लखीमपुर-खीरी जिले को मिली 16 हजार वायल कोविड वैक्सीन

देश, राज्य, स्वास्थ्य

वी.के.त्रिवेदी, ब्यूरो चीफ, लखीमपुर-खीरी (यूपी), NIT:

जिले में कोरोना वैक्सीन को लेकर चल रहा इंतजार समाप्त हो गया है, पहले चरण में जिले को वायल मिली है। टीकाकरण करने को लेकर जिले में तैयारियां लगभग पूरी कर ली गई हैं। जिले में पहले दौर में 12160 लोगों का टीकाकरण किया जाएगा। वैक्सीन सुरक्षित रखने को 2 से 8 सेंटीग्रेड का तापमान मेंटेन किया जाएगा।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ बलबीर सिंह ने बताया 12160 लोगों को लगने के लिए कोविड-19 वैक्सीन की 16000 वायल जिले को पहले दौर में मिल रही हैं। वैक्सीन का 10 परसेंट रख रखाव में खराब होने की संभावना को लेकर अधिक वैक्सीन दी जा रही है। इस वैक्सीन को रखने के लिए जिले में 17 कोल्ड चैन पूरी तरह से तैयार कर लिए गए हैं, इनमें कोविड-19 वैक्सीन को सुरक्षित रखा जाएगा। लखनऊ से वैक्सीन वायल लेने के लिए दोपहर दो बजे के करीब एक वाहन रवाना कर दिया गया।

गुरुवार से सीएचसी पर भेजी जाएगी वैक्सीन

टीकाकरण के लिए जिले से सीएससी को वैक्सीन भेजने के लिए रूट प्लान तैयार कर लिया गया है। गुरुवार को नकहा, ईसानगर, रमिया बेहड़, निघासन पलिया, बिजुआ और फूलबेहड़ को वैक्सीन सप्लाई को लगी वैन से भेजी जाएगी। दूसरे दिन शुक्रवार को फरधान, गोला, बाकेगंज, मोहम्मदी, पसगवां, बेहजम और महिला अस्पताल को वैक्सीन भेजी जाएगी।

अन्य वैक्सीन की तरह ही रहेंगी सुरक्षा

कोविड-19 वैक्सीन को पल्स पोलियो सहित अन्य वैक्सीन की तरह ही कोल्ड चैन मेंटेन रखा जाएगा।इस तापमान को बरकरार रखने के लिए सभी जगहों पर लगे आईएलआर को लागर लगाकर ईवीएन सिस्टम से जोड़ा गया है। इसके चलते तापमान में बढ़ोत्तरी या कमी होने पर इसकी तुरंत जानकारी जिला प्रतिरक्षण अधिकारी सहित लखनऊ में बैठे अधिकारियों के मोबाइल पर भी मैसेज के जरिए पहुंच जाएगी।

ऐसे काम करता है लॉगर सिस्टम

लॉगर एक तरह की डिवाइस होती है। इसका कनेक्शन डीप फ्रीजर और आईएलआर से कर दिया जाता है। कनेक्शन होने के साथ ही डीप फ्रीजर और आईएलआर रखी वैक्सीन का तापमान कितना है। इसकी जानकारी स्टोर इंचार्ज जिले के जिला प्रतिरक्षण अधिकारी और लखनऊ में बैठे अधिकारियों के मोबाइल कनेक्ट के जरिए मिल जाती है। इसमें तापमान में कमी या बढ़ोत्तरी होने पर इसकी जानकारी संबंधित संबंधित मोबाइल पर एक मैसेज के रूप में पहुंच जाती है। आईएलआर और डीप फ्रीजर बंद होने की दशा में भी इसकी सूचना मैसेज के जरिए पहुंच जाती है।इसकी सूचना मिलने के बाद अधिकारी संबंधित कर्मचारियों को इसकी जानकारी इसको दूर कराते हैं।

सभी जगहों पर दो से तीन टीमें लगाएंगी टीका

जिले के सभी कोल्ड चैन सेंटर कोविड-19 वैक्सिन टीकाकरण के पहले चरण में 12160 लोगों का टीकाकरण किया जाना है। इनमें सभी हेल्थ वर्कर शामिल किए गए हैं। सरकारी के साथ ही प्राइवेट हेल्थ वर्करों को भी टीकाकरण किया जाएगा। पहले चरण में सरकारी हेल्थ वर्कर 11340 और प्राइवेट हेल्थ वर्कर 1838 का टीकाकरण किया जाना है। कोविड-19 वैक्सिन टीकाकरण के लिए जिले में पहले चरण में 51 टीमें लगाई गई हैं। इन टीमों को सभी 15 सीएचसी के साथ ही जिले पर महिला और जिला अस्पताल में होने वाले टीकाकरण के लिए लगाया गया है।

टीकाकरण केंद्र पर भेजी गई सुरक्षा किट

कोविड-19 वैक्सिंन टीकाकरण के लिए बने जिले में 17 केंद्रों पर एआईएफआई किट और एनाफायलैक्सिस किट को भेज दिया गया है। टीकाकरण के दौरान किसी तरह की दवा के रिएक्शन के खतरे को दूर करने के लिए इनको भेजा गया है।

जिले के 17 कोल्ड चैन सेंटर को कैमरों से किया गया लैस

कोविड-19 वैक्सीन के बेहतर रखरखाव और सुरक्षा को लेकर जिले में बने 17 कोल्ड चैन सेंटर को कैमरे लगाकर नजर रखी जा रही है। जिले में जिला स्तर का एक और सीएचसी स्तर के 15 कोल्ड चैन सेंटर बनाए गए हैं। इसके साथ ही जिला महिला अस्पताल में भी एक कोल्ड चैन सेंटर बनाया गया है।

शहरी टीकाकरण के लिए जिला और महिला अस्पताल केंद्र

पहले चरण के होने वाले हेल्थ वर्कर टीकाकरण के लिए शहरी क्षेत्र के लिए जिला अस्पताल और महिला अस्पताल को केंद्र बनाया गया है। इसके साथ ही कस्बों और गांवों के लिए सीएचसी को केंद्र बनाया गया है।

Leave a Reply