सात समुंदर पार बजा डाॅ भास्कर शर्मा का डंका, अमेरिकी राष्ट्रपति भवन से प्राप्त हुए दो अवार्ड

दुनिया, देश, स्वास्थ्य

अबरार अली, सिद्धार्थ नगर (यूपी), NIT:

वैश्विक महामारी कोरोना ने भले ही आम जनजीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया हो लेकिन चिकित्सकों के अथक प्रयास से जिंदगी पटरी पर लौटने लगी है। गौतम बुद्ध की जन्मस्थली शांति भूमि सिद्धार्थनगर के विश्व प्रसिद्ध होम्योपैथिक चिकित्सक प्रोफेसर डॉ भास्कर शर्मा ने आमजन को कोरोना महामारी के प्रति जागरूक करने व रोग नियंत्रण में अतुलनीय योगदान दिया है। जिसके कारण इनके सामाजिक सरोकारों में सराहनीय कार्यों का डंका सात समुंदर पार तक सुनाई पड़ने लगा है।

सैकड़ों विश्व रिकार्ड व राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मान तथा पुरस्कार पा चुके डाॅ शर्मा को हाल ही में विश्व के सबसे सशक्त देश अमेरिका के राष्ट्रपति भवन से सम्मानित होने का न्योता प्राप्त हुआ था। महामारी ने डाॅ भास्कर को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हाथों सम्मानित होने से भले ही रोक लिया हो लेकिन राष्ट्रपति भवन ने इन्हें दो सम्मान डाक से प्रेषित किया है। डाॅ शर्मा को ट्रम्प के हस्ताक्षर वाला दो पुरस्कार प्रेसीडेंशियल एक्टिव लाइफ स्टाइल अवार्ड एवं प्रेसीडेंशियल यूथ फिटनेस अवार्ड प्राप्त हो चुका है। डाॅ शर्मा को प्रमाण पत्र के साथ अमेरिकी राष्ट्रपति के सील वाला मेडल भी प्राप्त हुआ है।

डाॅ भास्कर शर्मा को अमेरिका के राष्ट्रपति भवन से प्राप्त इन दोनों पुरस्कारों ने निश्चय ही सिद्धार्थनगर ही नहीं अपितु पूरे भारतवर्ष को गौरवान्वित होने का अवसर प्रदान किया है। भारत के इकलौते होम्योपैथिक चिकित्सक डॉक्टर भास्कर शर्मा हैं जिन्हें यह अवार्ड दिया गया है। आपको बता दें कि डॉक्टर सैमुअल हैनीमैन इंटरनेशनल अवॉर्ड लंदन, वरिष्ठ होम्योपैथिक इंटरनेशनल अवॉर्ड सिंगापुर, डॉ एलेन इंटरनेशनल अवॉर्ड थाईलैंड, डॉक्टर कैंट इंटरनेशनल अवॉर्ड मलेशिया, ग्लोबल आइकॉन पर्सनैलिटी ऑफ होम्योपैथी दुबई, होम्योपैथी शिरोमणि इंटरनेशनल अवॉर्ड मस्कट, स्टार आफ होम्योपैथी अवॉर्ड लंदन, ग्लोबल एनवायरमेंटल अवार्ड फिलीपींस, साहित्य रत्न अवॉर्ड कनाडा, बेस्ट होम्योपैथी अवार्ड नाइजीरिया, ग्लोबल आईकॉन पर्सनालिटी अवार्ड अफ्रीका, इंटरनेशनल पीस अवॉर्ड इंडोनेशिया, डॉक्टरेट अवॉर्ड अल्जीरिया, होम्यो भूषण काठमांडू, होम्योपैथी श्री गोवा, होम्योपैथी रत्न, चिकित्सा रत्न सम्मान प्राप्त कर चुके हैं।

डाॅ भास्कर होम्योपैथी व साहित्य की लगभग 200 पुस्तकों का सृजन कर चुके हैं। देश-विदेश के कई विश्वविद्यालयों में अपनी सेवा देते हुए इन्होंने होम्योपैथी में नवाचार के कई कीर्तिमान स्थापित किए हैं। नए नए शोधों के जरिए डा भास्कर होम्योपैथिक चिकित्सा पद्धति को सशक्त बनाने के लिए सदा ही कृत संकल्पित दिखते हैं। डॉक्टर भास्कर शर्मा को अवॉर्ड मिलने पर प्रेसिडेंसीयल बोर्ड अमेरिका के सदस्य डॉ जसवीर सिंह,डॉक्टर केल्विन मोरगन अफ्रीका डॉक्टर इमानुएल सिक्का अफ्रीका डॉक्टर मारियो लोशेरों फिलीपींस, डॉक्टर वेलफेम इजिप्ट, किंग डोमेनिको नाइजीरिया, टांटिया विश्वविद्यालय राजस्थान के अकादमिक डायरेक्टर प्रोफेसर डॉ प्रवीण कुमार शर्मा, प्रज्ञान अंतर्राष्ट्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर डॉ सुरेश अग्रवाल, हनीमैन कॉलेज आफ होम्योपैथी यूके लंदन के डायरेक्टर प्रोफेसर डॉ शशि मोहन शर्मा, सीबीयू यूनिवर्सिटी टोंगा के अंतरराष्ट्रीय डीन डॉक्टर वेगराज सिंह, श्री गंगानगर होम्योपैथी मेडिकल कॉलेज के उप प्राचार्य प्रोफेसर डॉ प्रणव चक्रवर्ती डॉ रामबालक सिंह होम्योपैथी मेडिकल कॉलेज गया के प्राचार्य प्रोफेसर डॉक्टर रविंद्र कुमार, पूर्व न्यायाधीश राज्य उपभोक्ता आयोग उत्तर प्रदेश डॉ चंद्रभाल सुकुमार, डॉक्टर बीके बजाज यूनेस्क चेयरमैन भारत, प्रोफेसर डॉ अनिल कुमार गुप्ता आदि लोगों ने बधाइयां दी।

Leave a Reply