पूर्व कैबिनेट मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात कर बुरहानपुर की समस्याओं से कराया अवगत

देश, राज्य, समाज

मेहलका अंसारी, बुरहानपुर (मप्र), NIT:

बुधवार को भोपाल में मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह जी चौहान से पूर्व कैबिनेट मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस (दीदी) ने मुलाकात करके बुरहानपुर के किसानों को हो रही परेशानियों एवं बिजली बिलों, कपड़ा उद्योग, पावरलूम उद्योग सहित अन्य समस्याओं एवं विषयों पर विस्तृत चर्चा की।
श्रीमती चिटनिस ने वर्ष 2019 में वितरित खरीफ फसल के ऋण की देय तिथि 20 जून 2020 तक बढ़ाने की मांग की और पत्र सौंपते हुए कहा कि वर्ष 2019 में वितरित खरीफ फसल ऋण की देय तिथि 31 मई 2020 निर्धारित की गई है। इस संदर्भ में विनम्र अनुरोध है कि कोरोना के कारण संपूर्ण देश और प्रदेश के साथ ही हमारे निमाड़ क्षेत्र का जनजीवन भी अस्त-व्यस्त हो गया है। यहां लगभग पिछले 15 दिनों से कर्फ्यू लगा हुआ है और जिस गति से बुरहानपुर क्षेत्र में कोरोना से संक्रमित पॉजिटिव मरीज मिल रहे हैं उससे कर्फ्यू आगे बढ़ने की संभावना बनी हुई है। पिछले दिनों किसान भाईयों को खरीफ की फसल गेहूं, चना और मक्का को खेत से तैयार करने में बहुत कठिनाईयों का सामना करना पड़ा साथ ही कृषि उपज मंडी में नीलामी बंद होने के कारण आज भी फसल बेचने में परेशानी हो रही है। क्षेत्र की प्रमुख फसल केले को भी देशभर में लॉकडाउन होने की वजह से उचित दाम नहीं मिल पा रहे हैं। किसानों को समर्थन मूल्य पर बेचे हुए गेहूं की राशि भी ऑनलाइन खातों में जमा होने के बावजूद राशि निकालने में कठिनाई आ रही है। निश्चित ही विपत्ति की इस घड़ी में आपके प्रयासों से किसानों के खातों में अभी-अभी फसल बीमा की राशि आना प्रारंभ हुई है। हमारे क्षेत्र में महामारी का प्रकोप इस कदर फैला हुआ है कि गांव-गांव में सोसायटियां बंद हो रही है और नगद लेनदेन पर प्रतिबंध लगाया हुआ है। किसान भाई चाह कर भी सोसायटी में जाकर पैसा जमा नहीं कर पा रहे है। यदि 31 मई के पूर्व सोसायटी का ऋण खाता चुकता नहीं हुआ तो किसान भाईयों को अतिरिक्त ब्याज देना होगा। अतः आपसे प्रार्थना है कि 31 मई की देय राशि को आगे बढ़ाते हुए 20 जून 2020 की जाए, जिससे हमारे क्षेत्र के हजारों किसान भाईयों को इसका लाभ मिलेगा। हमें आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है आप ने पूर्व में भी किसानों के हित में अनेक निर्णय लिए हैं, इसलिए अभी भी आप यह निर्णय अवश्य लेंगे।
पूर्व मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने कृषि सिंचाई उपकरणों का 31 मार्च 2020 तक लंबित देयक पर सब्सिडी जारी करने, ग्रामीण क्षेत्रों में शुरू किए गए राहत कार्यों में पानी रोकने हेतु किसानों के खेतों में मेड़बान्ध, खेतकुण्ड एक अभियान के रूप में लिया जाए की बात कही, जिससे खेतिहर मजदूरों के साथ किसानों को भी राहत मिल सके।
श्रीमती चिटनिस ने कोरोना कोविड-19 महामारी में ड्यूटी कर रहे वन विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों को मुख्यमंत्री कोविड-19 कोरोना योद्धा कल्याण में सम्मिलित किए जाने की बात कही। श्रीमती चिटनिस ने मुख्यमंत्री जी को उनके द्वारा किसानों के हित में लिए गए अनेक निर्णयों एवं कोरोना कोविड-19 महामारी में सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यों के लिए धन्यवाद ज्ञापित किया।

Leave a Reply