‘अंधेर नगरी चौपट राजा, टके शेर भाजी टके शेर खाजा’, अधिकारियों की अनदेखी के कारण यात्रियों की जेब पर डाला जा रहा है डाका

देश, भ्रष्टाचार, राज्य

संदीप तिवारी, ब्यूरो चीफ, पन्ना (मप्र), NIT:

अंधेर नगरी चौपट राजा टके शेर भाजी टके शेर खाजा, जी हां यह कहावत चरितार्थ हो रही है पन्ना जिले में क्यों कि यहां अधिकारियों की अनदेखी या लापरवाही या कोई दबाब है जब तो यात्रियों की जेब पर यात्री बस ट्रेवल्स मालिक डाका डालने में जुटे हुए हैं. डाके के साथ उनके जान माल के साथ खिलवाड़ भी कर रहे बड़े मोटे अक्षरों में बसों में लिखा रहता है यात्री अपने सामान की स्वयं रक्षा करें ठीक है लेकिन यात्रियों की जेब पर डाका डाल रहे हो और उनके साथ दुर्व्यवहार करते हो इस पर क्या जनाब न तो बसों में सीसी कैमरे न बसों में अग्नि सामक सिलेंडर न बसों में फास्ट एड बॉक्स लगता है परिवहन अधिकारी जन ओर बस मालिक पन्ना छतरपुर का बह भयावह बस बर्निंग कांड हादसा भूल गए जिसमे कई लोग जिंदा जल गए थे जनाव लगता है आप सब को शंख पुष्पी की जरूरत है जिससे याद कमजोर न पडती है ये आयुर्वेद का नुस्खा शायद आप सब के काम आसके क्योकि न तो बसों में किराया सूची चष्पा है न कोई आरटीओ बिभाग का शिकायत नम्वर हां अगर देखा जाए तो बसों में किराया सूची जहां चष्पा होनी चाहिए वहां शादी पार्टी में बस बुकिंग हेतु सम्पर्क करें जैसे विज्ञापन पम्पलेट जरूर चिपके मिलेंगे यात्रियों को जो टिकिट दी जाती है न तो उसमें कोई ट्रेबल्स का नाम होता है ओर कन्डेक्टर साहब की तो बात ही क्या टिकट पर किस भाषा में उसमें क्या लिख देते हैं कि ख़ुद लिखे ओर खुदा बांचे सच में लगता ये डिजिटल इंडिया की डिजिटल भाषा है कोई.

Leave a Reply