एसएसबी ने क्रोना वायरस से बचने के लिए जवानों को किया जागरूक

देश, राज्य, स्वास्थ्य

फराज़ अंसारी, ब्यूरो चीफ, बहराइच (यूपी), NIT:

42वीं वाहिनी सशस्त्र सीमा बल मुख्यालय अगईया नानपारा के परिसर में कमांडेंट प्रवीण कुमार की अध्यक्षता में क्रोना वायरस से बचने के लिए सैनिक सम्मेलन का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत उप कमांडेंट शैलेश कुमार ने की।
कमांडेंट प्रवीण कुमार ने बताया कि उच्च मुख्यालय का आदेश प्राप्त होती है वाहिनी की सभी सीमा चौकियों के प्रभारी व जवानों को बुलाकर सैनिक सम्मेलन के माध्यम से क्रोना वायरस से बचने के लिए सुझाव दिए गए कि भारत समेत दुनिया के कई अन्य देशों में एक नए वायरस क्रोना वायरस का खतरा मंडराने लगा है। यह वायरस तेजी से फैल रहा है। इस नए वायरस की पहचान चीन में हुई और अब यह वायरस पूरी दुनिया में फैलने लगा है। चीन में लगभग 4500 लोग इसकी चपेट में हैं और यह वायरस भारत में भी अपने पैर पसार सकता है। ख़ास बात यह है कि यह वायरस न केवल इंसानों बल्कि पशुओं को भी अपना शिकार बना रहा है।

उसके बाद वाहिनी के उप-कमांडेंट चिकित्सीय डॉक्टर नवीन ने जवानों को क्रोना वायरस के लक्षण व उससे बचने के उपाय बताएं।
लक्षण: इस वायरस से संक्रमित व्यक्ति को सांस लेने में दिक्कत होती है, सिर दर्द, गले में दर्द, जुकाम खांसी, बुखार आना, यह बुखार निमोनिया बन सकता है और निमोनिया किडनी से जुड़ी कई तरह की दिक्कतों को बढ़ा सकता है।
इससे बचने के उपाय: अपने हाथ साबुन और पानी या अल्कोहल युक्त हैड रब से साफ करें। खासते या छींकते वक्त अपने नाक और मुंह को टिशू या मुड़ी हुई कोनी से ढकें, जिन्हें सर्दी या फ्लू जैसे लक्षण हों उनके साथ करीबी संपर्क बनाने से बचें। मीट और अंडों को अच्छे से पकाएं, बीमार लोगों की देखभाल के दौरान अपनी सुरक्षा का ध्यान रखें, अपनी नाक और मुंह को कवर करके रखें,
जंगल और खेतों में रहने वाले जानवरों के साथ असुरक्षित संपर्क न बनाएं।

उसके बाद कमांडेंट प्रवीण ने बताया कि सीमा चौकी रूपईडीहा में डॉक्टरों की एक टीम भी मौजूद है जो संदिग्ध व्यक्तियों की जांच करती है जिनमें क्रोना वायरस का होने की आशंका या चीन से आने का शक हो तथा ख़ासतौर से काठमांडू से आने वाले लोगों की जांच करते हैं।
उसके बाद सीमा चौकियों से आए सभी प्रभारी प्रभारियों को निर्देश दिए कि अनजान व्यक्ति से हाथ मिलाने से परहेज़ करें तथा यहां से वापस जाकर सीमा पर सभी सीमावर्ती लोगों को क्रोना वायरस के प्रति जागरूक करें तथा यहां डॉक्टर नवीन के द्वारा बताई बातों को उनको भी बताएं जो जवान इस सम्मेलन में नहीं आ सके।
इस सम्मेलन में सहायक कमांडेंट सुकुमार देव वर्मा सहायक, कमांडेंट जगजीत बहादुर जगवार, सहायक कमांडेंट लालजी गरवा, सहायक कमांडेंट के.डी कामले व निरीक्षक जेके त्रिपाठी सहित सभी जवान उपस्थित रहे।

Leave a Reply