साक्री में किसानों का हल्लाबोल: संकटमोचक मंत्री की गैरहाजरी में मुख्यमंत्री के काफिले पर फेंके प्याज

देश, राजनीति, राज्य

अब्दुल वाहिद काकर, ब्यूरो चीफ, धुले (महाराष्ट्र), NIT:

कांग्रेसियों की भाजपा में मेगा भरती वाले जामनेर पैटर्न के कारण बागियों की प्रचंड बगावत का सामना कर रही भाजपा-शिवसेना महा गठबंधन के आधिकारिक प्रत्याशियों का प्रचार करने सडकों की खाक छान रहे सूबे के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को आज धुलिया के शिरपुर रैली के दौरान साक्री में प्याज उत्पादक किसानों के भारी असंतोष का सामना करना पड़ा है। रैली के दौरान साक्री में 4 अज्ञात किसानों ने मुख्यमंत्री की वाहन पर प्याज और इंक फेंक कर सीएम का विरोध किया। मौके पर पहुंची पुलिस ने चार में से एक को गिरफ्तार किया है अन्य तीन फरार हो गए हैं। सूत्रों के अनुसार साक्री पुलिस स्टेशन में चार व्यक्तियों के खिलाफ एफआइआर दर्ज करने का काम शुरू था।

साक्री की जनसभा को संबोधित करने के बाद मुख्यमंत्री वाहनों के काफिले के साथ गुजर रहे थे कि तभी प्याज के गिरते दामों से परेशान कसारे के धीरज देसले सहित तीन अज्ञात किसानों ने सीएम के वाहन पर प्याज और काली स्याहि से हमला बोल दिया जिसमें सीएम को कोई चोट नहीं आई है। आश्चर्य की बात यह है कि बागियों को शांत कराने में विफ़ल रहे और संकटमोचक के तमगे से नवाजे जा चुके सीएम के चाहते सहयोगी गिरीश महाजन इस कठीन समय मुख्यमंत्री के साथ नहीं थे।

इस मामले में पुलिस ने एक किसान को हिरासत में लिया और अन्य तीन की तलाश जारी है। ज्ञात हो कि लोकसभा चुनाव से पूर्व में भी इसी तरह से भाजपा सांसद हिना गावित के साक्री आगमन पर सड़कों पर प्याज फेंक कर सांसद गावित को ग्रामीणों ने गांव में आने से रोकने का प्रयास किया था।

Leave a Reply