विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर आंगनवाड़ी से कक्षा 8 वीं तक के विद्यार्थियों को वितरित किया जायेगा बेसिक शिक्षा की पाठ्यपुस्तकें एवं अन्य आवश्यक वस्तुएं

देश, राज्य, समाज

रहीम शेरानी, अलीराजपुर (मप्र), NIT:

आगामी 09 अगस्त विश्व आदिवासी दिवस के शुभ अवसर पर गांव के युवाओं ने की अपने गाँव के लिए अनुठी पहल करने की ठानी है। इस अवसर पर आंगनवाड़ी से कक्षा 8 वीं तक के विद्यार्थियों को बेसिक शिक्षा की पाठ्यपुस्तकें एव अन्य आवश्यक वस्तुएं वितरित की जाएगी।

वर्तमान समय में वैश्विक स्तर पर कोविड 19 कोरोना ने पूरे विश्व को अपने जाल में जकड़ लिया है। आम जनता से लेकर विश्व की प्रसिद्ध वैज्ञानिक संस्थाएं एवं WHO भी कोरोना को लेकर चिंतित है ऐसे में आम जनता को रोजी-रोटी एवं गरीब परिवारों को मूलभूत आवश्यकताएं रोटी, कपड़ा, मकान के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है।

संपूर्ण शैक्षणिक संस्थाएं बन्द हैं, ऐसे विकट परिस्थितियों में सुदूरवर्ती ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यार्थियों को पढ़ाई की मुख्य धारा से जोड़कर रखना एक बड़ी चुनौती है विशेष कर जिन विद्यार्थियों के पालक अशिक्षित हैं वहाँ यह स्थति और भी भयावह है। ऐसे में ग्राम अड़वाड़ा के युवाओं ने एक कदम गांव की ओर श्लोगन पर चलकर अपने छोटे -छोटे भाई-बहनों को शिक्षा से जोड़े रखने के लिए बैठक आयोजित कर विचार मंथन कर निर्णय लिया गया कि शिक्षा की डोर को संजोए रखने के लिए हमें हमारे साथियों को ही प्रेरित करना चाहिए इस हेतु वर्ष 2019-20 की कक्षा 10th एवं 12 वीं में जिन छात्र – छात्राओं ने गांव में प्रथम, द्वितीय, तृतीय स्थान प्राप्त किया है उन्हें सम्मानित करने का निर्णय लिया ताकि उन्हें देख कर अन्य छात्रों में जिज्ञासा और प्रेरणा मिले इसलिए आदिवासी दिवस के अवसर पर ग्राम की प्रतिभा का चयन हो चुका है, उन्हें सम्मानित किया जायेगा। साथ ही साथ आंगनबाड़ी केंद्रों में दर्ज एवं कक्षा 8वीं तक के सभी विद्यार्थियों को निःशुल्क पहाड़ा पट्टी, पेन, पेन्सिल, रबड़, सोपनर, स्केल सहित आदि आवश्यक सामग्री का वितरण ग्राम के अधिकारी एवं कर्मचारी के सहयोग से किया जाएगा।
गांव की संपूर्ण जवाबदेही गांव के पटेल, पुजारा, सरपंच एवं गांव चौकीदार की होती है इसलिए समिति ने निर्णय लिया हे की गाँव पंच एव गाँव के रिटायर्ड कर्मचारियों को भी सम्मानित करेंगे।एव गाँव मे हरियाली होगी तभी खुशहाली होगी इस श्लोगन को मूर्त रूप देने के लिए प्रत्येक परिवार को पौधे भेंट किये जायेंगे और उनकी देख रेख एव प्रत्येक बच्चे को स्कूल भेजने का संकल्प दिलाया जायेगा इस कार्य को मूर्त देने के लिए वोलेंटियर्स के रूप में 150 युवाओं की फौज तैयार कर ली गई है जिनके लिए विशेष टीशर्ट बनवाई जा रही है साथी इन युवाओ को कोरोना काल मे सोशल डिस्टेंन एव आवश्यक उपाय हेतु प्रशिक्षित भी किया जा रहा है जो अपनी आदिवासी भाषा मे गाँव के हर आदमी तक सन्देश पहुँच सके।

Leave a Reply