आयुर्वेद को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार हर संभव प्रयास कर रही है: मंत्री डॉ. गोविन्द सिंह

देश, राज्य

पवन परूथी/गुलशन परूथी, ग्वालियर (मप्र), NIT:

प्रदेश के सहकारिता, संसदीय कार्य एवं सामान्य प्रशासन विभाग के मंत्री डॉ. गोविन्द सिंह ने कहा कि आयुर्वेद उपचार की प्राचीन पद्धति है। इसे प्रदेश में बढ़ावा देने हेतु राज्य सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। आयुर्वेद चिकित्सकों का भी दायित्व है कि आयुर्वेद का पुराना वैभव प्राप्त हो, इस दिशा में उन्हें कार्य करने की आवश्यकता है। जिससे उपचार की इस प्राचीन पद्धति का अधिक से अधिक लोगों को लाभ मिल सके।

डॉ. गोविन्द सिंह रविवार को जीवाजी विश्वविद्यालय ग्वालियर के गालव सभागार में मध्यप्रदेश राजपत्रित आयुष चिकित्सा अधिकारी संघ द्वारा आयोजित वैज्ञानिक संगोष्ठी एवं प्रांतीय अधिवेशन को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश के पशुपालन, मछुआ कल्याण एवं मत्स्य विकास मंत्री श्री लाखन सिंह यादव ने की। कार्यक्रम में विधायक श्री मुन्नालाल गोयल विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थे।
कार्यक्रम में संघ के संरक्षक डॉ. कैलाश पवार, पूर्व प्रांत अध्यक्ष डॉ. महेश शर्मा, प्रांत अध्यक्ष डॉ. ओ पी शर्मा सहित प्रदेश भर से आए आयुष चिकित्सकगण उपस्थित थे। इस मौके पर मंत्रिगणों द्वारा वरिष्ठ आयुर्वेद चिकित्सकों का शॉल-श्रीफल एवं पुष्पाहार से सम्मान किया गया। इस अवसर पर प्रकाशित स्मारिका का विमोचन कर संघ द्वारा अतिथियों को स्मृति चिन्ह प्रदाय किए गए।
डॉ. गोविन्द सिंह ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि आयुर्वेद उपचार की प्राचीन पैथी है। आयुर्वेद में बीमारी को ठीक होने में समय जरूर लगता है लेकिन बीमारी जड़ से समाप्त होती है। इस आयुर्वेद विषय पर विश्व में विभिन्न स्तरों पर अनुसंधान किया जा रहा है। प्रदेश में भी आयुर्वेद को बढ़ावा देने हेतु हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि महाभारत एवं रामायणकाल में भी आयुर्वेद में उपचार का उल्लेख किया गया है। भारत प्राचीनकाल से ही ज्ञान, संस्कार एवं चिकित्सा उपचार के क्षेत्र में आगे रहा है। लेकिन विदेशी आक्रमण के कारण इसमें कमी आई है। आयुर्वेद के इस वैभव को पुन: अर्जित करने की आवश्यकता है। इसके लिए आयुर्वेद के विद्वान एवं चिकित्सक इस कार्य को पूर्ण कर सकते हैं।

डॉ. गोविन्द सिंह ने कहा कि आयुष अधिकारी संघ द्वारा जो मांग पत्र दिया गया है उनमें ऐसी मांगे जिन पर राज्य सरकार को वित्तीय बोझ नहीं पड़ेगा, उन मांगों को शासन स्तर पर पहल कर पूर्ण कराने में हर संभव सहयोग दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने निर्णय लिया है कि प्रदेश में खुलने वाले उद्योग धंधे एवं कारखानों के लिए सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाने के साथ इनमें प्रदेश के बेरोजगारों को 70 प्रतिशत पदों पर रोजगार भी देना होगा।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए पशुपालन मंत्री श्री लाखन सिंह यादव ने कहा कि संघ द्वारा जो 16 सूत्रीय मांग प्रस्तुत किया गया है उन मांगों पर शासन स्तर पर चर्चा कर जो मांग स्वीकृत योग्य होगी उन्हें स्वीकृत कराने में उनके द्वारा हर संभव सहयोग दिया जायेगा। विधायक श्री मुन्नालाल गोयल ने अपने उदबोधन में कहा कि एलोपैथी उपचार की महंगी पद्धति होने के कारण गरीब वर्ग उपचार के लिए आयुर्वेद पर निर्भर है। आयुर्वेद को बढ़ावा देने हेतु प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में एक-एक आयुर्वेद औषधालय शुरू करने की आवश्यकता है, जिससे आम जनता को उपचार का लाभ मिल सके। कार्यक्रम के शुरू में संघ के संरक्षक डॉ. कैलाश पवार ने मांग पत्र प्रस्तुत किया। संघ के पूर्व अध्यक्ष डॉ. महेश शर्मा ने स्वागत भाषण दिया। कार्यक्रम का शुभारंभ भगवान धनवंतरी के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। कार्यक्रम का संचालन डॉ. शुक्ला ने किया।

Leave a Reply