सेल्फी के चक्कर में गई दो सगे भाईयों की जान, मुंबई से भिवंडी घूमने के लिए आए थे दोनों सगे भाई

देश, राज्य

शारिफ अंसारी, भिवंडी/मुंबई (महाराष्ट्र), NIT:

भिवंडी के चाविंद्रा इलाके के कामवारी नदी में मछली मारने गए दो लोग पानी में सेल्फी लेने के चक्कर में अपनी जान गंवा बैठे। दोनों युवकों के साथ उनकी सौतेली मां भी मौके वारदात पर मौजूद थी लेकिन लाख कोशिश के बावजूद वह उन्हें नहीं बचा पाई। दोनों मृतक मुंबई से दो दिन पहले ही भिवंडी में घूमने आए थे। बताते हैं कि मरने वाले दोनों युवकों में से एक कि तीन माह के बाद शादी होने वाली थी।

पुलिस के अनुसार भिवंडी के चाविंद्रा पेट्रोल पंप के पीछे कामवारी नदी में शहबाज अंसारी (24) व शाह आलम अंसारी (22) अपनी सौतेली मां के साथ शनिवार की शाम मछली पकड़ने गए थे। पुलिस ने बताया कि मछली पकड़ते पकड़ते शाह आलम को नदी के पानी में घुसकर सेल्फी खिंचने का शौक हुआ जिसके बाद वह नदी के पानी में उतारकर सेल्फी खिंचने लगा। सेल्फी खिंचने के चक्कर मे वह नदी के गहरे पानी में चला गया और मूसलाधार बारिश के कारण नदी में तेज बहाव के कारण वह पानी में डूबने लगा। उसे डूबते देख शहबाज पहले अपनी मां के ओढ़नी पकड़कर उसे बचाने का भकरकस प्रयास किया लेकिन जब वह सफल नहीं हुआ तो उसे बचाने के लिए पानी में कुंद गया लेकिन पानी के तेज बहाव में दोनों लड़के उसकी सौतेली मां के सामने ही डूबकर पानी में बह गए।

चीखपुकार के साथ लाख कोशिश के बावजूद वह डूबते दोनों युवकों को नही बचा पाई। सूचना पर अग्निशमन दल व पुलिस के लोग मौके वारदात पर पहुंचकर कई घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद छोटे शाह आलम का शव बरामद कर लिया लेकिन रात में अंधेरा होने के कारण दूसरे का शव दूसरे दिन 12 बजे बरामद हुआ। पुलिस ने बताया कि नदी में डूबकर मरने वाले दोनो सगे भाई हैं जो दो दिन पूर्व अपनी सौतेली मां से मिलने भिवंडी आए थे और स्थानीय मिल्लतनगर में रावेरा कंप्लेक्स में रहते थे। पुलिस ने बताया कि पानी में डूबकर मरने वाले शहबाज का तीन महीने के बाद निकाह होने वाला था। फिल्हाल भिवंडी तालुका पुलिस ने इसे आकस्मिक मौत का मामला दर्जकर मामले की जांच शुरू की है। इस घटना को लेकर शहर में तरह तरह की चर्चाओं का बाजार गर्म है। 

सुरक्षा के अभाव में नदी में डूबते लोग

इससे कुछ दिन पहले कामवारी नदी में ही नदीनाका इलाके में पानी में तैरते सुरक्षा के अभाव में नदी में डूबते जावेद को बचाने के चक्कर में सिद्दीक नामक व्यक्ति डूबकर मर गया था। नदी के पानी में डूबकर मरने वालों की संख्या तीन हो गई है। बताते हैं कि इन दिनों बारिश के कारण पानी का बहाव ज्यादा है। नदी के आस पास स्लम बस्ती होने व नदी के किनारे सुरक्षा का अभाव होने के कारण स्थानीय लोग बेखौफ होकर नदी में नहाने जाते हैं जिसके कारण हर वर्ष इस नदी में डूबकर मरने की घटना घटती है लेकिन मनपा प्रशासन व पुलिस इसे रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठती है जिसके कारण डूबकर मरने की घटना में वृद्धि हो रही है।

Leave a Reply