कंगना रनौत के खिलाफ देशद्रोह का केस चलाने, देश निकाला देने और नागरिकता रद्द करने की मांग, भीम सेना चीफ़ नवाब सतपाल तंवर ने लिखा महाराष्ट्र के गृहमंत्री को पत्र, महाराष्ट्र के डीजीपी और मुंबई पुलिस कमिश्नर को भी भेजी पत्र की कॉपी

अपराध, देश, राज्य

साबिर खान, गुरुग्राम/नई दिल्ली, NIT:

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत के संविधान का अपमान करने का मामला अभी शांत ही नहीं हुआ था कि मुंबई की तुलना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से करने के मामले ने भी अब तूल पकड़ लिया है। शिवसेना और कंगना रनौत में टकराव के बीच अब भीमसेना भी कूद पड़ी है। सोशल मीडिया पर कंगना रनौत की जमकर किरकिरी हो रही है। लोग उसकी नागरिकता रद्द करने की मांग कर रहे हैं। इस बीच भीमसेना चीफ़ नवाब सतपाल तंवर ने महाराष्ट्र के गृहमंत्री को पत्र लिखकर कंगना रनौत की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। शिवसेना कंगना के खिलाफ मोर्चा खोल हुए है अब भीमसेना भी कंगना के खिलाफ खुलकर मैदान में आ गई है।

अखिल भारतीय भीम सेना के संस्थापक एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष नवाब सतपाल तंवर ने महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख को एक पत्र ईमेल करके कंगना रनौत के खिलाफ महाराष्ट्र में आईपीसी की धारा 124ए के तहत देशद्रोह का केस चलाने की मांग की है। तंवर ने पत्र की कॉपी महाराष्ट्र पुलिस के डीजीपी और मुंबई पुलिस के कमिश्नर के पास भी भेजी है। भीमसेना चीफ़ नवाब सतपाल तंवर ने कंगना रनौत की नागरिकता रद्द करके उसे देश निकाला देने की मांग की गई है। तंवर के अनुसार कंगना रनौत से मुंबई और देश को बहुत बड़ा खतरा है। यह देश में बड़े क्षेत्रीय और जातीय दंगों को जन्म दे सकती है। कंगना रनौत पर दंगे भड़काने की साज़िश रचने का बहुत बड़ा आरोप है।

भीमसेना चीफ़ ने अपने पत्र में लिखा है कि कंगना रनौत की देश के संविधान के प्रति कोई आस्था नहीं है। उन्होंने एक ट्वीट के जरिए भारत के संविधान का अपमान भी किया था जिसकी शिकायत गुरुग्राम के सेक्टर 37 थाने में और साइबर थाने में दर्ज है जो मामला न्यायालय ने विचाराधीन है। जल्द इस संबंध में कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी। लेकिन इसके बाद भी कंगना रनौत की देश विरोधी व समाज विरोधी गतिविधियां थमने का नाम नहीं ले रही हैं जो बहुत ही चिंता का विषय है। हाल ही में उन्होंने अपने एक ताजा ट्वीट में मुंबई की तुलना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से की है। जोकि आईपीसी की धारा 124ए के तहत एक गंभीर अपराध है। तंवर ने कहा कि कंगना रनौत को मुंबई और देश में रहने का कोई हक नहीं है। तत्काल प्रभाव से उसकी नागरिकता रद्द करके उसको देश निकाला दे देना चाहिए।

तंवर ने महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख को लिखा है कि कंगना रनौत की इन देश विरोधी और समाज विरोधी गतिविधियों से देश में अराजकता फेल रही है और समाज में वैमनस्य पैदा हो रहा है। कंगना रनौत मुंबई और देश के लिए बहुत बड़ा खतरा है। कंगना रनौत की गतिविधियों से देश में कभी भी क्षेत्रीय व जातीय दंगे भड़क सकते हैं। इस पर जल्दी से जल्दी लगाम लगाई जाए।

भीमसेना चीफ़ नवाब सतपाल तंवर ने आरोप लगाया कि कंगना रनौत की मानसिकता जातिवादी व संविधान विरोधी है। जिसने पहले देश के संविधान का अपमान किया और अब मुंबई की तुलना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से करके उसने दिखा दिया है कि वह देशद्रोही है। कंगना ने जिस थाली में खाया उसी में छेद कर रही है। जिस संविधान ने उसे अधिकार दिए उसी का विरोध कर रही है और जिस मुंबई ने उसे इतना सम्मान और रोजगार दिया उस मुंबई की तुलना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से कर रही है। इसे मुंबई और देश में रहने का कोई हक नहीं है। भीमसेना चीफ़ नवाब सतपाल तंवर ने साफ कहा कि कंगना रनौत की नागरिकता रद्द करके उसे देश निकाला दे देना चाहिए।

Leave a Reply