रदायिक सोच, दोनों देश के लिये समान रुप से ख़तरनाक

Edited by Arshad Aabdi, NIT: लेखक: सैय्यद शहंशाह हैदर आब्दी चलिये जनाब, तबलीग़ियों ने अपनी आउटडेटिड सोच और जाहिलाना हरकतों से हज़ारों लोगों की ज़िंदगी को ख़तरे में डाल दिया। […]

तिलका मांझी: भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का पहला स्वतन्त्रता सेनानी

Edited by Sandeep Shukla, NIT: लेखक: श्रीप्रकाश सिंह निमराजे 1857 में मंगल पांडे की बन्दुक से निकली गोली ने ब्रिटिश सरकार के खिलाफ़ विद्रोह का आगाज़ किया। इस विद्रोह को […]

सूफ़ी परंपरा में एक रोशन नाम कुतुब- ए-दकन मौलाना अब्दुल गफूर कुरैशी

अब्दुल वाहिद काकर, ब्यूरो चीफ, धुले (महाराष्ट्र), NIT: देवबंदी सूफी परंपरा में मौलाना हुसैन अहमद मदनी के सिलसिले में एक चमकता हुआ नाम मौलाना अब्दुल गफूर कुरेशी का है। उन्होंने […]

भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी को 95वीं जयंती पर दिल से सलाम

Edited by Arshad Aabdi, NIT: लेखक: सैयद शहंशाह हैदर आब्दी आज भारत के पूर्व प्रधानमंत्री और बीजेपी के संस्थापक, परन्तु समाजवादी राजनीतिक व्यवस्था, धर्मनिरपेक्षता और सर्वधर्म समभाव के अनुयायी स्वर्गीय […]

सरकार की लफ्फाज़ियों और उस पर आपकी तालियों ने देश को क्या दिया?

Edited by Arshad Aabdi, NIT: लेखक: सैय्यद शहंशाह हैदर आब्दी सरकार की लफ्फाज़ियों और उसपर आपकी तालियों ने देश को क्या दिया? सोचिए गम्भीरता से सोचिए, ऐसी सोच देने के […]

बाबरी मस्जिद विध्वंस- 27 वीं बरसी: 6 दिसंबर 1992 शौर्य दिवस, काला दिन या अयोध्या में एक तहज़ीब के मर जाने की कहानी???

Edited by Arshad Aabdi, NIT: लेखक: सैयद शहंशाह हैदर आब्दी पिछले 70 साल से सच तो बस बाबर को और उसकी बनवाई बाबरी मस्जिद बताकर लगातार झूठ बोला जाता रहा […]