आजाद अध्यापक शिक्षक संघ ने मनाया चंद्रशेखर आजाद जयंती

देश, राज्य, समाज

पीयूष मिश्रा, ब्यूरो चीफ, सिवनी (मप्र), NIT:

आजाद अध्यापक शिक्षक संघ जिला सिवनी ने देश के वीर सपूत, सच्चे देश भक्त अदम्य साहस व बलिदान के प्रतीक महापुरुष चंद्रशेखर आजाद की जयंती 23 जुलाई 2020 को प्रदेश सहित जिले के सभी ब्लाकों में मानायी गई।
वतर्मान में कोविड 19 की परिस्थियों को घ्यान में रखकर आजाद जयंती के कार्यक्रम को सीमित सांकेतिक रूप से जिले के सभी ब्लॉक में संघ के साथियों ने मनाया।
सिवनी ब्लॉक में हुए कार्यक्रम में शामिल हुए संघ के जिला अध्यक्ष कपिल बघेल ने अपनी बात रखते हुए कहा कि महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद का संघर्ष व बलिदान देश को दिशा देने में आज भी उतना ही प्रासंगिक है जितना आजादी के संघर्ष में था। आजाद का संघर्ष आज भी हमें सही मार्ग में चलने के लिये प्रेरित करता है। इस वीर क्रन्तिकारी के जीवन चरित्र से प्रेरित ही प्रदेश के लाखों अध्यापकों ने अपने संघ का नाम आजाद अध्यापक शिक्षक संघ रखा और इसी नाम से प्रेरित होकर प्रदेश के अध्यापकों शिक्षकों ने अपनी मांगों के संघर्ष में सफलता प्राप्त किया।

संगठन के महत्व पर बात करते हुये सभी पदाधिकारियों ने अपनी बात रखते हुए कहा कि आज भी अध्यापकों के बीच बहुत सी समस्याएं हैं, बहुत सी जगह समय पर वेतन नहीं मिल पा रहा है। शिक्षा विभाग में संविलियन के आज भी बहुत से अध्यापक साथी धक्के खा रहे हैं। जिले के जमीनी स्तर पर अधिकारियों द्वारा झूठे आरोप लागकर धमकार अध्यापकों का तरह तरह से शोषण किया जाता है, जो इस शोषण में नहीं फंसता उसको झूठे प्रतिवेदनों के माध्यम से निलंबित करवाने की कार्यवाही करवाई जाती है। 20-50 का नियम बना कर नौकरी छिनने का भय बनाया जा रहा है।
अध्यापकों साथियों ने इस अवसर पर कहा कि जिले के सभी अध्यापक शिक्षक शासन प्रशासन के हर आदेश का पालन पूरी ईमानदारी के साथ करते हैं किंतु हमें वैसी सुविधाएं प्रदान नहीं की जाती जैसी अन्य विभाग के कर्मचारियों को प्रदान की जाती हैं। वर्तमान के कोविड 19 की ड्यूटी में अध्यापकों को भी वही सुविधाएं प्रदान की जाए जो अन्य विभाग के कर्मचारियों को दी जाती हैं।
संघ के जिला अध्यक्ष ने अपनी बात रखते हुये कहा कि जिस प्रकार प्रदेश के अध्यापकों ने आजाद से प्रेरित होकर शिक्षा विभाग प्राप्त किया है एक दिन इन्हीं महापुरुष से प्रेरित होकर हम पुरानी पेंशन का हक भी शासन से लेकर रहेंगे। इसके लिये आजाद अध्यापक संघ के संशर्सशील साथियों ने आजाद की प्रतिमा के सामने संकल्प लिया कि देश के किसी राज्य ने पुरानी पेंशन लागू हो या न हो मध्य प्रदेश के किसी अन्य विभाग के कर्मचारियों को पुरानी पेंशन मिले या न मिले लेकिन आजाद अध्यापक शिक्षक संघ मध्य प्रदेश के अध्यापक शिक्षकों को पुरानी पेंशन दिलवा कर ही रहेगा।

इस अवसर पूरे जिले में सिबनी ब्लॉक से गनपत भलावी, अनिल धुर्वे, गजेंद्र पांडेय, सरदार बघेल, बरघाट से सुरेंद्र गौतम, प्रीतम ठाकुर, परमानाद टेम्भरे, गणेश गौतम, कंहीबाड़ा से निर्मल भगत, कैलाश भैरम ॐ प्रकाश नारेती, घंसौर से हीरेन्द्र श्रीवास्तव, शैलू दीक्षित अविनाश सक्सेना, लखनादौन से गजेंद्र परवारी, जुगल नेमा, घनश्याम श्रीवास्तव, केवलारी से जगदीश साहू, शेर सिंह बघेल, योगेश मानेश्वर, जगदेव नागेश्वर, कुरई से बसंत बघेल, प्रताप सिंह, नरेंद्र ठाकरे, गणेश टेम्भरे, छपारा से राजकुमार डहेरिया, उमा शंकर पाठक, रमाकान्त बेलिया, अजय गजभिये आदि प्रमुख रूप से शामिल रहे।

Leave a Reply