अकबरपुर नगरपालिका और पुलिस शहर की अतिक्रमण व्यवस्था को दुरुस्त करने में दिख रही है नाकाम

देश, राज्य, समाज

गणेश मौर्य, ब्यूरो चीफ, अंबेडकर नगर (यूपी), NIT:

अकबरपुर के शहजादपुर शहर मार्केट में व्यापारियों ने दोनों तरफ की सड़क को पूरी तरह अतिक्रमण कर रखा है जिससे आने जाने वाले लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
शहर में सड़कों पर अतिक्रमण होने से आए दिन जाम के हालात बन जाते हैं। राहगीरों, वाहन चालकों को मिनटों का सफर घंटों में तय करना पड़ता है। इसी मुसीबत को दूर करने के लिए नगर पालिका ने लाखों के बजट से शहजादपुर की सड़क को चौड़ीकरण करवाया उसके बावजूद भी हालत में कोई बदलाव नहीं हुआ।
शहर के अंदरूनी हिस्से की यातायात व्यवस्था चरमरा गई है। सड़कों पर दुकानदारों द्वारा अतिक्रमण करने और यातायात पुलिस की अनदेखी के चलते लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बाजार के हालत इतने खराब है कि चौड़ी सड़कें दुकानें खुलते ही सिकुडऩे लगती है। दोनों ओर के दुकानदार सड़कों को ही शोरूम बना देते हैं। आधी से ज्यादा सड़क पर सामान रख दिया जाता है।
बाकी सड़क पर दुकानदार और ग्राहकों के वाहन खड़े हो जाते हैं। ऐसे में राहगीरों और वाहन चालकों के हिस्से बमुश्किल एक चौथाई सड़क ही आती है। बाजार क्षेत्र में सुबह से लेकर देर रात यातायात में अवरोध पैदा होने से राहगीर परेशान हैं। शहर के व्यस्ततम क्षेत्रों में शुमार शहजादपुर मंडी से सराफा शहजाद पुर तिराहे फुहारे तक जाम की स्थिति खचाखच रहती है।इस मार्ग पर किराना, स्टेशनरी, धार्मिक सामग्री, मेडिकल, स्कूल सामग्री, कपड़ा सहित अन्य जरूरी सामानों की दुकानें हैं। दुकानदारों ने रोडो के जरिए तो कई दुकान सामान और शोकेस के लिए सड़कों पर दुकान खुलते ही अतिक्रमण कर लेते हैं। यहां आने वाले लोग भी सड़कों पर ही गाड़ी खड़ी करके खरीदारी करते हैं। जिससे मार्ग पर सुबह 11 बजे से लेकर रात आठ बजे तक गहमा.गहमी बनी रहती है। इसी बीच यदि कोई चार पहिया वाहन या हाथठेला मार्ग पर आ जाता है तो यातायात ठप सा हो जाता है। यह स्थिति दिन में कई बार बन जाती है। जाम से विवाद की स्थिति तक बन जाती है। आने जाने वाले लोगों का कहना है कि
पुलिस और नपा की अनदेखी की वजह से हर दिन लोग परेशान हैं।
शहर के मुख्य शहजाद पुर मंडी की हालत सबसे ज्यादा खराब है। इसके आसपास के कुछ दुकानदारों ने सड़क पर करीब 10 फीट तक कब्जा कर रखा है। कुछ दुकानदार तो ऐसे हैं कि दुकान का लगभग पूरा सामान ही सड़क पर रख देते हैं।और बीच सड़क पर गाड़ी खड़ी कर सामान की लोडिंग अनलोडिंग करवाते हैं। वह अपनी इनकम के आगे मार्केट की आवागमन व्यवस्था पूरी तरह बाधित कर देते हैं जिससे कि जाम की स्थिति और भी विकराल रूप ले लेती है और बची कसर हाथ ठेला चालक पूरी कर देते हैं।इसके अलावा सब्जी विक्रेता बाजार छोड़कर मुख्य सड़क पर दुकानें लगा रहे हैं।

Leave a Reply