हिन्दू और मुस्लिमों ने मिल कर प्रयागराज के फरिशते का किया सम्मान

देश, राज्य, समाज

अंकित तिवारी, ब्यूरो चीफ, प्रयागराज (यूपी), NIT:

झूंसी के रहने वाले मोहम्मद अनस की एक फेसबुक पोस्ट से दिल्ली मुस्तफाबाद की रहने वाली मन्जू सारस्वत को उनके दिल्ली में रहने वाले दोस्त मोमिन सैफी और शान अन्सारी ने अपनी जान की परवाह न करते हुए और विपरीत परिस्तिथों के बावजूद जहाँ हर तरफ आगज़नी लूट पाट और नफरत की चिंगारी भड़की हो ऐसे माहौल में सिर्फ बचाया ही नहीं बल्कि नफरत की खेती करने वालों को भी एक सबक़ दे दिया की जाको राखे साईयाँ मार सके न कोई, धर्म और जात पात से हठ कर इन्सानियत से बढ़ कर कोई मज़हब नहीं होता इसी चरितार्थ किया है मो० अनस ने। इस वक़्त मो०अनस पर जहाँ देश गर्व कर रहा है वहीं इलाहाबाद की गंगा जमुनी तहज़ीब की ज़िन्दा मिसाल बने मोहम्मद अनस की कारगुज़ारी से इलाहाबाद के हर अमन पसन्द शख्स को भी गर्व महसूस हो रहा है।सिविल लाईन्स स्थित एक रेस्टोरेन्ट में हिन्दू और मुस्लिमों ने मिल कर मोहम्मद अनस को फूल माला पहना कर सम्मानित किया और उनके बेहतरीन कार्य की सराहना की। शाहिद प्रधान ने उन्हें इलाहाबाद का फरिशता कह कर सम्बोधित किया। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार देश में हालात पैदा किये गए हैं, लोग साथ रहते हुए भी एक दूसरे के खून के प्यासे बन कर अपने साथी, अपने पड़ोसी और साथ पढ़ने तथा बचपन में साथ खेलने वाले दोस्तों को भी दूशमन वाली निगाह से देख रहे हैं ऐसे खराब माहौल में मोहम्मद अनस ने इन्सानियत को शर्मसार होने से बचा लिया। अतानू भटाचार्या ने उत्तर प्रदेश सरकार से प्रयागराज के गौरव मो०अनस को उनके इस महान कार्य पर ब्रेवरी अवार्ड से सम्मानित करने की मांग की ताकि और दूसरे लोग भी इस कार्य से प्रेणा लें और हमारे देश की संस्कृति को बल मिले। समाजसेवी हसन नक़वी ने सोशल मीडिया से दिल्ली की महिला की जान बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले मो०अनस को फूल माला पहनाते हुए बधाई दी और लोगों से ऐसे ही जज़बे के साथ हिन्दू और मुस्लिमों के बीच फैली नफरत की दिवार को गिराने में आगे आने की बात कही।

सम्मान करने वालों में शाहिद अब्बास, हसन नक़वी, सै०मो०अस्करी, अतानू भट्टाचार्या, शीराज़ रिज़वी, सूफी हसन, शादाँ रिज़वी, ज़ामिन हसन, विनोद हाण्डा, हसन दानिश, युनूस रज़ा, मो०खालिद एडो०, दिपक सिंह एडो०, सै०आबिद अली एडो०, मो०ओमैस, मो०शारिक़, मो०मोनिस, मनोज वर्मा, ओमराज, गांगुली वर्मा, आनन्द श्रीवास्तव, नितिन मिश्रा, नितिन चौरसिया आदि मौजूद थे।

Leave a Reply