करीब 19 करोड़ लागत की नहर हुआ जर्जर, किसानों को नहीं मिल रहा है लाभ

देश, भ्रष्टाचार, राज्य

त्रिवेंद्र जाट, देवरी/सागर (मप्र), NIT:

सागर जिले की देवरी ब्लाक के सलैया, रामखेड़ा, देवगुवा, समनापुर आदि ग्रामों के किसानों को फसलों के लिये पानी मुहैया कराने के लिये शासन द्वारा जो समनापुर जलाशय केनाल नम्बर 1 के माध्यम से किसानो के लिये करीब तीन वर्ष पहले नहर बनवाई गई थी जिसकी लागत करीब 19 करोड़ थी जो ठेकेदार व सिचाई विभाग देवरी की लापरवाही के कारण पूरी नहर गुणवत्ता हीन बनाई गई है जिसके कारण पूरी नहर जर्जर स्थिति में पहुंच गई है जिसकी राशि लगभग आधे से ज्यादा राशि भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ चुकी है जिसके कारण किसानों को आज भी तीन वर्ष नहर निर्माण होने पर भी इसका लाभ नहीं मिल पाया, शासन की राशि का केवल दुर्पयोग कर भ्रष्टाचार की भेंट चढ दिया गया ग्रामों के किसान आज भी खेतों के लिये फसल को पानी मिलने के इंतजार में बैठे हैं कि कब अधिकारी नहर का कुछ उपाय कर किसानों की समस्या का निराकरण करे जिससे किसानों को खेती के लिये पर्याप्त मात्रा में पानी मिल सके व शासन की योजना का किसानों को लाभ मिल सके मगर ग्राम रामखेडा, देवगुवा, सलैया, समनापुर आदि ग्रामों के किसानों को इसका सही लाभ मिल सके मगर देवरी सिचाई विभाग के वरिष्ठ अधिकारी व इंजीनियर तथा ठेकेदार की लापरवाही के कारण पूरे ग्रामों के किसान बड़ी समस्या से गुजर रहे हैं। वहां नहर निर्माण को करीब तीन वर्ष हो गये मगर किसानों को मात्र एक या दो बार पानी मिल पाया वो भी नहर जर्जर होने के कारण किसानों के खेतों तक पहुंच ही नहीं पाया व कहीं कहीं तो नहर का पानी एक दो किसानों के खेत में ही नदी की तरह भर जाता है।

जर्जर नहर के कारण नहर का पानी किसानों के खेत में ही नहीं पहुंच पा रहा है। वहीं ग्रामीणों ने बताया कि नहर सुधार के नाम पर ठेकेदार व एसडीओ सिचाई विभाग व ई साहब की मिली भगत से करीब पन्द्रह लाख की राशि भी निकाली गई मगर नहर सुधार का कार्य नहीं किया गया और पूरी नहर सुधार की राशि पचा ली गई। किसानो का कहना है कि नहर बने मात्र तीन वर्ष का समय हुआ और पांच वर्ष का किसानों से पैसा वसूला जा रहा है जबकि किसानों ने कहा कि पानी खेत में तो एक बार भी नहीं मिला और सिचाई विभाग देवरी पांच वर्ष के पैसे वसूल रहा है। किसानों की बार बार शिकायतों पर बुधवार को जब सागर के सिचाई विभाग के ई साहब भीमसींग महोनिया व एसडीओ अखिल बिल्थरे तथा सब इंजीनियर पी के साहू नहर पर निरीक्षण करने किसानों के साथ पहुंचे तो ई साहब ने किसानों की समस्या पर ध्यान नहीं दिया व साफ बोल दिया कि विभाग के पास अब बजट नहीं है अब कुछ हल नहीं हो सकता है। वहीं जब पत्रकारों ने जानकारी के तौर पर बात की और पूछा कि इन किसानो की समस्या का निराकरण कब होगा तो ई साहब ने कहा कि किसान अपनी समस्या का निराकरण स्वयं करें विभाग अब कुछ नहीं कर सकता है न विभाग के पास इतना पैसा है जिससे नहर का सुधार कराया जा सके, नहर बंद पड़ी है तो नई नहर की किसी मंत्री विधायक से मांग करो और नई नहर बनवा लो तो किसानो ने कहा कि समस्या का निराकरण हम सभी को अभी चाहिये न कि नई नहर बनने स्वीकृत कराने तक इंतजार करेंगे क्या, हम लोग फसल को पानी देने के लिए नई नहर बनने तक इंतजार करते रहेगे क्या? वहां के ग्रामीणों ने कहा कि ई साहब दिखावा कर के चले गये हैं, हम सभी किसानों की समस्या सुनी भी नहीं और लौट के साफ बोल गये कि किसानों की समस्या है तो आप सब स्वयं हल करें विभाग कुछ नहीं कर सकता है।

Leave a Reply