शासकीय महाविद्यालय जुन्नारदेव में मनाया गया हिंदी दिवस

देश, राज्य

मो. मुजम्मिल, जुन्नारदेव/छिंदवाड़ा (मप्र), NIT:

हिंदी विभाग द्वारा हिंदी दिवस के उपलक्ष में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें महाविद्यालय के प्राचार्य डॉक्टर वाय.के. शर्मा के संरक्षण में कार्यक्रम का आयोजन किया गया. जिसमें महाविद्यालय के वरिष्ठ प्राध्यापक आइक्यूएसी प्रभारी डॉ अजवानी के मार्गदर्शन में हिंदी विभाग में विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ सागर भनोत्रा द्वारा मंच संचालन किया गया। इस कार्यक्रम का शुभारंभ मां सरस्वती के पूजन वंदना से किया गया. कार्यक्रम के अध्यक्ष डॉ ए.के. शर्मा ने हिंदी दिवस के अवसर पर अपने उद्बोधन में हिंदी को समृद्ध बनाने के लिए निचले स्तर से प्रयास पर जोर दिया. डॉ अजवानी ने अपने मार्गदर्शन वचनों में बताया कि हिंदी जिसे हम मां या मातृभाषा कहते हैं उसके संरक्षण की महती आवश्यकता है। अंग्रेजी के चक्रव्यूह से निकलने की बात रखी. डॉक्टर ने स्वतंत्रता के पश्चात चले आ रहे सिस्टम में सुधार पर बल दिया. डॉक्टर संगीता वाशिंगटन ने हिंदी को मर्म धर्म-कर्म संपर्क भाषा से जानने व अभिव्यक्ति में सुधार की आवश्यकता पर हमेशा बल देने को कहा। डॉक्टर आर.के. चंदेल ने अपने आशीर्वचन से हिंदी दिवस की शुभकामनाएं प्रेषित की. डॉ आर ऑडी बॉडीवा बने हिंदी को विविधता में एकता की प्रतीक व संपन्न भाषा बताया. इसी कार्यक्रम में डॉ रश्मि नागवंशी ने हिंदी को संस्कृत की लाडली बेटी के रूप में काव्यपाठ विश्व स्तर पर फैल रही सबसे अधिक जनसंख्या का प्रतिनिधि बताया. डॉ एस.के. संडे ने हिंदी की विस्तृत साहित्यिक माला को एकता के सूत्र में बांधने का प्रयास किया। कीड़ा अधिकारी नीरज पाल ने अंग्रेजी के मर्म जाल को तोड़ हिंदी अपनाने पर विचार रखें। प्रोफेसर श्री प्रवीण लेने हिंदी की उपेक्षा को नकारने में हिंदी से हस्ताक्षर कर प्रारंभ करने पर बढ़ावा देने की बात कही। मंच संचालन कर रही डॉक्टर सागर भनोत्रा ने हिंदी के महत्व पर प्रकाश डालते हुए बताया कि स्वतंत्रता की प्राप्ति के पूर्व से हिंदी ने राष्ट्रीय जागृति में विशेष भूमिया भूमिका साथ ही विश्व बंधुत्व की भावना को बढ़ाने वाली वह राष्ट्र की उन्नति में कारगर सिद्ध होना बताया।
कार्यक्रम के सफल आयोजन में डॉ रीना मेश्राम, डॉक्टर मुंजा माहोरे, डॉक्टर कविता मुकाती, मोहम्मद आबिद, डॉक्टर सुप्रिया साहू, कुमारी नीलूकाहार, सुधीर साहू, राजेश माधनकर, कुमारी सुप्रिया प्रजापति, नरसिंह यादव एवं लक्ष्मी प्रसाद नागवंशी का इस कार्यक्रम में विशेष सहयोग रहा. कार्यक्रम का आभार प्रदर्शन डॉक्टर कैलाश ठाकरे द्वारा किया गया. इस तरह हिंदी दिवस के अवसर पर समस्त महाविद्यालय परिवार उपस्थित रहा।

Leave a Reply