वाकडी गांव के ग्राम पंचायत सदस्य हुए अचानक लापता, तालाब के ही लावारिस मिली मोटरसाइकिल व खून के धब्बे, पिछले वर्ष महज बावड़ी में नहाने की बिना पर इनके नाबालिग भतीजों पर दबंगों ने किया था अमानवीय अत्याचार

अपराध, देश, राज्य

नरेंद्र इंगले, ब्यूरो चीफ, जलगांव (महाराष्ट्र), NIT:

जलगांव जिले के जामनेर तहसिल के वाकडी गांव में 10 जुन 2018 को अनुजाति के नाबालिगो के साथ महज निजी बावड़ी में नहाने के कारण दबंगों द्वारा कराए गए अमानवीय अत्याचार कि घटना सुर्खियों में आई थी अब एक बार फिर यह गांव सुर्खियों में है। इस बार अत्याचारित नाबालिगों के चाचा विनोद चाँदने जो कि ग्राम पंचायत के वर्तमान सदस्य भी हैं वह संदेहस्पद तरीके से अचानक लापता हो गए हैं।

जानकारी के मुताबीक 19 मार्च को विनोद जामनेर की ओर निकले थे और देर शाम एक तालाब के निकट उनकी मोटरसाईकिल लावारिस पड़ी हुई मिली और वहीं आसपास कुछ खून के धब्बे भी पाए गए जो आपसी झपटमारी के साक्ष्य दे रहे थे। यह देख वहां का माहौल बिगड गया। विनोद के भाई विजय लक्ष्मण चाँदने ने तत्काल पहुर कोतवाली में विनोद के लापता होने की तहरीर दर्ज करायी जो 11/19 नंबर से रजिस्टर कि गयी। चाँदने परीवार के आरोपों के मुताबिक गांव के दबंगों द्वारा विनोद का अपहरण कर किसी बडी वारदात को अंजाम दी गई है। पुलिस ने श्वान टीम बुलाकर घटनास्थल पर तफ्तीश की लेकिन कोई ठोस सबूत नहीं मिल पाया है।

पहुर कोतवाली के प्रभारी श्री डी के शिरसाठ ने बताया कि मामले को लेकर पुलिस संजीदगी से जांच में जुटी है। सूत्रों के मुताबीक विनोद के लापता होने के बाद पुलिस ने गांव के ही तीन संदिग्धों को पुछताछ के लिए कोतवाली तलब किया है। वहीं पीड़ित परिजनों द्वारा लगाए गए आरोपों को इस लिए बल मिल रहा है क्योंकि गांव के कुछ धन्नासेठ विनोद के लापता होने के बाद से गायब हैं। इस घटना से वाकडी गांव में तनाव का माहौल बना हुआ है और पीड़ित के परीजन भी काफ़ी भयभित हैं।

Leave a Reply