ग्राम पंचायत सुना पंजरा में प्रधानमंत्री आवास में भी हुआ भ्रष्टाचार उजागर, लगभग 4 वर्षों से आवास का निर्माण कार्य पड़ा है अधूरा

देश, भ्रष्टाचार, राज्य

त्रिवेंद्र जाट, देवरी/सागर (मप्र), NIT:

सागर जिले की देवरी जनपद पंचायत की ग्राम पंचायत सुना पंजरा मध्यप्रदेश में ऐसे भ्रष्टाचार में छा रही हैजहां देखो वहां भ्रष्टाचार ही भ्रष्टाचार के मामले उजागर हो रहे हैं. वहां के सचिव सरपंच सहायक सचिव तथा सब इंजीनियर इन लोगों की मिलीभगत के कारण शासन की योजना से ग्रामीण जन वंचित हो रहे हैं व शासन की राशि का बंटाधार कर खुलेआम मिल बांट कर भ्रष्टाचार कर रहे हैं.
पहले तालाब निर्माण में भ्रष्टाचार उजागर हुआ उसके बाद पंचायत भवन की राशि निर्माण कार्य के पहले निकालने का मामला उजागर हुआ फिर उसके बाद नाडेप श्मशान घाट अधिकारी में भ्रष्टाचार की बात सामने आई जिसके बाद एक और मामला करीब 4 वर्ष पहले का उजागर हुआजहां पर ग्राम पंचायत सुना के गरीब हितग्राही देवी सिंह पिता कन्हैया आदिवासीजो उम्र में काफी बुजुर्ग हैं बाल मजदूरी कर कर अपना जीवन यापन कर रहे हैं जिनकी प्रधानमंत्री आवास सुकृत होने के बाद सचिव सरपंच एवं सहायक सचिव ने पहली और दूसरी किस्त तो हितग्राही के खाते में डलवा दी जब तीसरी किस्त गरीब हितग्राही कि उसके खाते में आई तो सचिव सरपंच एवं सहायक सचिव ने फर्जी वाडेगरीब रथ ग्राही को उल्लू बना कर उसके खाते में आई किस्त की राशि उससे निकलवा कर ले ली और उस ग्राही को कह दिया कि आपके खाते में किसी और हितग्राही की किस्त धोखे में डर गई थी जिसके बाद हितग्राही के खाते में किस्त के पैसे आज दिनांक तक नहीं आएहितग्राही ने पूरे मामले की शिकायत जनपद पंचायत देवरी के सीईओ तथा जिला पंचायतसीईओ व कलेक्टर तथा 181 परसैकड़ों बार की लेकिन सूरत हितग्राही को आज दिनांक तक न्याय नहीं मिलाना ही उस गरीब हितग्राही की प्रधानमंत्री आवास आज दिनांक तक पूर्ण हो पाई जिसका काम आज ही अधूरा पड़ा हुआ है वह हितग्राही अपने परिवार के साथ कच्चे मकान में ही निवास कर रहा है व शासन की प्रधानमंत्री आवास योजनाशुक्र होने के बाद भी सचिव सरपंच एवं सहायक सचिव के भ्रष्टाचार के कारण शासन की योजना से 4 वर्ष से आज दिनांक तक लाभ नहीं ले पा रहा हैइससे यह स्पष्ट होता है की ग्राम पंचायत सुना पंजरा में ऐसे सैकड़ों मामले होंगे जो हितग्राहियों द्वारा सैकड़ों शिकायत करने के बाद भी उन मामलों में कुछ नहीं हुआ होगा ना ही ग्राम पंचायत में वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा सही तरीके से जांच कराई गई होगी नहीं तो ग्राम पंचायत मेंजांच दौरान ऐसी कई मामले उजागर होंतेदेखने मिलेंगे अब देखना यह बाकी है कि प्रशासनिक अधिकारी इन पूरे मामले पर क्या कार्यवाही करता है या अन्य मामलों की तरह है देवरी से लेकर जिले स्तर के अधिकारी चुप्पी साध कर बैठ जाते हैं ।

मेरा प्रधानमंत्री आवासकरीब 4 वर्ष पहले सुकृत होकर उसकी दो किस्त मेरे खाते में आ चुकी थी जिसके बाद मैंने दीवार खड़ी कर आवास का निर्माण कर लिया था मगर तीसरी किस्त आने पर सचिव सरपंच एवं सहायक सचिव ने फर्जीवाड़ा कर मुझसे तीसरी किस्त के पैसे निकलवा कर हड़प लिए और मुझसे कह दिया कि यह किसी और की किस्त आपके खाते में डाल दी गई थी जिसके बाद आज दिनांक तक मेरे खाते में किस्त नहीं आई और मेरा प्रधानमंत्री आवास आज भी अधूरा पड़ा हुआ है: देवीसिंह आदिवासी पीडित हितग्राही ग्राम पंचायत सुना पंजरा.

Leave a Reply