दिल्ली में आम आदमी पार्टी का चला झाड़ू, कांग्रेस-बीजेपी साफ

देश, राजनीति, राज्य

Edited by Shaikh Nasim/Rahim Sherani, भोपाल/नई दिल्ली, NIT:

जैसा की उम्मीद की जा रही थी कि आम आदमी पार्टी तीसरी बार दिल्ली में सरकार बनाएगी वैसा ही आज वोटों की गिनती के रुझान आने के बाद इस बात पर मोहर लग गई की दिल्ली के लोगों ने धर्म जाति मंदिर मस्जिद के मुद्दों को छोड़ दिल्ली के विकास को वोट दिया। इससे ये साबित होता है की जनता को बार-बार बेवकूफ नहीं बनाया जा सकता हैं। दिल्ली वासियों ने भारत के सभी नागरिकों को यह संदेश दिया है की अपने वोट विकास-कार्य को दिए जाएं चाहे पार्टी व नेता कोई भी हो, जो काम करेगा वही राज करेगा।

आम आदमी पार्टी ने दिल्ली के विकास के मुद्दों पर चुनाव लड़ा और बम्पर जीत हासिल की, यह जीत दिल्ली में पिछले पाँच साल में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के द्वारा किए गए विकास कार्य का नतीजा है जो अरविंद केजरीवाल तीसरी मर्तबा दिल्ली के मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालेंगे।

दिल्ली का विधान सभा चुनाव भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस की दशा और दिशा तय करेगा भारतीय जनता पार्टी ने दिल्ली विधानसभा चुनाव में अपनी पूरी ताकत लगा दी थी। भाजपा की तरफ से स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह के साथ 200 सांसद, भारतीय जनता पार्टी की सरकार के पूरे मुख्यमंत्री सहित भाजपा के और बड़े दिग्गज नेता दिल्ली में डेरा डाले हुए थे लेकिन ये सभी मिलकर केजरीवाल रूपी दीवार को भेद नहीं पाए और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की आंधी ने भाजपा और कांग्रेस दोनों की धज्जियां उड़ा के रख दी और दिल्ली में 70 सीटों में से 62 सीटे जीत सरकार बनाने का दावा ठोंक दिया।

पिछले विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को 67 सीटों पर जीत हासिल हुई थी और 3 सीटें भाजपा ने जीती थी लेकिन इस बार आप को 5 सीटों का नुकसान हुआ और भाजपा को 5 सीटों का फायदा लेकिन कांग्रेस पिछले चुनाव की तरह इस चुनाव में भी खाली हाथ मलती रह गई क्योंकि कांग्रेस के पास सही नेतृत्व नहीं था और मुख्यमंत्री का कोई चेहरा भी नहीं था। दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष ने पार्टी की हार की ज़िम्मेदारी लेते हुए अपने इस्तीफे की पेशकश पार्टी के आला कमान के सामने पेश कर दी है।

इसी तरह भाजपा नेताओं के चुनाव प्रचार के दौरान बिगड़े बोल भाजपा को ले डूबा, भाजपा के सांसद प्रवेश वर्मा ने एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि दिल्ली में भाजपा की सरकार अगर आती हैं तो सरकारी जमीन पर बनी मस्जिदें, मज़ार और कब्रस्तान एक महीने में हटा दिए जाएंगे और शाहीन बाग में सीएए और एनआरसी के विरोध में प्रदर्शन कर रहे लोगो को वहां से भगा दिया जाएगा। इसी तरह भाजपा के केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने अपने बयान में प्रचार के दौरान कहा था की “देश के गद्दारों को गोली मारो सालों को” बहुत चर्चित रहा था लेकिन दिल्ली वासियों ने तो भाजपा के खिलाफ वोट करके इनको ही गोली मार दी। भारत के गृहमंत्री अमित शाह ने दिल्ली में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था की आप लोग कमल का बटन ज़ोर से दबाना ताकि उसका करंट शाहीन बाग पहुंच जाए लेकिन दिल्ली वासियों ने झाड़ू का बटन इतनी ज़ोर से दबा दिया जिसके झटके भाजपा मुख्यालय तक पहुंच गए। बहरहाल दिल्ली वासियो ने और आम आदमी पार्टी ने ये साबित कर दिया की जो विकास करेगा वो राज करेगा।

Leave a Reply