बच्चों को एजुकेशन उपलब्ध कराने के लिए गोपाल किरन समाजसेवी संस्था ने बाल अधिकार फोरम के साथ जुड़े सैकड़ों गरीब बच्चों के लिए स्कूल खोलने में दिया साथ

देश, राज्य, शिक्षा, समाज

संदीप शुक्ला, ब्यूरो चीफ, ग्वालियर (मप्र), NIT:

गोपाल किरन समाजसेवी संस्था जो कि श्रीप्रकाश सिंह निमराजे के नेतृत्व व श्रीमती संगीता शाक्य के संरक्षण में विकास के मुद्दे पर सदैव समर्पित रही है, जिसमें शिक्षा का मुदा प्राथमिकता में रहा है। विगत समय जहाँआरा के साथ की गईं विजिट से शिक्षा पूरी तरह से न मिलने से वंचित हो रहे बच्चो पर अपना ध्यान फोकस कर दिया है। रामनगर (विक्की फैक्ट्री) ग्वालियर झासी मार्ग से पहाड़ियों के पास बसे मोगिया समुदाय के बच्चों के पास पहुंचे जो कि स्कूल का इंतजार कर रहे हैं कि उनके यहाँ भी विद्यालय बन जाये क्योंकि बालकों की सुरक्षा एक गंभीर प्रश्न बना हुआ है जिसकी वजह से बालक
विद्यालय से वंचित अभी तक बने हुए हैं। बच्चों ने पहली बार अपनी आवाज जिला बाल अधिकार फोरम की आनलाइन बैठक मैं रख चुके हैं। चाइल्ड राइट्स ऑब्जर्वेटरी भोपाल को भी पत्र के साथ मंत्री, विधायक, कलेक्टर को भी अपने अभिभावकों के द्वारा भी ज्ञापन दिला चुके हैं।
बच्चों को गोपाल किरन समाजसेवी संस्था के सहयोग से जिला बाल अधिकार फोरम के कायर्क्रम में रामनगर में रहने वाले बच्चों को स्टेशनरी उपलब्ध कराई गई, जिसका वितरण कु. काजल मोगिया 100 से अधिक बच्चों को प्रदान किया। जिसमें कॉपी, पेन्सिल, रबर, सॉपनर, स्केल, डॉटपेन आदि प्रत्येक बच्चे को गोपाल किरन समाज सेवी संस्था ने दिया। यह कार्यक्रम श्रीप्रकाश सिंह निमराजे के अतिथि में जहाँआरा की मौजूदगी में हुआ।

इस अवसर पर अतर सिंह, रामनाथ, सुदामा, रामसेवक, सूरज, सुनीता, इमरती, अर्जुन, राहुल, पवन, राज, आकाश, सीमा, किशन, दीपक सिंह, सिक्की, संजना, पूनम, काजल आदि सभी मोगिया के प्रबुद्ध जन ने भाग लिया। यह कार्यक्रम अतिथि के श्रीप्रकाश सिंह निमराजे के अतिथि मैं जहाँआरा की मौजूदगी मै हुआ.इस अवसर श्रीप्रकाश सिंह निमराजे ने कहा कि संस्था आपके साथ है। हम अपनी प्रतिबद्धता कोयम रखेगेश्री निमराजे जी ने सभी से अनुरोध किया की अभी माक्स ही वैक्सीन है सभी सार्वजनिक स्थानो पर दो गज की दूरी और मास्क जैसे जरूरी निर्देशों का पालन करें।

खुद रहे सुरक्षित और दूसरों को भी रखे सुरक्षित, सुरक्षा जीवन का अर्थ है। सुरक्षा के बिना सब व्यर्थ है।

Leave a Reply